शिक्षामित्रों का महाप्रदर्शन: बीच रास्ते से लौटाई जा रही बसें, धारा 144 लागू

लखनऊ। सर्वोच्च न्यायालय की ओर से शिक्षा मित्रों का समायोजन रद्द होने के बाद नाराज शिक्षामित्र सोमवार को लखनऊ के लक्ष्मण मेला मैदान में विरोध प्रदर्शन के लिये एकत्र हुए। शिक्षामित्रों का दावा है कि प्रदेश भर से करीब 1 लाख 70 हजार की संख्या में शिक्षामित्र लखनऊ पहुंच रहे हैं। शिक्षा मित्रों के आंदोलन को देखते हुए लखनऊ में जिला प्रशासन ने धारा 144 लागू कर दिया है। साथ ही शिक्षा मित्रों को उनके अपने ही जिले में रोकने के लिए सभी जिलों के अधिकारियों को आदेश दिया गया है।

विभिन्न जिलों से हजारों शिक्षामित्र रविवार देर रात राजधानी पहुंचने लगे। जबकि प्रस्तावित धरना-प्रदर्शन पर जिला प्रशासन ने रोक लगा दी है। झांसी, गोंडा, ललितपुर से लखनऊ आ रहे शिक्षामित्रों को वहीं गिरफ्तार कर लिया गया। शिक्षामित्रों ने 21 अगस्त से लखनऊ में समायोजित शिक्षक शिक्षामित्र संघर्ष मोर्चा के बैनर तले अनिश्चितकालीन आंदोलन छेड़ने का ऐलान किया था। इसी के तहत शिक्षामित्र लखनऊ लक्ष्मण मेला मैदान पर जुटने शुरू हो गए हैं। सुबह तक ही यहां के लक्ष्मण मेला मैदान पर शिक्षामित्र सैकड़ों की संख्या में जुट गए थे।

{ यह भी पढ़ें:- खबर का असर: 1000 करोड़ की बंद अमृत योजनाओं की पुनर्समीक्षा करेगा जल निगम }

इस आंदोलन में उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ, जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ, उप्र माध्यमिक शिक्षक संघ, कर्मचारी शिक्षक समन्वय समिति, भारतीय किसान यूनियन जैसे संगठनों ने समर्थन देने का ऐलान किया है।

बता दें कि सभी शिक्षामित्र समायोजन रद्द होने से भड़के हुए हैं। वहीं आंदोलन को धार देने के लिए शिक्षामित्रों को दो बड़े गुट आदर्श शिक्षामित्र वेलफेयर एसोसिएशन और उप्र प्राथमिक शिक्षामित्र वेलफेयर एसोसिएशन ने साझा संघर्ष मोर्चा बनाया है।

{ यह भी पढ़ें:- छात्राओं को अक्सर छेड़ता था मनचला, परिजनों ने धुनाई के बाद पुलिस को सौंपा }

शिक्षामित्रों की मांग है कि सरकार संशोधित अध्यादेश लाकर उन्हें फिर से सहायक अध्यापक के पद पर समायोजित करे। तब तक ‘समान कार्य के लिए समान वेतन’ के सिद्घांत पर उन्हें शिक्षकों के बराबर तनख्वाह दी जाए।

हाईवे किया जाम-

बीच रास्ते से बसों को वापस करने से शिक्षामित्र नाराज हो गए। गुस्से में आकर एक घंटे तक इटौंजा टोल टैक्स पर जाम लगा दिया। जिससे यातायात बाधित हो गया। इससे दैनिक यात्रा करने वाले यात्री को परेशानी का सामना करना पड़ा। विधानसभा, सीएम आवास, हजरतगंज में पुलिस की कड़ी व्यवस्था की गई है। शिक्षामित्रों के लखनऊ में एंट्री पर रोक लगाते हुए जगह-जगह पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है।

{ यह भी पढ़ें:- जिला पंचायत अध्यक्ष ने लगाये 'मेरे सैंय्या सुपरस्टार' पर ठुमके, वायरल हुआ वीडियो }

Loading...