डीएस हुड्डा बोले- एक सर्जिकल या एयर स्ट्राइक PAK का व्यवहार बदलने के लिए काफी नहीं

d s hooda
डीएस हुड्डा बोले- एक सर्जिकल या एयर स्ट्राइक PAK का व्यवहार बदलने के लिए काफी नहीं

नई दिल्ली। सेना के पूर्व प्रमुख कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल डी.एस. हुड्डा ने रविवार को कहा कि एक सर्जिकल या एयर स्ट्राइक पाकिस्तान का व्यवहार बदलने के लिए पर्याप्त नहीं है। हुड्डा ने सितंबर 2016 में नियंत्रण रेखा के पार पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में मौजूद आतंकी ठिकानों के खिलाफ भारत के सैन्य अभियान की निगरानी की थी।

Single Surgical Or Air Strike Not Enough To Make Pakistan Change Its Behaviour Says Ex Lt Gen Hooda :

‘राजनीति से परे: नए सुरक्षा घोषणापत्र पर बहस’ शीर्षक पर परिचर्चा के दौरान अपनी रिपोर्ट ‘भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा रणनीति’ की विशेषताएं बताते हुए सेना के पूर्व जनरल ने कहा, ‘एक सर्जिकल स्ट्राइक या एयर स्ट्राइक पाकिस्तान का व्यवहार बदलने के लिए काफी नहीं है।’

हुड्डा ने कहा भारत की सैन्य तैयारियां सर्जिकल स्ट्राइक से लेकर जंग तक के जवाबी विकल्पों के अनुरूप होनी चाहिए क्योंकि भविष्य के संघर्षों में युद्ध की कुशलता, अभियान और रणनीति के स्तरों के बीच अंतर खत्म हो जाएगा। कार्यबल ने जम्मू कश्मीर में संघर्ष की मुश्किल समस्या का भी उल्लेख किया और कहा कि राज्य में कट्टरपंथ का जवाब देने के लिए गंभीर प्रयास की जरूरत है।

डीएस हुड्डा ने 2016 में पाक अधिकृत कश्मीर में आतंकवादियों के लॉन्चिंग पैड पर भारतीय सेना द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक में एक रणनीतिकार की भूमिका निभाई थी। हुड्डा देश की व्यापक सुरक्षा पर आधारित इस रिपोर्ट को काफी वक्त से तैयार कर रहे थे और कुछ दिन पहले ही उन्होंने इस रिपोर्ट को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को सौंपा था।

नई दिल्ली। सेना के पूर्व प्रमुख कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल डी.एस. हुड्डा ने रविवार को कहा कि एक सर्जिकल या एयर स्ट्राइक पाकिस्तान का व्यवहार बदलने के लिए पर्याप्त नहीं है। हुड्डा ने सितंबर 2016 में नियंत्रण रेखा के पार पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में मौजूद आतंकी ठिकानों के खिलाफ भारत के सैन्य अभियान की निगरानी की थी। ‘राजनीति से परे: नए सुरक्षा घोषणापत्र पर बहस’ शीर्षक पर परिचर्चा के दौरान अपनी रिपोर्ट ‘भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा रणनीति’ की विशेषताएं बताते हुए सेना के पूर्व जनरल ने कहा, ‘एक सर्जिकल स्ट्राइक या एयर स्ट्राइक पाकिस्तान का व्यवहार बदलने के लिए काफी नहीं है।’ हुड्डा ने कहा भारत की सैन्य तैयारियां सर्जिकल स्ट्राइक से लेकर जंग तक के जवाबी विकल्पों के अनुरूप होनी चाहिए क्योंकि भविष्य के संघर्षों में युद्ध की कुशलता, अभियान और रणनीति के स्तरों के बीच अंतर खत्म हो जाएगा। कार्यबल ने जम्मू कश्मीर में संघर्ष की मुश्किल समस्या का भी उल्लेख किया और कहा कि राज्य में कट्टरपंथ का जवाब देने के लिए गंभीर प्रयास की जरूरत है। डीएस हुड्डा ने 2016 में पाक अधिकृत कश्मीर में आतंकवादियों के लॉन्चिंग पैड पर भारतीय सेना द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक में एक रणनीतिकार की भूमिका निभाई थी। हुड्डा देश की व्यापक सुरक्षा पर आधारित इस रिपोर्ट को काफी वक्त से तैयार कर रहे थे और कुछ दिन पहले ही उन्होंने इस रिपोर्ट को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को सौंपा था।