पाकिस्तान में शॉपिंग माल भी खुल गए, सार्वजनिक परिवहन भी बहाल

f4c8ae872df26bfaebc6eb21700c5ec3_L

इस्लामाबाद: पाकिस्तान में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं और इसके बीच देश में लॉकडाउन अब कुछ गिनती के क्षेत्रों को छोड़कर बाकी हर जगह से लगभग खत्म हो चुका है। सोमवार को देश के सुप्रीम कोर्ट ने सभी शॉपिंग माल को खोलने का आदेश दिया और बेहद तीव्रता के साथ इस पर अमल करते हुए कई जगहों पर माल खोल दिए गए। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान दिहाड़ी मजदूरों और अन्य गरीबों की आर्थिक दिक्कतों के हवाले से लॉकडाउन में ढील के पक्षधर बने रहे और शुरुआती दिनों के संपूर्ण लॉकडाउन के बाद देश में धीरे-धीरे कई क्षेत्र खोल दिए गए। शर्तो पर अमल की बात के साथ पहले मस्जिदों को सामूहिक प्रार्थना के लिए खोला गया। इसके अगल चरण में सोशल डिस्टैिंसंग के नियम के पालन की शर्त के साथ बाजार भी खोल दिए गए। शर्तो पर अमल नहीं हुआ लेकिन बाजार खुल गए।

Shopping Goods Opened In Pakistan Public Transport Also Restored :

बाजार खोलने के साथ यह शर्त लगाई गई कि शॉपिंग माल नहीं खुलेंगे और बाजार भी शनिवार और रविवार को बंद रहेंगे। सोमवार की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार और रविवार के लॉकडाउन पर सवाल उठाते हुए पूछा कि ‘क्या (कोरोना) महमारी ने सरकार से वादा कर लिया है कि वह शनिवार और रविवार को नहीं आएगी? इसका कोई तुक नहीं है। अबसे सभी बाजार हफ्ते में सातों दिन खुलेंगे।’

सर्वोच्च अदालत के इस आदेश से साफ हो गया कि जो दो दिन लॉकडाउन सोचा गया था, अब वो भी अस्तित्व में नहीं रहा। यानी जैसे सामान्य दिनों में बाजार खुलते थे, अब वैसे ही खुलेंगे। इस बंदी पर सर्वाधिक तकरार सिंध में सरकार और कारोबारियो के बीच हो रही थी क्योंकि सरकार दो दिन की बंदी पर डटी हुई थी। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद सिंध सरकार ने बिना देर किए अधिसूचना जारी कर बाजार को सातों दिन खोलने की जानकारी दी।

बाजार पहले से खुल गए थे लेकिन शॉपिंग माल बंद थे। सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार की सुनवाई में इसके औचित्य पर सवाल उठाते हुए कहा कि ईद आने वाली है और कितने ही परिवार साल में केवल एक बार ईद पर ही नए कपड़े बनवाते हैं। ऐसे में माल बंद नहीं किए जा सकते। इन्हें खोला जाए। इस आदेश के आने भर की देर थी कि राष्ट्रीय राजधानी इस्लामाबाद में सभी माल खुल गए। पंजाब सरकार ने अधिसूचना जारी कर माल खोलने की अनुमति दी और लाहौर समेत प्रांत के तमाम शहरों में माल खुल गए।

सार्वजनिक परिवहन भी सोशल डिस्टैंसिंग के नियमों के पालन के साथ खुल गए हैं। वाहन सड़कों पर आ गए और सोशल डिस्टैंसिंग न होने का हाल यह रहा कि कई जगहों पर लोग इन वाहनों में एक-दूसरे पर लदे दिखे। पंजाब में सरकार ने दबाव डाला कि इजाजत दे दी गई है तो वाहन चलाए जाएं लेकिन पब्लिक ट्रांसपोर्टरों ने कहा कि किराए में कमी की गई है और वाहनों को भरने की अनुमति भी नहीं है, ऐसे में वाहन चलाना उनके लिए घाटे का सौदा है। इसी वजह से पंजाब में सोमवार को सार्वजनिक परिवहन नहीं दिखा। इस पर बात चल रही है।

अब स्कूल-कॉलेज, सिनेमाघर-थिएटर, बड़े समारोह (जैसे विवाह समारोह), सार्वजनिक रैलियां जैसी चुनिंदा चीजें ही हैं जो लॉकडाउन के दायरे में हैं। पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में भी कोरोना के मामले सामने आने के बाद लॉकडाउन में कुछ कड़ाई की गई है, अन्यथा पाकिस्तान में अब बड़े स्तर पर लॉकडाउन समाप्त हो चुका है।

इस्लामाबाद: पाकिस्तान में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं और इसके बीच देश में लॉकडाउन अब कुछ गिनती के क्षेत्रों को छोड़कर बाकी हर जगह से लगभग खत्म हो चुका है। सोमवार को देश के सुप्रीम कोर्ट ने सभी शॉपिंग माल को खोलने का आदेश दिया और बेहद तीव्रता के साथ इस पर अमल करते हुए कई जगहों पर माल खोल दिए गए। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान दिहाड़ी मजदूरों और अन्य गरीबों की आर्थिक दिक्कतों के हवाले से लॉकडाउन में ढील के पक्षधर बने रहे और शुरुआती दिनों के संपूर्ण लॉकडाउन के बाद देश में धीरे-धीरे कई क्षेत्र खोल दिए गए। शर्तो पर अमल की बात के साथ पहले मस्जिदों को सामूहिक प्रार्थना के लिए खोला गया। इसके अगल चरण में सोशल डिस्टैिंसंग के नियम के पालन की शर्त के साथ बाजार भी खोल दिए गए। शर्तो पर अमल नहीं हुआ लेकिन बाजार खुल गए। बाजार खोलने के साथ यह शर्त लगाई गई कि शॉपिंग माल नहीं खुलेंगे और बाजार भी शनिवार और रविवार को बंद रहेंगे। सोमवार की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार और रविवार के लॉकडाउन पर सवाल उठाते हुए पूछा कि 'क्या (कोरोना) महमारी ने सरकार से वादा कर लिया है कि वह शनिवार और रविवार को नहीं आएगी? इसका कोई तुक नहीं है। अबसे सभी बाजार हफ्ते में सातों दिन खुलेंगे।' सर्वोच्च अदालत के इस आदेश से साफ हो गया कि जो दो दिन लॉकडाउन सोचा गया था, अब वो भी अस्तित्व में नहीं रहा। यानी जैसे सामान्य दिनों में बाजार खुलते थे, अब वैसे ही खुलेंगे। इस बंदी पर सर्वाधिक तकरार सिंध में सरकार और कारोबारियो के बीच हो रही थी क्योंकि सरकार दो दिन की बंदी पर डटी हुई थी। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद सिंध सरकार ने बिना देर किए अधिसूचना जारी कर बाजार को सातों दिन खोलने की जानकारी दी। बाजार पहले से खुल गए थे लेकिन शॉपिंग माल बंद थे। सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार की सुनवाई में इसके औचित्य पर सवाल उठाते हुए कहा कि ईद आने वाली है और कितने ही परिवार साल में केवल एक बार ईद पर ही नए कपड़े बनवाते हैं। ऐसे में माल बंद नहीं किए जा सकते। इन्हें खोला जाए। इस आदेश के आने भर की देर थी कि राष्ट्रीय राजधानी इस्लामाबाद में सभी माल खुल गए। पंजाब सरकार ने अधिसूचना जारी कर माल खोलने की अनुमति दी और लाहौर समेत प्रांत के तमाम शहरों में माल खुल गए। सार्वजनिक परिवहन भी सोशल डिस्टैंसिंग के नियमों के पालन के साथ खुल गए हैं। वाहन सड़कों पर आ गए और सोशल डिस्टैंसिंग न होने का हाल यह रहा कि कई जगहों पर लोग इन वाहनों में एक-दूसरे पर लदे दिखे। पंजाब में सरकार ने दबाव डाला कि इजाजत दे दी गई है तो वाहन चलाए जाएं लेकिन पब्लिक ट्रांसपोर्टरों ने कहा कि किराए में कमी की गई है और वाहनों को भरने की अनुमति भी नहीं है, ऐसे में वाहन चलाना उनके लिए घाटे का सौदा है। इसी वजह से पंजाब में सोमवार को सार्वजनिक परिवहन नहीं दिखा। इस पर बात चल रही है। अब स्कूल-कॉलेज, सिनेमाघर-थिएटर, बड़े समारोह (जैसे विवाह समारोह), सार्वजनिक रैलियां जैसी चुनिंदा चीजें ही हैं जो लॉकडाउन के दायरे में हैं। पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में भी कोरोना के मामले सामने आने के बाद लॉकडाउन में कुछ कड़ाई की गई है, अन्यथा पाकिस्तान में अब बड़े स्तर पर लॉकडाउन समाप्त हो चुका है।