कवरेज के लिए पहुंचे पत्रकार को रेलवे पुलिस ने बेरहमी से पीटा, डीजीपी ने लिया एक्शन

d

शामली। उत्तर प्रदेश के शामली जनपद में रेलवे पुलिस का बेरहम चेहरा सामने आया है। रेलवे पुलिस पर पत्रकार को जानवरों की तरह पीटने का आरोप है। पत्रकार पटरी से उतरी ट्रेन की कवरेज करने पहुंचा था। तभी रेलवे पुलिस ने पत्रकार की पिटाई। पत्रकार का कैमरा भी तोड़ दिया। पत्रकार का आरोप है की जीआरपी के जवानों ने उसे जेल में बंद किया और कपड़े उताकर पीटा और पेशाब भी पिलाया।

Shamli Grp Has Beaten Journalist Sho And Constable Suspended :

मामले के सामने आने के बाद ऱेलवे पुलिस के एसएचओ और कॉन्स्टेबल को सस्पेंड किया गया है। मामले को बढ़ता हुए देख एसपी जीआरपी मुरादाबाद को मौके पर पहुंचने के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही 24 घंटे में एसपी मुरादाबाद से रिपोर्ट तलब करने के कहा गया है।

जानकारी के मुताबिक ये सब कुछ शामली में जीआरपी के एसएचओ राकेश कुमार की मौजूदगी में हो रहा था। पत्रकार का आरोप है इस दौरान जीआरपी पुलिस के एसएचओ के इशारे पर उन्हें बुरी तरह मारा गया। उन्हें थाने लाकर जेल में बंद कर दिया गया। उनके कपड़े उतारकर पीटा गया।

पीडि़त पत्रकार का कहना है कि ट्रेन डिरेल होने की सूचना मिली तो वह तत्काल मौके पर पहुंच कर हादसे की खबर कवरेज करने लगे। जब वह अपना कैमरा चला रहे थे उसी दौरान एसओ राकेश कुमार भी मौके पर आ गए और खबर कवरेज करने का विरोध करने लगे।

इसके बाद एसओ राकेश कुमार का पारा सातवें आसमान पर चढ़ गया और उन्होंने पत्रकार के साथ अभद्र व्यवहार करते हुए उसके कैमरे पर हाथ मार मारपीट शुरू कर दी। इस दौरान पत्रकार का कैमरा टूट गया लेकिन दबंग एसओ यही नहीं रुका बल्कि अपने अन्य छह पुलिसकर्मियों के साथ मिलकर पत्रकार को घेर लिया और जान से मारने की नीयत से एक के बाद एक कई थप्पड़ जड़ दिए और लात घुसे मारते हुए थाने तक ले गए।

शामली। उत्तर प्रदेश के शामली जनपद में रेलवे पुलिस का बेरहम चेहरा सामने आया है। रेलवे पुलिस पर पत्रकार को जानवरों की तरह पीटने का आरोप है। पत्रकार पटरी से उतरी ट्रेन की कवरेज करने पहुंचा था। तभी रेलवे पुलिस ने पत्रकार की पिटाई। पत्रकार का कैमरा भी तोड़ दिया। पत्रकार का आरोप है की जीआरपी के जवानों ने उसे जेल में बंद किया और कपड़े उताकर पीटा और पेशाब भी पिलाया। मामले के सामने आने के बाद ऱेलवे पुलिस के एसएचओ और कॉन्स्टेबल को सस्पेंड किया गया है। मामले को बढ़ता हुए देख एसपी जीआरपी मुरादाबाद को मौके पर पहुंचने के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही 24 घंटे में एसपी मुरादाबाद से रिपोर्ट तलब करने के कहा गया है। जानकारी के मुताबिक ये सब कुछ शामली में जीआरपी के एसएचओ राकेश कुमार की मौजूदगी में हो रहा था। पत्रकार का आरोप है इस दौरान जीआरपी पुलिस के एसएचओ के इशारे पर उन्हें बुरी तरह मारा गया। उन्हें थाने लाकर जेल में बंद कर दिया गया। उनके कपड़े उतारकर पीटा गया। पीडि़त पत्रकार का कहना है कि ट्रेन डिरेल होने की सूचना मिली तो वह तत्काल मौके पर पहुंच कर हादसे की खबर कवरेज करने लगे। जब वह अपना कैमरा चला रहे थे उसी दौरान एसओ राकेश कुमार भी मौके पर आ गए और खबर कवरेज करने का विरोध करने लगे। इसके बाद एसओ राकेश कुमार का पारा सातवें आसमान पर चढ़ गया और उन्होंने पत्रकार के साथ अभद्र व्यवहार करते हुए उसके कैमरे पर हाथ मार मारपीट शुरू कर दी। इस दौरान पत्रकार का कैमरा टूट गया लेकिन दबंग एसओ यही नहीं रुका बल्कि अपने अन्य छह पुलिसकर्मियों के साथ मिलकर पत्रकार को घेर लिया और जान से मारने की नीयत से एक के बाद एक कई थप्पड़ जड़ दिए और लात घुसे मारते हुए थाने तक ले गए।