1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. शारदीय नवरात्रि 2021: नवरात्रि की पंचमी को मां स्कन्दमाता होगी पूजा, इस रंग का कपड़ा पहना माना जाता है अनुकूल

शारदीय नवरात्रि 2021: नवरात्रि की पंचमी को मां स्कन्दमाता होगी पूजा, इस रंग का कपड़ा पहना माना जाता है अनुकूल

शारदीय नवरात्रि 7 अक्‍टूबर 2021, से शुरू हो गई हैं। इस बार शारदीय नवरात्रि में मां दुर्गा डोली में सवार (Maa Durga in Doli) होकर आ रही हैं।

By अनूप कुमार 
Updated Date

शारदीय नवरात्रि 2021: शारदीय नवरात्रि 7 अक्‍टूबर 2021, से शुरू हो गई हैं। इस बार शारदीय नवरात्रि में मां दुर्गा डोली में सवार (Maa Durga in Doli) होकर आ रही हैं। बुध ग्रह को नियंत्रित करने वाली माता मां स्कंदमाता की पूजा शरद नवरात्रि के पांचवें दिन होती है। स्कंद कुमार कार्तिकेय की माता के कारण इन्हें स्कंदमाता नाम दिया गया है। भगवान स्कंद बालरूप में इनकी गोद में विराजित हैं। स्कंदमाता की चार भुजाएँ हैं। इनके दाहिनी तरफ की नीचे वाली भुजा, जो ऊपर की ओर उठी हुई है, उसमें कमल पुष्प है। बाईं तरफ की ऊपर वाली भुजा में वरमुद्रा में तथा नीचे वाली भुजा जो ऊपर की ओर उठी है उसमें भी कमल पुष्प ली हुई हैं। इनका वर्ण पूर्णतः शुभ्र है। ये कमल के आसन पर विराजमान रहती हैं। इसी कारण इन्हें पद्मासना देवी भी कहा जाता है। इनका वाहन सिंह (शेर) है।

पढ़ें :- Vat Savitri 2022 : सुहागिनें बरगद के पेड़ की पूजा करती हैं इस दिन, अखण्ड सौभाग्य का मांगती हैं वरदान

जो भक्त मां स्कंदमाता की पूरे मन से पूजा करता है उसके ऊपर मां की विशेष कृपा बरसती है। पंचमी तिथि पर सफेद रंग का कपड़ा पहना अनुकूल माना जाता है।

मां स्कंदमाता का मंत्र

सिंहासनगता नित्यं पद्माश्रितकरद्वया।
शुभदास्तु सदा देवी स्कन्दमाता यशस्विनी॥

ॐ देवी स्कन्दमातायै नमः॥

पढ़ें :- Apara Ekadashi 2022:अपरा एकादशी व्रत रखने से मानोकामना की पूर्ती होती है,   इन वस्तुओं का सेवन नहीं करना चाहिए

संतान प्राप्ति हेतु जपें स्कन्द माता का मंत्र

पंचमी तिथि की अधिष्ठात्री देवी स्कन्द माता हैं। जिन व्यक्तियों को संतानाभाव हो, वे माता की पूजन-अर्चन तथा मंत्र जप कर लाभ उठा सकते हैं।

‘ॐ स्कन्दमात्रै नम:।।’

 इस मंत्र से भी मां की आराधना की जाती है

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ स्कन्दमाता रूपेण संस्थिता।

पढ़ें :- Vat Savitri 2022 : वट सावित्री व्रत के लिए जानिए पूजन सामग्री, सावित्री-सत्यवान की मूर्तियां हैं जरूरी

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...