शरद पवार ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा-मतदाताओं को हल्के में न लें, इंदिरा और अटल भी हारे थे चुनाव

shard pawar
शरद पवार ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा—मतदाताओं को हल्के में न लें, इंदिरा और अटल भी हारे थे चुनाव

मुंबई। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष शरद पवार ने बीजेपी पर निशाना साधा। इस दौरान उन्होंने कहा कि राजनेताओं को अपने मतदाताओं को हल्के में नहीं लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि यहां पर शक्तिशाली नेता इंदिरा गांधी और अटल बिहारी वाजपेयी भी चुनाव हार चुके हैं।

Sharad Pawar Targeted Bjp Said Do Not Take Voters Lightly Indira And Atal Also Lost Elections :

महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस के पिछले साल के विधानसभा चुनाव के दौरान ‘मी पुन: येन’ (मैं दोबारा आउंगा) के राग की आलोचना करते हुए, शरद पवार ने कहा कि मतदाताओं ने सोचा कि इस रुख में अहंकार की बू आ रही है और महसूस किया कि इन्हें सबक सिखाया जाना चाहिए। शरद पवार ने कहा कि सत्तारूढ़ महा विकास आघाडी के सहयोगियों शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के मतभेदों में खबरों में बि​ल्कुल सच्चाई नहीं है।

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने शिवसेना नेता एवं पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ के कार्यकारी संपादक द्वारा लिए गए एक साक्षात्कार में ये बातें कहीं। तीन हिस्सों वाली साक्षात्कार श्रृंखला का पहला अंश मराठी दैनिक में शनिवार को प्रकाशित किया गया है। यह पहली बार है जब किसी गैर शिवसेना नेता को पार्टी के मुखपत्र में मैराथन साक्षात्कार श्रृंखला में जगह दी गई हो। अब तक इसने दिवंगत बाल ठाकरे और उद्धव ठाकरे के ही साक्षात्कार प्रकाशित किए हैं।

बीजेपी की हार को लेकर पूछे गए सवाल पर शरद पवार ने कहा कि लोकतंत्र में आप यह नहीं सोच सकते हैं कि आप हमेशा के लिए सत्ता में रहेंगे। मतदाता इस बात को बर्दाश्त नहीं करेंगे कि उन्हें महत्व नहीं दिया जा रहा। मजबूत जनाधार रखने वाले इंदिरा गांधी और अटल बिहार वाजपेयी जैसे शक्तिशाली नेता भी हार गए थे।

उन्होंने कहा, ‘इसका मतलब है कि लोकतांत्रिक अधिकारों के लिहाज से, आम आदमी नेताओं से ज्यादा बुद्धिमान है। अगर हम नेता सीमा पार करते हैं तो वे हमें सबक सिखाएंगे। इसलिए लोगों को यह रुख पसंद नहीं आया कि हम सत्ता में लौटेंगे।

मुंबई। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष शरद पवार ने बीजेपी पर निशाना साधा। इस दौरान उन्होंने कहा कि राजनेताओं को अपने मतदाताओं को हल्के में नहीं लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि यहां पर शक्तिशाली नेता इंदिरा गांधी और अटल बिहारी वाजपेयी भी चुनाव हार चुके हैं। महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस के पिछले साल के विधानसभा चुनाव के दौरान ‘मी पुन: येन’ (मैं दोबारा आउंगा) के राग की आलोचना करते हुए, शरद पवार ने कहा कि मतदाताओं ने सोचा कि इस रुख में अहंकार की बू आ रही है और महसूस किया कि इन्हें सबक सिखाया जाना चाहिए। शरद पवार ने कहा कि सत्तारूढ़ महा विकास आघाडी के सहयोगियों शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के मतभेदों में खबरों में बि​ल्कुल सच्चाई नहीं है। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने शिवसेना नेता एवं पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ के कार्यकारी संपादक द्वारा लिए गए एक साक्षात्कार में ये बातें कहीं। तीन हिस्सों वाली साक्षात्कार श्रृंखला का पहला अंश मराठी दैनिक में शनिवार को प्रकाशित किया गया है। यह पहली बार है जब किसी गैर शिवसेना नेता को पार्टी के मुखपत्र में मैराथन साक्षात्कार श्रृंखला में जगह दी गई हो। अब तक इसने दिवंगत बाल ठाकरे और उद्धव ठाकरे के ही साक्षात्कार प्रकाशित किए हैं। बीजेपी की हार को लेकर पूछे गए सवाल पर शरद पवार ने कहा कि लोकतंत्र में आप यह नहीं सोच सकते हैं कि आप हमेशा के लिए सत्ता में रहेंगे। मतदाता इस बात को बर्दाश्त नहीं करेंगे कि उन्हें महत्व नहीं दिया जा रहा। मजबूत जनाधार रखने वाले इंदिरा गांधी और अटल बिहार वाजपेयी जैसे शक्तिशाली नेता भी हार गए थे। उन्होंने कहा, 'इसका मतलब है कि लोकतांत्रिक अधिकारों के लिहाज से, आम आदमी नेताओं से ज्यादा बुद्धिमान है। अगर हम नेता सीमा पार करते हैं तो वे हमें सबक सिखाएंगे। इसलिए लोगों को यह रुख पसंद नहीं आया कि हम सत्ता में लौटेंगे।