1. हिन्दी समाचार
  2. झटका: यूएन ने घटाया भारत की आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान, 5.7 फीसदी रह सकती है विकास दर

झटका: यूएन ने घटाया भारत की आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान, 5.7 फीसदी रह सकती है विकास दर

Shock Un Slashes Indias Economic Growth Rate Growth May Remain 5 7 Percent

By शिव मौर्या 
Updated Date

नई दिल्ली। भारत में आर्थिक सुस्ती के बीच विकास दर भी प्रभावित हो रही है। ऐसे में संयुक्त राष्ट्र संघ ने कहा कि भारत की आर्थिक वृद्धि दर 5.7 फीसदी रह सकती है। इससे भारत को झटका लगा है क्योंकि यह वैश्विक निकाय के पूर्व के अनुमान से कम है। संयुक्त राष्ट्र के एक अध्यन में कहा गया है कि कुछ अन्य उभरते देशों में जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) वृद्धि दर में इस साल कुछ तेजी आ सकती है।

पढ़ें :- राशिफल 26 अक्टूबर 2020: जानिए आज क्या कह रहें हैं आपके सितारे, इनको आज मिलेगी सफलता

बीते वर्ष वैश्विक आर्थिक वृद्धि दर सबसे कम 2.3 फीसदी रहने के बाद संयुक्त राष्ट्र ने यह बात कही थी। संयुक्त राष्ट्र विश्व आर्थिक स्थिति और संभावना (डब्ल्यूईएसपी), 2020 के अनुसार 2020 में 2.5 प्रतिशत वृद्धि की संभावना जताई गयी है। हालांकि, व्यापार तनाव, वित्तीय उठा-पटक या भू-राजनीतिक तनाव बढ़ने चीजें पटरी से उतर सकती हैं।

भारत के बारे में रिपोर्ट में कहा गया है कि चालू वित्त वर्ष में आर्थिक वृद्धि दर 5.7 प्रतिशत रह सकती है। बता दें कि, 2018-19 में विकास दर 6.8 फीसदी रही थी। इसको लेकर देखा जाए तो फिर इसमें करीब 1.8 फीसदी की गिरावट दर्ज की जायेगी। विश्व की सभी रेटिंग एजेंसियों और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने भी भारत के जीडीपी अनुमान को काफी घटा दिया है।

मूडीज ने मार्च 2020 में समाप्त हो रहे वित्त वर्ष के लिए सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का अनुमान 5.8 फीसदी से घटाकर 4.9 फीसदी कर दिया है। फिच ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए विकास दर के 4.6 फीसदी रहने की संभावना जताई है। वहीं 2020-21 के लिए 5.6 फीसदी और 2021-22 के लिए 6.5 फीसदी का अनुमान जताया है।

पढ़ें :- ब्राजिलियन ब्यूटी ब्रूना अब्दुल्लाह 34 साल की हुईं, हॉट तस्वीरें देखकर हो जायेंगे बेचैन

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...