1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Shani Pradosh fast : भाद्रपद का दूसरा शनि प्रदोष व्रत इस दिन है,भगवान शिव की उपासना के लिए समय उत्तम है

Shani Pradosh fast : भाद्रपद का दूसरा शनि प्रदोष व्रत इस दिन है,भगवान शिव की उपासना के लिए समय उत्तम है

प्रदोष व्रत शिव उपासना के उत्तम माना जाता है। यह व्रत तब अत्यन्त फलदायी हो जाता है जब शनिवार का दिन हो। जब त्रयोदशी तिथि के साथ शनिवार का दिन भी हो तो इसे शनि प्रदोष व्रत कहते हैं।

By अनूप कुमार 
Updated Date

शनि प्रदोष व्रत: प्रदोष व्रत शिव उपासना के उत्तम माना जाता है। यह व्रत तब अत्यन्त फलदायी हो जाता है जब शनिवार का दिन हो। जब त्रयोदशी तिथि के साथ शनिवार का दिन भी हो तो इसे शनि प्रदोष व्रत कहते हैं। भाद्रपद मास का अंतिम प्रदोष व्रत 18 सितंबर को है। इस दिन शनिवार होने के कारण शनि प्रदोष व्रत है।मास के हर त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत रखा जाता है और प्रदोष काल में भगवान शिव की विधि पूर्वक उपासना की जाती है।

पढ़ें :- अश्विन मास प्रदोष व्रत 2021: अक्टूबर माह के अंतिम प्रदोष व्रत में करें शिव की पूजा, सुख-समृद्धि व निरोगी काया की होती हैप्राप्ति

हिंदू पंचाग के अनुसार हर माह में दो प्रदोष व्रत होता है। संयोग से भाद्रपद मास का दोनों प्रदोष व्रत शनि प्रदोष है। भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष का प्रदोष व्रत भी 4 सितंबर शनिवार को पड़ा था। तथा इसका दूसरा या अंतिम प्रदोष व्रत 18 सितंबर दिन शनिवार को पड़ेगा।

शनि शुक्ल प्रदोष व्रत- 18 सितंबर 2021 शनिवार को

जिस दिन त्रयोदशी तिथि प्रदोष काल के समय व्याप्त होती है, उसी दिन प्रदोष का व्रत किया जाता है. प्रदोष व्रत की पूजा प्रदोष काल में करना उत्तम होता है। प्रदोष काल सूर्यास्त से प्रारम्भ हो जाता है।

पढ़ें :- Sharad Purnima 2021: शरद पूर्णिमा पर करें मां लक्ष्मी की पूजा, जानें शुभ मुहूर्त
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...