अंडरवर्ल्ड डॉन करीम लाला-इंदिरा के कनेक्शन पर संजय राउत बैकफुट पर, वापस लिया बयान

Sanjay Raut
अंडरवर्ल्ड डॉन करीम लाला-इंदिरा के कनेक्शन पर संजय राउत हुए बैकफुट, वापस लिया बयान

नई दिल्ली। शिवसेना नेता संजय राउत के पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी पर अंडरवर्ल्ड डॉन करीम लाला के साथ मुलाकात वाले बयान को लेकर घमासान मच गया है। बवाल बढ़ने के बाद संजय राउत ने अपना बयान वापस ले लिया है। राउत ने कहा, “वह हमेशा से इंदिरा गांधी के समर्थन में बोलते आए हैं और उनका सम्मान करते हैं। अगर किसी को उनके बयान से ठेस पहुंची हो तो वह अपना बयान वापस लेते है।”

Shiv Sena Leader Sanjay Raut Take Back His Statement On Indira Gandhi :

आपको बता दें कि राज्यसभा सदस्य राउत ने बुधवार को इंदिरा गांधी को लेकर दावा किया था कि वो करीम लाला से मुम्बई में मुलाकात करती थीं। एक साक्षात्कार में राउत ने कहा था कि था जब अंडरवर्ल्ड डॉन हाजी मस्तान मंत्रालय आए थे, तो पूरा सचिवालय उन्हें देखने नीचे आ गया था। इंदिरा गांधी पायधुनी में करीम लाला से मिला करती थीं।

वहीं, राज्य की सत्ता में सहयोगी कांग्रेस को राउत का यह बयान रास नहीं आय़ा। पूर्व केन्द्रीय मंत्री मिलिंद देवड़ा ने इंदिरा गांधी को एक सच्ची देशभक्त बताया, जिन्होंने कभी भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ समझौता नहीं किया। बता दें कि करीम लाला, मस्तान मिर्जा उर्फ हाजी मस्तान और वरदराजन मुदलियार मुम्बई के बड़े माफिया सरगना थे, जो 1960 से लेकर अस्सी के दशक तक सक्रिय रहे।

वहीं महाराष्ट्र सरकार में सहयोगी एनसीपी सांसद मजीद मेमन ने शिवसेना का समर्थन करते हुए कहा था कि कांग्रेस को गुस्सा दिखाने की जरूरत नहीं है। उन्हें यह याद रखना चाहिए कि करीम लाला और हाजी मस्तान जैसे डॉन को सार्वजनिक माफी दी गई थी।

नई दिल्ली। शिवसेना नेता संजय राउत के पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी पर अंडरवर्ल्ड डॉन करीम लाला के साथ मुलाकात वाले बयान को लेकर घमासान मच गया है। बवाल बढ़ने के बाद संजय राउत ने अपना बयान वापस ले लिया है। राउत ने कहा, "वह हमेशा से इंदिरा गांधी के समर्थन में बोलते आए हैं और उनका सम्मान करते हैं। अगर किसी को उनके बयान से ठेस पहुंची हो तो वह अपना बयान वापस लेते है।" आपको बता दें कि राज्यसभा सदस्य राउत ने बुधवार को इंदिरा गांधी को लेकर दावा किया था कि वो करीम लाला से मुम्बई में मुलाकात करती थीं। एक साक्षात्कार में राउत ने कहा था कि था जब अंडरवर्ल्ड डॉन हाजी मस्तान मंत्रालय आए थे, तो पूरा सचिवालय उन्हें देखने नीचे आ गया था। इंदिरा गांधी पायधुनी में करीम लाला से मिला करती थीं। वहीं, राज्य की सत्ता में सहयोगी कांग्रेस को राउत का यह बयान रास नहीं आय़ा। पूर्व केन्द्रीय मंत्री मिलिंद देवड़ा ने इंदिरा गांधी को एक सच्ची देशभक्त बताया, जिन्होंने कभी भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ समझौता नहीं किया। बता दें कि करीम लाला, मस्तान मिर्जा उर्फ हाजी मस्तान और वरदराजन मुदलियार मुम्बई के बड़े माफिया सरगना थे, जो 1960 से लेकर अस्सी के दशक तक सक्रिय रहे। वहीं महाराष्ट्र सरकार में सहयोगी एनसीपी सांसद मजीद मेमन ने शिवसेना का समर्थन करते हुए कहा था कि कांग्रेस को गुस्सा दिखाने की जरूरत नहीं है। उन्हें यह याद रखना चाहिए कि करीम लाला और हाजी मस्तान जैसे डॉन को सार्वजनिक माफी दी गई थी।