योगी के मंत्री ने सपा—बसपा पर कसा तंज, कहा, ‘चुनावी बुआ’ ने बबुआ को तपती सड़क पर हांफने को छोड़ दिया

sp and bsp
योगी के मंत्री ने सपा—बसपा पर कसा तंज, कहा, 'चुनावी बुआ' ने बबुआ को तपती सड़क पर हांफने को छोड़ दिया

लखनऊ। यूपी में सपा—बसपा का गठबंधन टूटने के बाद बीजेपी इसको लेकर हमलावार हो गयी है। बीजेपी का कहना है कि यह स्वार्थ का गठबंधन था, जो टूट गया। ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने ट्वीट कर सपा—बसपा पर तंज सका है। श्रीकांत शर्मा ने ट्वीट में लिखा है कि ‘बबुआ की ‘चुनावी बुआ’ ने गठबंधन तोड़ने की मंशा जताकर स्पष्ट कर दिया है कि ‘साइकिल’ उनके लिए बड़ा सहारा नहीं, सिर्फ छोटे सफर का जरिया था।

Shrikant Sharma Comment On Sp Bsp Alliance :

10 सीट का सफर पूरा हुआ और उन्होंने ‘साइकिल’ वाले बबुआ को राजनीति की तपती सड़क पर हांफने को छोड़ दिया। इसके साथ ही एक और ​ट्वीट किया है, जिसमें लिखा है कि ‘आपसी स्वार्थ व निजी सरोकारों की नींव पर खड़े सपा—बसपा गठबंधन का कभी कोई भविष्य नहीं था। अपना अस्तित्व बचाने की जुगत में बुआ—बबुआ बस इस बेमेल गठबंधन को ढो रहे थे।

प्रदेश के आगामी उप चुनाव में अकेले लड़ने की बात कर बहन जी ने बता दिया है कि उन्हें अब ‘साइकिल’ नहीं चाहिए। इसके साथ ही डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने चुटकी ली है। उन्होंने लगातार दो ट्वीट किए। एक ट्वीट में केशव प्रसाद मौर्य ने लिखा, ‘अब ‘हाथी’ नहीं करेगा ‘साइकिल’ की सवारी, मायावती जी अकेले ही लड़ेंगी सभी सीटों पर उपचुनाव! आखिर में बुआ ने बबुआ को धोखा दे ही दिया।

हाथी और साइकिल का कोई मेल ही नहीं था, ये तो सिर्फ मोदी जी का विरोध ही था।’ मौर्य ने अपने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘प्रदेश में अपना अस्तित्व बचाने के लिए बुआ-बबुआ साथ-साथ आए थे, लेकिन जनता तो सारा सच पहले से ही जानती थी और उसने सोच समझकर ही वोट किया।’

लखनऊ। यूपी में सपा—बसपा का गठबंधन टूटने के बाद बीजेपी इसको लेकर हमलावार हो गयी है। बीजेपी का कहना है कि यह स्वार्थ का गठबंधन था, जो टूट गया। ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने ट्वीट कर सपा—बसपा पर तंज सका है। श्रीकांत शर्मा ने ट्वीट में लिखा है कि 'बबुआ की 'चुनावी बुआ' ने गठबंधन तोड़ने की मंशा जताकर स्पष्ट कर दिया है कि 'साइकिल' उनके लिए बड़ा सहारा नहीं, सिर्फ छोटे सफर का जरिया था। https://twitter.com/ptshrikant/status/1135599537936986116 10 सीट का सफर पूरा हुआ और उन्होंने 'साइकिल' वाले बबुआ को राजनीति की तपती सड़क पर हांफने को छोड़ दिया। इसके साथ ही एक और ​ट्वीट किया है, जिसमें लिखा है कि 'आपसी स्वार्थ व निजी सरोकारों की नींव पर खड़े सपा—बसपा गठबंधन का कभी कोई भविष्य नहीं था। अपना अस्तित्व बचाने की जुगत में बुआ—बबुआ बस इस बेमेल गठबंधन को ढो रहे थे। https://twitter.com/kpmaurya1/status/1135508834800345088 प्रदेश के आगामी उप चुनाव में अकेले लड़ने की बात कर बहन जी ने बता दिया है कि उन्हें अब 'साइकिल' नहीं चाहिए। इसके साथ ही डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने चुटकी ली है। उन्होंने लगातार दो ट्वीट किए। एक ट्वीट में केशव प्रसाद मौर्य ने लिखा, 'अब ‘हाथी’ नहीं करेगा ‘साइकिल’ की सवारी, मायावती जी अकेले ही लड़ेंगी सभी सीटों पर उपचुनाव! आखिर में बुआ ने बबुआ को धोखा दे ही दिया। हाथी और साइकिल का कोई मेल ही नहीं था, ये तो सिर्फ मोदी जी का विरोध ही था।' मौर्य ने अपने एक अन्य ट्वीट में कहा, 'प्रदेश में अपना अस्तित्व बचाने के लिए बुआ-बबुआ साथ-साथ आए थे, लेकिन जनता तो सारा सच पहले से ही जानती थी और उसने सोच समझकर ही वोट किया।'