पीएफआई के संपर्क में था शरजील इमाम, पूछताछ में मिली चौंकाने वाली जानकारी

sharjil
पीएफआई के संपर्क में था शरजील इमाम, पूछताछ में मिली चौंकाने वाली जानकारी

नई दिल्ली। देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार जेएनयू के स्कॉलर शरजील इमाम से पुलिस लगातार पूछताछ कर रही है। पुलिस का दावा है कि पूछताछ में कई चौंकाने वाली जानकारियां सामने आयीं हैं। पुलिस का कहना है कि आरोपी शरजील पीएफआई के 9 लोगों के संपर्क में था और इनके बीच लगातार बातचीत भी होती थी। ये सभी व्हाट्स ऐप ग्रुप ‘मुस्लिम स्टूडेंट ऑफ जेएनयू’ और ‘मुस्लिम स्टूडेंट ऑफ जामिया’ से जुड़े थे।

Sharjeel Imam Was In Contact With Pfi Shocking Information Received During Interrogation :

वहीं, जांच में शरजील इमाम के मोबाइल से जामिया और अलीगढ़ ​यूनिवर्सिटी के 15 छात्रों की पहचान की गयी है। ये सभी छात्र शरजील के संपर्क में थे। पुलिस ने इनको पूछताछ के लिए नोटिस दिया है। शरजील का रिमांड सोमवार को खत्म होने के बाद उसे साकेत कोर्ट के चीफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट के घर पेश किया गया।

वहां उसका रिमांड तीन दिन और बढ़ा दिया गया है। हालांकि पुलिस को उसके किसी आतंकी संगठन से जुड़े होने का कोई प्रमाण नहीं मिला है। पुलिस सूत्राू ने बताया कि शरजील के लैपटॉप और डेस्कटॉप की जांच के दौरान पता चला है कि वह जामिया हिंसा से पूर्व उर्दू और अंग्रेजी में कुछ भड़काऊ पोस्टर बनाए थे। इनको उसने विभिन्न व्हाट्स ऐप ग्रुप पर पोस्ट किया था।

दूसरी ओर, उसके बैंक खातों की जांच के दौरान किसी बाहरी फंडिंग की अभी जानकारी नहीं मिली है। पुलिस खातों की डिटेल की जांच कर रही है। पुलिस ने शरजील के मोबाइल का डिलीट डाटा भी बरामद कर लिया है। मोबाइल से मिले कई वीडियो में शरजील भड़काऊ भाषण देता दिखा है। शरजील को भड़काऊ बातें बोलने में महारथ हासिल है। उसने अपनी बातचीत के जरिये पुलिस को भी गुमराह करने की कोशिश की थी।

नई दिल्ली। देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार जेएनयू के स्कॉलर शरजील इमाम से पुलिस लगातार पूछताछ कर रही है। पुलिस का दावा है कि पूछताछ में कई चौंकाने वाली जानकारियां सामने आयीं हैं। पुलिस का कहना है कि आरोपी शरजील पीएफआई के 9 लोगों के संपर्क में था और इनके बीच लगातार बातचीत भी होती थी। ये सभी व्हाट्स ऐप ग्रुप ‘मुस्लिम स्टूडेंट ऑफ जेएनयू’ और ‘मुस्लिम स्टूडेंट ऑफ जामिया’ से जुड़े थे। वहीं, जांच में शरजील इमाम के मोबाइल से जामिया और अलीगढ़ ​यूनिवर्सिटी के 15 छात्रों की पहचान की गयी है। ये सभी छात्र शरजील के संपर्क में थे। पुलिस ने इनको पूछताछ के लिए नोटिस दिया है। शरजील का रिमांड सोमवार को खत्म होने के बाद उसे साकेत कोर्ट के चीफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट के घर पेश किया गया। वहां उसका रिमांड तीन दिन और बढ़ा दिया गया है। हालांकि पुलिस को उसके किसी आतंकी संगठन से जुड़े होने का कोई प्रमाण नहीं मिला है। पुलिस सूत्राू ने बताया कि शरजील के लैपटॉप और डेस्कटॉप की जांच के दौरान पता चला है कि वह जामिया हिंसा से पूर्व उर्दू और अंग्रेजी में कुछ भड़काऊ पोस्टर बनाए थे। इनको उसने विभिन्न व्हाट्स ऐप ग्रुप पर पोस्ट किया था। दूसरी ओर, उसके बैंक खातों की जांच के दौरान किसी बाहरी फंडिंग की अभी जानकारी नहीं मिली है। पुलिस खातों की डिटेल की जांच कर रही है। पुलिस ने शरजील के मोबाइल का डिलीट डाटा भी बरामद कर लिया है। मोबाइल से मिले कई वीडियो में शरजील भड़काऊ भाषण देता दिखा है। शरजील को भड़काऊ बातें बोलने में महारथ हासिल है। उसने अपनी बातचीत के जरिये पुलिस को भी गुमराह करने की कोशिश की थी।