1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Singh Sankranti 2021: सूर्य नारायण की पूजा से आएगा जीवन में बदलाव, इन मंत्रों से करनी है पूजा

Singh Sankranti 2021: सूर्य नारायण की पूजा से आएगा जीवन में बदलाव, इन मंत्रों से करनी है पूजा

ज्योतिष में सूर्य को आत्मा का कारक माना जाता है। अभी तक कर्क राशि में गोचर करने वाले सूर्य देवता अब अपनी राशि में आ गए हैं। कर्क राशि को छोड़ कर सूर्य देव ने 17 अगस्त 2021, मंगलवार को रात्रि 01 बजकर 05 मिनट पर सिंह राशि में प्रवेश किया हैं। सिंह संक्रांति 17 अगस्त 2021 को मनाई जाएगी।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Singh Sankranti 2021: ज्योतिष में सूर्य को आत्मा का कारक माना जाता है। अभी तक कर्क राशि में गोचर करने वाले सूर्य देवता अब अपनी राशि में आ गए हैं। कर्क राशि को छोड़ कर सूर्य देव ने 17 अगस्त 2021, मंगलवार को रात्रि 01 बजकर 05 मिनट पर सिंह राशि में प्रवेश किया हैं। सिंह संक्रांति 17 अगस्त 2021 को मनाई जाएगी। सूर्य देव जब कर्क राशि से सिंह राशि में प्रवेश करते हैं तो उसे सिंह संक्रांति के नाम से जाना जाता है।

पढ़ें :- Perfume Ke Totke : सुख-सुविधाओं की प्राप्ति के लिए भी इत्र के प्रयोग किए जाते हैं, जानिए कहां रखना है

सिंह संक्रांति के दिन पवित्र नदियों में स्नान करना काफी शुभ माना जाता है। सिंह संक्रांति पर सूर्य अपनी राशि में आने के कारण बली होते हैं। बली होने के कारण उनका प्रभाव और बढ़ जाता है।

कुंडली में सूर्य का मजबूत होना बहुत आवश्यक माना गया है। अगर आपका सूर्य मजबूत नहीं है तो नौकरी पर खतरा हो सकता हैं। पिता से नहीं बनेगी। आइए जानते हैं सूर्य कमजोर होने की निशानी और इससे बचने का क्या उपाय है।

कुंडली में सूर्य कमजोर होने की निशानी

ज्योतिष शास्त्र में ग्रहों के शुभ और अशुभ फल देने के कारणें के बारे में विस्तृत बताया गया है। जिन जातकों का सूर्य शुभ फल नहीं देता उन जातकों की पिता और गुरु से नहीं बनेगी। बिना कारण आप क्रोधित रहेंगे और अंहकार आ जाता है। नौकरी चली जाना। हर समय थका हुआ महसूस करना और किसी भी काम करने से पहले आलस महसूस करते हैं। घर में संपति विवाद होना।

पढ़ें :- Vastu Shastra Tips : थाली के बाएं तरफ हमेशा चबाकर ग्रहण करने वाले खाद्य पदार्थ ही रखें , कभी दरिद्रता नहीं आती है

कुंडली में सूर्य को मजबूत करने के उपाय

भारतीय ज्योतिष शास्त्र में कुंडली में सूर्य को मजबूत करने के लिए कुछ उपाय बताए गए है जिसका इस्तेमाल कर आप अपने बिगड़े काम को काम बना सकते हैं।

सूर्य को मजबूत करने के लिए तांबे के लोटे में जल, लाल चंदन, गुलाब का फूल डालकर भगवान सूर्य की पूजा करें। इससे आपका सूर्य मजबूत होगा।

इसके अलावा सिरहाने में सोने से पहले तांबे के लोटे में पानी रखकर सो जाएं और सुबह उठकर उस पानी को पी लें. इससे आपका पाचन अच्छा रहेगा। आप दाएं हाथ में कड़ा पहन सकते हैं जिससे आपकी कुंडली में सूर्य मजबूत होता है।

हर रोज सुबह उठकर भगवान सूर्य की पूजा करें। इस मंत्र का जाप करें।

पढ़ें :- Garuda Purana: गरुड़ पुराण में मनुष्य के कर्मों का लेखा-जोखा बताया गया है, सामर्थ्य के अनुसार दान जरूर करें

ऊँ हृां हृीं सः सूर्याय नमः।।
ऊँ घृणिः सूर्य आदिव्योम।।
शत्रु नाशाय ऊँ हृीं हृीं सूर्याय नमाः।।

 

भगवान सूर्य की आरती

जय कश्यप नन्दन, स्वामी जय कश्यप नन्दन।

त्रिभुवन तिमिर निकंदन, भक्त हृदय चन्दन॥ जय ..

सप्त अश्वरथ राजित, एक चक्रधारी।

पढ़ें :- 7 दिसंबर 2022 राशिफल: इन जातकों को मिलेगा शुभ समाचार, इनके बन रहे यात्रा के योग

दु:खहारी, सुखकारी, मानस मलहारी॥ जय ..

सुर मुनि भूशर वन्दित, विमल विभवशाली।

अघ-दल-दलन दिवाकर, दिव्य किरण माली॥ जय ..

सकल सुकर्म प्रसाविता, साविता शुभकारी।

विश्व विलोचन मोचन, भव-बंधन भारी॥ जय ..

कमल समूह विकाशक, नाशक त्रय तापा।

सेवत साहज हरता अति, मनसिज संतापा॥ जय ..

पढ़ें :- Aaj ka Panchang: मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष चतुर्दशी, जाने शुभ-अशुभ समय मुहूर्त और राहुकाल...

नेत्र व्याधि हर सुरवर, भू-पीड़ा हारी।

वृष्टि विमोचन संतत, परहित व्रतधारी॥ जय ..

सूर्यदेव करुणाकर, अब करुणा कीजै।

हर अज्ञान मोह सब, तत्त्वज्ञान दीजै॥ जय ..

जय कश्यप नन्दन, स्वामी जय कश्यप नन्दन।

त्रिभुवन तिमिर निकंदन, भक्त हृदय चन्दन॥ जय ..

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...