अखिलेश की बैठक में नहीं बुलाए गए शिवपाल समर्थक विधायक और एमएलसी

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के भीतर चाचा भतीजे के बीच चल रही खींच तान का परिणाम रविवार को सीएम अाखिलेश द्वारा बुलाई गई विधायकों और एमएलसी की बैठक में शिवपाल समर्थक 16 विधायक और 6 एमएलसी नहीं बुलाए गए हैं। बताया जा रहा है कि बैठक के बाद ​अखिलेश कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं। बैठक की कार्रवाई को गुप्त रखने के लिए सभी विधायकों और एमएलसी के मोबाइल फोन तक बाहर जमा करवा लिए गए हैं।




सूत्रों की माने तो सीएम अखिलेश यादव कोई बड़ा सियासी कदम उठाने जा रहे हैं। अखिलेश ने यह फैसला लेने से पहले पार्टी के विधायकों और एमएलसी का रूख भांपने के लिए यह अहम बैठक बुलाई है। इस बीच कयास लगाए जा रहे हैं कि समाजवादी परिवार में भड़की रार अब बिखराव की कगार तक जा पहुंची है। पार्टी अखिलेश यादव और मुलायम ​सिंह यादव के संरक्षण में खड़े शिवपाल के बीच दो गुटों में बंटती नजर आ रही है। एक ओर ​सीएम अखिलेश यादव हैं जिन्हें अपनी सरकार के कार्यकाल में किए गए विकास कार्यों और अपनी पाक साफ राजनीतिक छवि पर भरोसा है तो दूसरी तरफ तीन दशकों का राजनीतिक अ​नुभव रखने वाले मुलायम और शिवपाल यादव हैं जिन्हें बतौर सीएम अपना पांच सालों का कार्यकाल पूरा करने जा रहे अखिलेश यादव में एक नौसिखिया नजर आ रहा है।