शाजिया इल्मी ने दिलाई भ्रष्टाचार में फंसे इंजीनियर को बीजेपी की सदस्यता, जबरन किया गया था रिटायर

saziya ilmi
शाजिया इल्मी ने दिलाई भ्रष्टाचार में फंसे इंजीनियर को बीजेपी की सदस्यता, जबरन किया गया था रिटायर

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री के भ्रष्टाचार मुक्त भारत को दरकिनार कर दिल्ली बीजेपी ने भ्रष्टाचार में बर्खास्त इंजीनियर को पार्टी की सदस्यता दिलाई है। भ्रष्टाचार के आरोप में जिस इंजीनियर को जबरन रिटायर किया गया था वह अब बीजेपी की सदस्यता ले लिया है। भ्रष्ट इंजीनियर को शाजिया इल्मी ने सदस्यता ​दिलाई है। दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी के इस कदम ने उसे विपक्ष के निशाने पर ले लिया है।

Shazia Ilmi Administered The Corruption Engineer To Bjp Membership Was Forced To Retire :

मंगलवार को दिल्ली बीजेपी ने एक ऐसे शख्स को पा​र्टी में शामिल कराया, जिस पर भ्रष्टाचार के इल्जाम साबित होने के बाद उसे जबरन रिटायरमेंट दी गई थी। उत्तरी दिल्ली नगर निगम में बीते दिनों भ्रष्टाचार के आरोप में 39 इंजीनियरों को जबरन रिटायरमेंट दे दी गई थी, उन्हीं में से एक शराफत अली भी थे। बता दें कि, शराफत एई सिविल के पद पर तैनात थे। उन्हें शाजिया इल्मी ने भाजपा में शामिल कराया।

इस दौरान अल्पसंख्यक वर्ग से जुड़े तीन दर्जन लोगों ने बीजेपी की सदस्यता ग्रहण की है। वहीं, इस कार्यक्रम में दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी को भी शामिल होना था लेकिन वह कार्यक्रम में नहीं पहुंच सके। वहीं, मामला उजागर होने पर बीजेपी ने चुप्पी साध ली है। दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी पूरे मामले पर बात करने से बच रहे हैं। उधर आम आदमी पार्टी ने भाजपा को लेकर हमलावर रूख अपना लिया है।

एमसीडी में पार्टी के नेता सुरजीत पवार ने कहा कि भाजपा का असली चेहरा सामने आ गया है। उन्होंने कहा कि नगर निगम के भ्रष्ट अधिकारियों के सिर पर भाजपा नेताओं का हाथ है। जिस अधिकारी को भ्रष्टाचार के इल्जाम में नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया, उसे भाजपा की सदस्यता दिलाई जा रही है। इससे ज्यादा शर्मनाक बात और क्या हो सकती है।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री के भ्रष्टाचार मुक्त भारत को दरकिनार कर दिल्ली बीजेपी ने भ्रष्टाचार में बर्खास्त इंजीनियर को पार्टी की सदस्यता दिलाई है। भ्रष्टाचार के आरोप में जिस इंजीनियर को जबरन रिटायर किया गया था वह अब बीजेपी की सदस्यता ले लिया है। भ्रष्ट इंजीनियर को शाजिया इल्मी ने सदस्यता ​दिलाई है। दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी के इस कदम ने उसे विपक्ष के निशाने पर ले लिया है। मंगलवार को दिल्ली बीजेपी ने एक ऐसे शख्स को पा​र्टी में शामिल कराया, जिस पर भ्रष्टाचार के इल्जाम साबित होने के बाद उसे जबरन रिटायरमेंट दी गई थी। उत्तरी दिल्ली नगर निगम में बीते दिनों भ्रष्टाचार के आरोप में 39 इंजीनियरों को जबरन रिटायरमेंट दे दी गई थी, उन्हीं में से एक शराफत अली भी थे। बता दें कि, शराफत एई सिविल के पद पर तैनात थे। उन्हें शाजिया इल्मी ने भाजपा में शामिल कराया। इस दौरान अल्पसंख्यक वर्ग से जुड़े तीन दर्जन लोगों ने बीजेपी की सदस्यता ग्रहण की है। वहीं, इस कार्यक्रम में दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी को भी शामिल होना था लेकिन वह कार्यक्रम में नहीं पहुंच सके। वहीं, मामला उजागर होने पर बीजेपी ने चुप्पी साध ली है। दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी पूरे मामले पर बात करने से बच रहे हैं। उधर आम आदमी पार्टी ने भाजपा को लेकर हमलावर रूख अपना लिया है। एमसीडी में पार्टी के नेता सुरजीत पवार ने कहा कि भाजपा का असली चेहरा सामने आ गया है। उन्होंने कहा कि नगर निगम के भ्रष्ट अधिकारियों के सिर पर भाजपा नेताओं का हाथ है। जिस अधिकारी को भ्रष्टाचार के इल्जाम में नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया, उसे भाजपा की सदस्यता दिलाई जा रही है। इससे ज्यादा शर्मनाक बात और क्या हो सकती है।