1. हिन्दी समाचार
  2. भारत में जासूसी का नेटवर्क बढ़ाने के लिए हनी ट्रैप का सहारा ले रही ISI

भारत में जासूसी का नेटवर्क बढ़ाने के लिए हनी ट्रैप का सहारा ले रही ISI

Si Taking Advantage Of Honey Trap To Increase Network In India

By आशीष यादव 
Updated Date

नई दिल्ली। भारत में सेना की जासूसी करने के लिए पाकिस्तानी एजेंसी आईएसआई अब एक नया रास्ता अख्तियार कर रही हे। सूत्रों की मानें तो आईएसआई सैन्य जासूसी का नेटवर्क खड़ा करने के लिए हनीट्रैप का सहारा ले रही है। इस बात खुलासा होने पर एटीएस समेत भारत की सभी एजेंसियां चैकन्ना हो गई हैं। बताया जा रहा है कि गुजरात के भुज में पकड़े गए दोनों संदिग्धों का कनेक्शन भी सैन्य जासूसी से ही है।

पढ़ें :- कंगना की हुई जीता, बॉम्बे हाई कोर्ट ने BMC को दिया झटका...तोड़फोड़ को बताया

इस मामले की जांच में जुटी खुफिया एजेंसियों के मुताबिक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म खासकर फेसबुक पर सेना के जवान महिलाओं के ऐसी फर्जी फेसबुक अकाउंट से जुड़ जाते हैं, जो मूलरूप से पाकिस्तान से संचालित होते हैं। वहीं आगे चलकर ये लोग वाट्सअप या अन्य माध्यमों से बात करने लगते हैं और फिर बातों में फंसकर सेना की खुफिया जानकारियां देने लगते हैं।

कई मामले तो ऐसे भी सामने आए जिनमें जानकारियों के बदले आईएसआई की तरफ से पैसे दिए जाने का खुलासा भी हुआ। अभी हाल ही में यूपी एटीएस के इनपुट पर मिलिट्री इंटेलीजेंस ने बबीना झांसी व वर्धा महाराष्ट्र से दो सैन्यकर्मियों को गिरफ्तार किया था। ये दोनों सैन्यकर्मी हनीट्रैप में फंसकर सेना की गोपनीय जानकारियां आईएसआई को दे रहे थे। इन दोनों को गुजरात के दो व्यक्ति पैसे दे रहे थे।

वहीं यूपी एटीएस द्वारा तीन मई 2017 को फैजाबाद से आईएसआई के एजेंट आफताब अली को गिरफ्तार किया था। वो दिल्ली स्थित पाकिस्तानी दूतावास से जुड़ा हुआ था। उस समय एटीएस को ऐसी सूचना मिली थी कि भारत में सेना के गतिविधियों की जानकारी पाकिस्तान दूतावास के इंटेलिजेंस अधिकारियों व आईएसआई को भेजी जा रही है।

पढ़ें :- सपा सांसद एचटी हसन बोले-हिंदू लड़कियों को अपनी बहन मानें मुस्लिम युवक

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...