बर्खास्तगी के बाद बोले शिवपाल, साजिश के तहत बना निशाना

Shivpal Stated His Sacking Off As Conspiracy

लखनऊ। कैबिनेट मंत्री पद से बर्खास्त होने के साथ शिवपाल यादव ने पार्टी कार्यालय में प्रेस कांफ्रेन्स कर कहा कि उनके बर्खास्तगी एक साजिश के तहत हुई है। उन्हें कमजोर करने का षड्यंत्र काफी समय से चल रहा था। कुछ लोग हैं सीबीआई के डर से बीजेपी के साथ मिलकर पार्टी को कमजोर करने की कोशिश कर रहे हैं।




इसके आगे बोलते हुए शिवपाल यादव ने कहा कि बर्खास्तगी की चिन्ता नहीं है, अब नेता जी के नेतृत्व में चुनाव में जाना है। जनता पार्टी के साथ है। शिवपाल के ​इस बयान के कई मायने निकाले जाने लगे हैं। कहा जा रहा है कि चाचा शिवपाल भी सीएम अखिलेश से बहुत नाराज हैं इसीलिए उन्होंने प्रेस कांफ्रेन्स के दौरान भी अखिलेश के बजाय चुनाव के लिए नेता जी के नेतृत्व की बात कही है।

इस बीच शिवपाल यादव ने एकबार फिर बड़प्पन दिखाते हुए कहा कि अखिलेश को तो उन्होंने गोद ​में खिलाया है। वह उन लोगों की साजिश को नहीं समझ पा रहे हैं जो अपने फायदे के लिए पार्टी को कमजोर करने की कोशिश कर रहे हैं।




पार्टी सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव से मुलाकात के बाद जिस तरह से शिवपाल यादव ने रामगोपाल यादव का नाम लिए बिना बयान दिया उसके बाद यह कहना गलत नहीं होगा कि सोमवार को होने वाली पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के बाद रामगोपाल यादव पर गाज गिर सकती है। इसके साथ ही कयास ये भी लगाए जा रहे हैं कि रामगोपाल यादव पर होने वाली कार्रवाई के बाद संतुलन बनाए रखने के लिए मुलायम सिंह यादव एकबार फिर अमर सिंह को भी पार्टी के महासचिव पद से हटा सकते हैं।

लखनऊ। कैबिनेट मंत्री पद से बर्खास्त होने के साथ शिवपाल यादव ने पार्टी कार्यालय में प्रेस कांफ्रेन्स कर कहा कि उनके बर्खास्तगी एक साजिश के तहत हुई है। उन्हें कमजोर करने का षड्यंत्र काफी समय से चल रहा था। कुछ लोग हैं सीबीआई के डर से बीजेपी के साथ मिलकर पार्टी को कमजोर करने की कोशिश कर रहे हैं। इसके आगे बोलते हुए शिवपाल यादव ने कहा कि बर्खास्तगी की चिन्ता नहीं है, अब नेता जी के नेतृत्व में चुनाव…