चोरी के शक में भाभी की सिलबट्टे से सिर कुचल कर हत्या

चोरी के शक में भाभी की सिलबट्टे से सिर कुचल कर हत्या
चोरी के शक में भाभी की सिलबट्टे से सिर कुचल कर हत्या

जालौन। उत्तर प्रदेश में जालौन जिले के कदौरा थाना क्षेत्र के मदरालालपुर गांव में एक व्यक्ति ने चोरी के शक में अपनी विधवा भाभी की सिलबट्टे से सिर कुचल कर हत्या कर दी। ग्रामीणों ने आरोपी को पकड़ कर पुलिस को सौंप दिया है।

Sibbattes Head Crushed In Suspicion Of Theft :

पुलिस अधीक्षक अमरेन्द्र प्रसाद सिंह ने बुधवार को बताया कि मंगलवार की दोपहर गुड्डो देवी (24) पत्नी स्व. इंद्रपाल अपने खेत से काम कर घर पहुंची ही थी कि उसका अपने देवर शिशुपाल से विवाद होने लगा। कुछ देर बाद शिशुपाल ने घर में रखे सिलबट्टे से महिला का मुंह और सिर कुचल दिया, जिससे घटनास्थल पर ही उसकी मौत हो गई। घटना के समय घर में मौजूद महिला के भाई शिव सिंह (11) ने अपनी बहन को बचाने की कोशिश की तो उसने गला दबाकर उसे भी मारने का प्रयास किया।

उन्होंने बताया कि शोर-शराबा सुनकर पड़ोसी पहुंचे और आरोपी शिशुपाल को पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया। एसपी ने बताया कि आरोपी ने पुलिस हिरासत में स्वीकार किया कि महिला उसके घर में चोरी कर लेती थी, इसी वजह से नाराज होकर उसकी हत्या कर दी। देवर और भाभी बंटवारे के बाद एक ही घर में अलग-अलग रहते थे।

जालौन। उत्तर प्रदेश में जालौन जिले के कदौरा थाना क्षेत्र के मदरालालपुर गांव में एक व्यक्ति ने चोरी के शक में अपनी विधवा भाभी की सिलबट्टे से सिर कुचल कर हत्या कर दी। ग्रामीणों ने आरोपी को पकड़ कर पुलिस को सौंप दिया है।पुलिस अधीक्षक अमरेन्द्र प्रसाद सिंह ने बुधवार को बताया कि मंगलवार की दोपहर गुड्डो देवी (24) पत्नी स्व. इंद्रपाल अपने खेत से काम कर घर पहुंची ही थी कि उसका अपने देवर शिशुपाल से विवाद होने लगा। कुछ देर बाद शिशुपाल ने घर में रखे सिलबट्टे से महिला का मुंह और सिर कुचल दिया, जिससे घटनास्थल पर ही उसकी मौत हो गई। घटना के समय घर में मौजूद महिला के भाई शिव सिंह (11) ने अपनी बहन को बचाने की कोशिश की तो उसने गला दबाकर उसे भी मारने का प्रयास किया।उन्होंने बताया कि शोर-शराबा सुनकर पड़ोसी पहुंचे और आरोपी शिशुपाल को पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया। एसपी ने बताया कि आरोपी ने पुलिस हिरासत में स्वीकार किया कि महिला उसके घर में चोरी कर लेती थी, इसी वजह से नाराज होकर उसकी हत्या कर दी। देवर और भाभी बंटवारे के बाद एक ही घर में अलग-अलग रहते थे।