1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. बजरंग बाण का नियमित पाठ करने से दूर होते हैं डर और संकट, यहां पढ़ें Bajrang Baan

बजरंग बाण का नियमित पाठ करने से दूर होते हैं डर और संकट, यहां पढ़ें Bajrang Baan

Shri Bajrang: रामभक्त और अंजनिपुत्र वीर बजरंगबली ऐसे देवता हैं, जो अपने भक्तों के कष्टों, परेशानियां, भय और रोगों से मुक्ति दिलाते हैं। भगवान हनुमान जल्दी ही प्रसन्न होने वाले देव हैं। हिन्दू धर्म में मान्यता है कि आज भी सशरीर हनुमान जी इस पृथ्वी पर विचरण करते हैं। भगवान हनुमान चिरंजीवी हैं।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Shri Bajrang: रामभक्त और अंजनिपुत्र वीर बजरंगबली ऐसे देवता हैं, जो अपने भक्तों के कष्टों, परेशानियां, भय और रोगों से मुक्ति दिलाते हैं। भगवान हनुमान (Lord Hanuman) जल्दी ही प्रसन्न होने वाले देव हैं। हिन्दू धर्म में मान्यता है कि आज भी सशरीर हनुमान जी इस पृथ्वी पर विचरण करते हैं। भगवान हनुमान चिरंजीवी (Lord Hanuman Chiranjeevi) हैं।

पढ़ें :- 24 June 2022 Ka Panchang : आज करें शनिदेव की पूजा, बजरंग बाण का पाठ करना सर्वदा फलदायी होता है

भक्त हनुमानजी को प्रसन्न करने और अपनी हर तरह की मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए उनकी विधिवत पूजा-उपासना करते हैं। सभी इच्छाओं की पूर्ति और भय से मुक्ति के लिए हनुमान चालीसा का पाठ करने के साथ बजरंग बाण (Bajrang Baan)  का पाठ भी किया जाता है। हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) के अलावा बजरंग बाण (Bajrang Baan)  के पाठ को करने से हनुमानजी की आराधना कर उनका आशीर्वाद पाने का सबसे अचूक उपाय माना जाता है।

मान्यता है कि बजरंग बाण (Bajrang Baan) के नियमित पाठ करने से कुंडली में ग्रह दोष समाप्त होते हैं। विवाह में आने वाले बाधाएं दूर होती हैं। गंभीर बीमारियों होने की दशा में इसमें राहत या निजात मिलती है। व्यक्ति को कार्यक्षेत्र में अच्छी सफलताएं प्राप्त होने लगती हैं। समाज में मान-सम्मान की वृद्धि होती है और वास्तुदोष (Architectural Defect) खत्म हो जाते हैं।

आइए पढ़ें सम्पूर्ण बजरंग बाण का पाठ…

बजरंग बाण

” दोहा “

पढ़ें :- Tuesday Hanuman Ji Puja : हनुमान जी महाराज का सुमिरन करने से मिलती है मुक्ति, करें बजरंग बाण का पाठ

“निश्चय प्रेम प्रतीति ते, बिनय करैं सनमान।”

“तेहि के कारज सकल शुभ, सिद्ध करैं हनुमान॥”

“चौपाई”

जय हनुमन्त सन्त हितकारी। सुन लीजै प्रभु अरज हमारी।।

जन के काज विलम्ब न कीजै। आतुर दौरि महासुख दीजै।।

पढ़ें :- Mangalwar Hanuman Ji Maharaj : प्रभु श्री राम के सच्चे सेवक है भगवान बजरंग बली, बजरंग बाण के पाठ से मिलती है सफलता

जैसे कूदि सिन्धु महि पारा। सुरसा बदन पैठि विस्तारा।।

आगे जाई लंकिनी रोका। मारेहु लात गई सुर लोका।।

जाय विभीषण को सुख दीन्हा। सीता निरखि परमपद लीन्हा।।

बाग़ उजारि सिन्धु महँ बोरा। अति आतुर जमकातर तोरा।।

अक्षयकुमार को मारि संहारा। लूम लपेट लंक को जारा।।

लाह समान लंक जरि गई। जय जय धुनि सुरपुर में भई।।

पढ़ें :- मंगलवार के दिन हनुमान जी को प्रसन्न करने के उपाय

अब विलम्ब केहि कारण स्वामी। कृपा करहु उर अन्तर्यामी।।

जय जय लक्ष्मण प्राण के दाता। आतुर होय दुख हरहु निपाता।।

जै गिरिधर जै जै सुखसागर। सुर समूह समरथ भटनागर।।

ॐ हनु हनु हनुमंत हठीले। बैरिहिंं मारु बज्र की कीले।।

गदा बज्र लै बैरिहिं मारो। महाराज प्रभु दास उबारो।।

ऊँकार हुंकार प्रभु धावो। बज्र गदा हनु विलम्ब न लावो।।

ॐ ह्रीं ह्रीं ह्रीं हनुमंत कपीसा। ऊँ हुं हुं हुं हनु अरि उर शीशा।।

पढ़ें :- ज्येष्ठ माह के तीसरे बड़े मंगल पर करें बजरंग बाण का पाठ, बरसेगी बजरंगबली की कृपा

सत्य होहु हरि शपथ पाय के। रामदूत धरु मारु जाय के।।

जय जय जय हनुमन्त अगाधा। दुःख पावत जन केहि अपराधा।।

पूजा जप तप नेम अचारा। नहिं जानत हौं दास तुम्हारा।।

वन उपवन, मग गिरिगृह माहीं। तुम्हरे बल हम डरपत नाहीं।।

पांय परों कर ज़ोरि मनावौं। यहि अवसर अब केहि गोहरावौं।।

जय अंजनिकुमार बलवन्ता। शंकरसुवन वीर हनुमन्ता।।

बदन कराल काल कुल घालक। राम सहाय सदा प्रतिपालक।।

भूत प्रेत पिशाच निशाचर। अग्नि बेताल काल मारी मर।।

इन्हें मारु तोहिं शपथ राम की। राखु नाथ मरजाद नाम की।।

जनकसुता हरिदास कहावौ। ताकी शपथ विलम्ब न लावो।।

जय जय जय धुनि होत अकाशा। सुमिरत होत दुसह दुःख नाशा।।

चरण शरण कर ज़ोरि मनावौ। यहि अवसर अब केहि गोहरावौं।।

उठु उठु चलु तोहि राम दुहाई। पांय परों कर ज़ोरि मनाई।।

ॐ चं चं चं चं चपत चलंता। ऊँ हनु हनु हनु हनु हनुमन्ता।।

ऊँ हँ हँ हांक देत कपि चंचल। ऊँ सं सं सहमि पराने खल दल।।

अपने जन को तुरत उबारो। सुमिरत होय आनन्द हमारो।।

यह बजरंग बाण जेहि मारै। ताहि कहो फिर कौन उबारै।।

पाठ करै बजरंग बाण की। हनुमत रक्षा करै प्राण की।।

यह बजरंग बाण जो जापै। ताते भूत प्रेत सब काँपै।।

धूप देय अरु जपै हमेशा। ताके तन नहिं रहै कलेशा।।

“दोहा”

” प्रेम प्रतीतहि कपि भजै, सदा धरैं उर ध्यान। ”

” तेहि के कारज सकल शुभ, सिद्घ करैं हनुमान।। “

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...