Shani Amavasya 2019: आज है शनि अमावस्या, शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए इन चीजों का करें दान

Shani Amavasya 2019: आज है शनि अमावस्या, शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए इन चीजों का करें दान
Shani Amavasya 2019: आज है शनि अमावस्या, शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए इन चीजों का करें दान

लखनऊ। शनिदेव को भाग्यविधाता और न्याय का देवता माना जाता हैं। इस बार शनि अमावस्या 4 मई यानि आज के दिन पड़ रही है। शनिवार को पड़ रही अमावस्या को शनि या शनैश्चरी अमावस्या भी कहा जाता है। इस दिन सूर्य पुत्र शनिदेव की पूजा-अर्चना करने से सुख-समृद्धि प्राप्त होती है और कर्मक्षेत्र में सफलता प्राप्त होती है। आज शनि अमावस्या के मौके पर जाने किन चीजों के दान से प्रसन्न होंगे शनिदेव….

Shani Amavasya 2019 Worship Of Shani Dev Know Puja Vidhi :

ऐसे करें पूजा

  • सबसे पहले सुबह उठकर स्नान करें।
  • इसके बाद मंदिर में जाकर शनिदेव की पूजा करें।
  • शनि देव की पूजा करते समय हमेशा सरसों के तेल का दीया जलाएं।
  • शनिदेव को नीले फूल अर्पित करने से भी वो शीध्र प्रसन्न होते हैं।

इन चीजों का करें दान

  • शनि अमावस्या के दिन काली उड़द काले जूते, काले वस्त्रन, काली सरसों का दान करें।
  • 800 ग्राम तिल तथा 800 ग्राम सरसों का तेल दान करें।
  • काले कपड़े, नीलम का दान करें।
  • हनुमानजी को चोला चढ़ाएं।
  • हनुमान चालीसा का अधिक से अधिक दान करें।
  • काले कपड़े में सवा किलोग्राम काला तिल भर कर दान करें।
  • पीपल के वृक्ष पर सात प्रकार के अनाज चढ़ाकर बांट दें।
लखनऊ। शनिदेव को भाग्यविधाता और न्याय का देवता माना जाता हैं। इस बार शनि अमावस्या 4 मई यानि आज के दिन पड़ रही है। शनिवार को पड़ रही अमावस्या को शनि या शनैश्चरी अमावस्या भी कहा जाता है। इस दिन सूर्य पुत्र शनिदेव की पूजा-अर्चना करने से सुख-समृद्धि प्राप्त होती है और कर्मक्षेत्र में सफलता प्राप्त होती है। आज शनि अमावस्या के मौके पर जाने किन चीजों के दान से प्रसन्न होंगे शनिदेव.... ऐसे करें पूजा
  • सबसे पहले सुबह उठकर स्नान करें।
  • इसके बाद मंदिर में जाकर शनिदेव की पूजा करें।
  • शनि देव की पूजा करते समय हमेशा सरसों के तेल का दीया जलाएं।
  • शनिदेव को नीले फूल अर्पित करने से भी वो शीध्र प्रसन्न होते हैं।
इन चीजों का करें दान
  • शनि अमावस्या के दिन काली उड़द काले जूते, काले वस्त्रन, काली सरसों का दान करें।
  • 800 ग्राम तिल तथा 800 ग्राम सरसों का तेल दान करें।
  • काले कपड़े, नीलम का दान करें।
  • हनुमानजी को चोला चढ़ाएं।
  • हनुमान चालीसा का अधिक से अधिक दान करें।
  • काले कपड़े में सवा किलोग्राम काला तिल भर कर दान करें।
  • पीपल के वृक्ष पर सात प्रकार के अनाज चढ़ाकर बांट दें।