प्रसपा कार्यालय के बाह​र उपवास पर बैठे शिवपाल यादव, मार्च निकाल रहे कार्यकर्ताओं को पुलिस ने रोका

Shivpal yadav
प्रसपा कार्यालय के बाह​र उपवास पर बैठे शिवपाल, पैदल मार्च निकाल रहे कार्यकर्ताओं को पुलिस ने रोका

लखनऊ। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में शिवपाल यादव की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के कार्यकर्ताओं ने बुधवार को राजधानी लखनऊ में जबरदस्त विरोध-प्रदर्शन किया। हजारों की संख्या में पहुंचे पार्टी कार्यकताओं ने अर्धनग्न होकर प्रदर्शन किया। जीपीओ तक पैदल मार्च निकाल रहे प्रसपा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने बैरीकेटिंग लगाकर रोक दिया। इस दौरान कार्यकर्ताओं की पुलिस से झड़प हुई और पुलिस ने लाठी फटकार कर उन्हें खदेड़ा।

Shivpal Yadav Sitting On Fast And Outside The Praspa Office Was Stopped By The Police :

देश के अलग-अलग हिस्सों में हो रहे नागरिकता संशोधन कानून के विरोध के बीच राजनीतिक दल भी मौका चूकना नहीं चाहते हैं। कोई धरना दे रहा है तो कोई राष्ट्रपति से मिल रहा है। इस बीच प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव पार्टी कार्यालय के बाहर उपवास पर बैठ गए हैं। सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ धरना दे रहे शिवपाल यादव ने कहा कि इस कानून के खिलाफ पूरे देश में विरोध ही नहीं विद्रोह की स्थिति है। सरकार को इसे तत्काल वापस लेना चाहिए।

शिवपाल सिंह यादव ने धरना-प्रदर्शन के दौरान कार्यकर्ताओं के साथ जीपीओ तक पैदल मार्च का ऐलान भी किया है। इसको देखते हुए काफी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया। कार्यकर्ताओं को रोकने के बैरीकेटिंग भी लगा दी गई है। इस दौरान जब प्रसपा कार्यकर्ताओं ने आगे बढ़ने की कोशिश की तो पुलिस से उनकी हल्की झड़प भी हुई। बता दें कि विधानमंडल का शीतकालीन सत्र भी चल रहा है। इसलिए पुलिस विशेष सतर्कता बरत रही है।

नागरिकता संशोधन कानून और भारतीय राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के मुद्दे पर बुधवार को प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) लखनऊ में आंदोलन कर रही है। इस दौरान पार्टी के मुखिया शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि नागरिकता संसोधन कानून का हम विरोध करते हैं। यह देश हित में नहीं है। इस कानून से देश की एकता और अखंडता को खतरा है। उन्होंने कहा कि देश में अमन और शांति के लिए उपवास रखा है। सरकार की गलत नीतियों के चलते ही संविधान बचाओ-देश बचाओ नारे के साथ विरोध किया जा रहा है।

शिवपाल यादव ने प्रदेश की योगी सरकार के घेरते हुए कहा कि यूपी में विकास, भुखमरी, भ्रष्टाचार और दुष्कर्म जैसी घटनाओं से मुकाबला करने में सरकार फेल नजर आ रही है। देश और प्रदेश के अन्नदाता सबसे ज्यादा परेशान हैं। उन्होंने कहा कि नागरिक संशोधन कानून का हम पुरजोर विरोध करते हैं। इसमें मुस्लिमों को सूची से बाहर किया जाना न्याय नहीं है।

लखनऊ। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में शिवपाल यादव की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के कार्यकर्ताओं ने बुधवार को राजधानी लखनऊ में जबरदस्त विरोध-प्रदर्शन किया। हजारों की संख्या में पहुंचे पार्टी कार्यकताओं ने अर्धनग्न होकर प्रदर्शन किया। जीपीओ तक पैदल मार्च निकाल रहे प्रसपा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने बैरीकेटिंग लगाकर रोक दिया। इस दौरान कार्यकर्ताओं की पुलिस से झड़प हुई और पुलिस ने लाठी फटकार कर उन्हें खदेड़ा। देश के अलग-अलग हिस्सों में हो रहे नागरिकता संशोधन कानून के विरोध के बीच राजनीतिक दल भी मौका चूकना नहीं चाहते हैं। कोई धरना दे रहा है तो कोई राष्ट्रपति से मिल रहा है। इस बीच प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव पार्टी कार्यालय के बाहर उपवास पर बैठ गए हैं। सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ धरना दे रहे शिवपाल यादव ने कहा कि इस कानून के खिलाफ पूरे देश में विरोध ही नहीं विद्रोह की स्थिति है। सरकार को इसे तत्काल वापस लेना चाहिए। शिवपाल सिंह यादव ने धरना-प्रदर्शन के दौरान कार्यकर्ताओं के साथ जीपीओ तक पैदल मार्च का ऐलान भी किया है। इसको देखते हुए काफी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया। कार्यकर्ताओं को रोकने के बैरीकेटिंग भी लगा दी गई है। इस दौरान जब प्रसपा कार्यकर्ताओं ने आगे बढ़ने की कोशिश की तो पुलिस से उनकी हल्की झड़प भी हुई। बता दें कि विधानमंडल का शीतकालीन सत्र भी चल रहा है। इसलिए पुलिस विशेष सतर्कता बरत रही है। नागरिकता संशोधन कानून और भारतीय राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के मुद्दे पर बुधवार को प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) लखनऊ में आंदोलन कर रही है। इस दौरान पार्टी के मुखिया शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि नागरिकता संसोधन कानून का हम विरोध करते हैं। यह देश हित में नहीं है। इस कानून से देश की एकता और अखंडता को खतरा है। उन्होंने कहा कि देश में अमन और शांति के लिए उपवास रखा है। सरकार की गलत नीतियों के चलते ही संविधान बचाओ-देश बचाओ नारे के साथ विरोध किया जा रहा है। शिवपाल यादव ने प्रदेश की योगी सरकार के घेरते हुए कहा कि यूपी में विकास, भुखमरी, भ्रष्टाचार और दुष्कर्म जैसी घटनाओं से मुकाबला करने में सरकार फेल नजर आ रही है। देश और प्रदेश के अन्नदाता सबसे ज्यादा परेशान हैं। उन्होंने कहा कि नागरिक संशोधन कानून का हम पुरजोर विरोध करते हैं। इसमें मुस्लिमों को सूची से बाहर किया जाना न्याय नहीं है।