भेड़ियों से भरे जंगल में 3 साल के मासूम ने कैसे गुजारी रातें, पढ़िए पूरा वृतांत

Siberia Wolves 3 Years Alone In The Woods Of The 72 Hours She S Innocent

मास्को| तीन साल का छोटा सा बच्चा अपने पालतू कुत्ते का पीछा करते हुए रूस के साइबेरिया के घने जंगलों में खो गया जहां का तापमान माइनस 12 डिग्री औसत था। जंगलों के खूंखार जानवरों के बीच बच्चा भूखा-प्यासा अकेला जूझता रहा। फिलहाल सेना की कड़ी मेहनत के बाद बच्चा सुरक्षित मां-बाप को सौंप दिया गया है।




दरअसल सेरिन डोपचट नाम का यह बच्चा अपने घर के बाहर खेल रहा था तब उसकी दादी उसे देख रही थी। तभी अचानक अपने पालतू कुत्ते को पकड़ने के चक्कर में वो उसके पीछे भागने लगा और जंगल में गायब हो गया। बच्चे को ढूंढने के लिए एक खोजी अभियान चलाया गया लेकिन उसका कोई पता नहीं चला| इसके बाद बच्चे को जंगल से ढूँढ निकालने के लिए एक हेलीकॉप्टर की मदद ली गई। उस बच्चे को ढूंढने में कुल 72 घंटे लगे। इस अभियान में 100 से भी ज्यादा लोग लगे हुए थे।

घने जंगल में यह बच्चा तीन दिन तक सिर्फ अपने साथ लाइ चाकलेट खाकर जिंदा रहा और देवदार के सूखे पत्ते बिछा कर सोता था। तुवा रिपब्लिकन के प्रमुख शोलबान कारा ओल ने उसके जिंदा बचे रहने की घोषणा करते हुए ब्लॉग में लिखा, ‘हुर्रे! छोटा सेरिन जिंदा पाया गया!।

आस्था सिंह की रिपोर्ट



मास्को| तीन साल का छोटा सा बच्चा अपने पालतू कुत्ते का पीछा करते हुए रूस के साइबेरिया के घने जंगलों में खो गया जहां का तापमान माइनस 12 डिग्री औसत था। जंगलों के खूंखार जानवरों के बीच बच्चा भूखा-प्यासा अकेला जूझता रहा। फिलहाल सेना की कड़ी मेहनत के बाद बच्चा सुरक्षित मां-बाप को सौंप दिया गया है। दरअसल सेरिन डोपचट नाम का यह बच्चा अपने घर के बाहर खेल रहा था तब उसकी दादी उसे देख रही थी। तभी अचानक…