शाहीन बाग प्रदर्शन: S C ने कहा आप रास्ता नहीं रोक सकते, केन्द्र सरकार और पुलिस को जारी किया नोटिस

S C 1
शाहीन बाग प्रदर्शन: S C ने कहा आप रास्ता नहीं रोक सकते, केन्द्र सरकार और पुलिस को जारी किया नोटिस

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के खिलाफ देश की राजधानी दिल्ली के शाहीन बाग में करीब दो महीनों से प्रदर्शन चल रहा है। इस वजह से वहां का यातायात भी काफी बाधित हो रहा है। प्रदर्शनकारियों ने शाहीन बाग इलाके की सड़कें बंद कर रखी हैंं। हालांकि पुलिस लगातार समझाने का प्रयास कर रही है ​लेकिन लोग उठने को तैयार नही हैं। सड़कें बंद होने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई थी। सोमवार को सुनवाई के दौरान अदालत ने कहा कि आप रास्ता नहीं रोक सकते। एक कॉमन क्षेत्र में प्रदर्शन जारी नहीं रखा जा सकता है, हर कोई ऐसे प्रदर्शन करने लगे तो क्या होगा?

Shaheen Bagh Protest Sc Said You Cant Stop The Way Issued Notice To Central Government And Police :

जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस केएम जोसफ की बेंच ने इस मामले की सुनवाई के दौरान कहा कि यह धरना प्रदर्शन कई दिनों से चल रहा है। एक कॉमन क्षेत्र में यह जारी नहीं रखा जा सकता, वरना सब लोग हर जगह धरना देने लगेंगे। क्या आप पब्लिक एरिया को इस तरह बंद कर सकते हैं। क्या आप पब्लिक रोड को ब्लॉक कर सकते हैं। प्रदर्शन बहुत लंबे अरसे से चल रहा है और प्रदर्शन को लेकर एक जगह सुनिश्चित होनी चाहिए।

हालांकि सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता ने अंतरिम आदेश जारी करने की मांग की लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने कोई आदेश जारी नही किया। कोर्ट ने कहा कि वह लोग 58 दिनों से धरने पर हैं, आप एक हफ्ते और इंतजार कर सकते हैं। सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार, केंद्र सरकार और दिल्ली पुलिस को नोटिस जारी किया है। मामले की अगली सुनवाई 17 फरवरी को होगी।

आपको बता दें इस मामले में डाली गयी याचिका में कहा गया है कि लंबे समय से शाहीन बाग में चल रहे धरने से लोगों को बेहद परेशानी हो रही है। फिलहाल दिल्ली सरकार, पुलिस और केंद्र सरकार अब नोटिस का जवाब देगी। मामले की अगली सुनवाई के लिए 17 फरवरी तक का इंतजार करना होगा। आपको बता दें कि इस कानून के तहत पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के हिंदू, सिख, ईसाई, बौद्ध, जैन और पारसी नागरिकों को भारतीय नागरिकता देना आसान कर दिया गया है। इसमें मुस्लिमों को नही रखा गया साथ ही आने वाले समय में एनआरसी भी आने वाली है, इसी बात को लेकर विरोध किया जा रहा है।

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के खिलाफ देश की राजधानी दिल्ली के शाहीन बाग में करीब दो महीनों से प्रदर्शन चल रहा है। इस वजह से वहां का यातायात भी काफी बाधित हो रहा है। प्रदर्शनकारियों ने शाहीन बाग इलाके की सड़कें बंद कर रखी हैंं। हालांकि पुलिस लगातार समझाने का प्रयास कर रही है ​लेकिन लोग उठने को तैयार नही हैं। सड़कें बंद होने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई थी। सोमवार को सुनवाई के दौरान अदालत ने कहा कि आप रास्ता नहीं रोक सकते। एक कॉमन क्षेत्र में प्रदर्शन जारी नहीं रखा जा सकता है, हर कोई ऐसे प्रदर्शन करने लगे तो क्या होगा? जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस केएम जोसफ की बेंच ने इस मामले की सुनवाई के दौरान कहा कि यह धरना प्रदर्शन कई दिनों से चल रहा है। एक कॉमन क्षेत्र में यह जारी नहीं रखा जा सकता, वरना सब लोग हर जगह धरना देने लगेंगे। क्या आप पब्लिक एरिया को इस तरह बंद कर सकते हैं। क्या आप पब्लिक रोड को ब्लॉक कर सकते हैं। प्रदर्शन बहुत लंबे अरसे से चल रहा है और प्रदर्शन को लेकर एक जगह सुनिश्चित होनी चाहिए। हालांकि सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता ने अंतरिम आदेश जारी करने की मांग की लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने कोई आदेश जारी नही किया। कोर्ट ने कहा कि वह लोग 58 दिनों से धरने पर हैं, आप एक हफ्ते और इंतजार कर सकते हैं। सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार, केंद्र सरकार और दिल्ली पुलिस को नोटिस जारी किया है। मामले की अगली सुनवाई 17 फरवरी को होगी। आपको बता दें इस मामले में डाली गयी याचिका में कहा गया है कि लंबे समय से शाहीन बाग में चल रहे धरने से लोगों को बेहद परेशानी हो रही है। फिलहाल दिल्ली सरकार, पुलिस और केंद्र सरकार अब नोटिस का जवाब देगी। मामले की अगली सुनवाई के लिए 17 फरवरी तक का इंतजार करना होगा। आपको बता दें कि इस कानून के तहत पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के हिंदू, सिख, ईसाई, बौद्ध, जैन और पारसी नागरिकों को भारतीय नागरिकता देना आसान कर दिया गया है। इसमें मुस्लिमों को नही रखा गया साथ ही आने वाले समय में एनआरसी भी आने वाली है, इसी बात को लेकर विरोध किया जा रहा है।