छठे चरण में बीजेपी को गढ़ तो गठबंधन और कांग्रेस को साख बचाने की चुनौती, यूपी की 14 सीटों पर होगा चुनाव

6 phesh
छठे चरण में बीजेपी को गढ़ तो गठबंधन और कांग्रेस को साख बचाने की चुनौती, यूपी की 14 सीटों पर होगा चुनाव

लखनऊ। लोकसभा चुनाव के छठे चरण में यूपी की 14 सीटों पर चुनाव होंगे। इन सीटों पर बीजेपी को अपना गढ़ तो गठबंधन और कांग्रेस को अपनी साख बचाने की चुनौती होगी। छठे चरण की ज्यादातर सीटों पर मौजूदा समय बीजेपी काबिज है। वहीं आजमगढ़ में सपा और फूलपुर के उप चुनाव में सपा को जीत मिली। इन दोनों सीटों को छोड़कर कुछ भी विपक्ष के पास खोने के लिए नहीं है, जबकि भाजपा के पास अपनी साख बचाने की चुनौती पहाड़ जैसी खड़ी है।

Sixth Phase Of Lok Sabha Elections :

इस कारण छठें चरण में 14 सीटों पर होने वाले चुनाव के लिए भाजपा ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। वहीं अपनी साख बचाने के लिए सपा-बसपा प्रमुखों के बोल बिगड़ते जा रहे हैं। दोनों दलों के नेताओं को अपने-अपने दलों के वोट खिसकते नजर आ रहे हैं। भदोही में सपा का वोट बैंक कांग्रेस की तरफ सिफ्ट होता देख मायावती वहां अपने उम्मीदवार को जीताने के लिए अखिलेश यादव को लेकर पहुंच गयी और स्पष्ट किया कि कांग्रेस उम्मीदवार अखिलेश यादव का खास बता रहे हैं। इस कारण अखिलेश यादव को लेकर आयी हूं। वहीं इस चरण में कई सीटों पर कांग्रेस वोट कटवा की भूमिका में ही है।

इलाहाबाद में बीजेपी ने खेला बड़ा दांव
छठें चरण के चुनाव पर नजर दौड़ायें तो इलाहाबाद लोकसभा सीट पर भाजपा उम्मीदवार राज्य सरकार में मंत्री डा. रीता बहुगुणा जोशी चुनाव लड़ रही हैं। पिछली बार वहां भाजपा के श्यामा चरण गुप्ता चुनाव जीते थे लेकिन इस बार वे सपा में शामिल हो गये। श्यामा चरण गुप्ता को 3,13,772 वोट मिले थे, जबकि दूसरे स्थान पर 2,51,763 मत पाकर सपा के कुंवर रेवती रमण सिंह रहे।

मेनका के सामने सुल्तानपुर सीट बचाने की चुनौती
केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी सुल्तापुर सीट पर भाजपा से चुनाव लड़ रही हैं। इस कारण यह सीट भी काफी चर्चा में है। इस सीट पर पिछली बार वरूण गांधी चुनाव जीते थे लेकिन इस बार भाजपा ने इस सीट पर उनकी मां को उम्मीदवार बनाया है। यहां पिछली बार वरूण गांधी का चुनाव प्रचार करने वाले चंद्रभद्र सिंह इस बार बसपा के टिकट पर उनकी मां के सामने चुनाव मैदान में हैं। वे दबंग नेता के रूप में जाने जाते हैं। पिछली बार वरूण गांधी 4,10,338 मत पाये थे, जबकि 2,31,446 मत पाकर बसपा के पवन पांडेय दूसरे स्थान पर रहे।

अखिलेश यादव को निरहुआ में कड़ी टक्कर
आजमगढ़ सीट पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव चुनाव लड़ रहे हैं। इनको टक्कर देने के लिए भाजपा ने भोजपुरी के सीने स्टार निरहुआ को मैदान में उतारा है। निरहुआ ने जो पर्चा दाखिला से पूर्व जो अभूतपूर्व रोड-शो किया था। उसके बाद से उसका क्षेत्र में समा बंध गया है। हार-जीत का पता तो 23 मई को ही चल पाएगा, लेकिन इतना जरूर है कि निरहुआ कड़ी टक्कर दे रहा है। पिछली बार 2014 में यहां से मुलायम सिंह यादव भाजपा के रमाकांत यादव को हराकर चुनाव जीते थे।

फूलपुर में भाजापा और गठबंधन में मुकाबला
फूलपुर लोकसभा सीट भी भाजपा के लिए काफी चुनौती पूर्ण है, क्योंकि 2014 में भाजपा के खाते में गयी इस सीट पर उप चुनाव में सपा ने कब्जा जमा लिया था। इस बार सपा से सीट को पुनः वापस लेने के लिए भाजपा एड़ी चोटी का जोर लगा रही है। इस सीट पर बीजेपी ने केशरी देवी पटेल को उम्मीदवार बनाया है। वहीं यादव बाहुल्य सीट पर महागठबंधन ने पंधारी यादव को मैदान में उतारा है। 2014 में केशव प्रसाद मौर्य इस सीट से तीन लाख से ज्यादा मतों से विजयी हुए थे।

प्रतापगढ़ सीट पर त्रिकोणिय मुकाबला
प्रतापगढ़ सीट पर कांग्रेस से विदेश मंत्री रहे राजा दिनेश सिंह संसद पहुंचते रहे हैं लेकिन 1998 में पहली बार बीजेपी ने राम विलास वेदांती उतारकर यहां कमल खिलाने में कामयाब रही। 2014 में गठबंधन के खाते में रही सीट पर अपना दल के उम्मीदवार ने इस सीट को कांग्रेस उम्मीदवार रत्ना रानी से छिन लिया। इस बार भाजपा के संगम लाल गुप्ता, महागठबंधन के अशोक त्रिपाठी और कांग्रेस उम्मीदवार रत्ना रानी सिंह के बीच त्रिकोणीय मुकाबला है।

अम्बेडकर नगर और श्रावस्ती में प्रतिष्ठा दांव पर
अम्बेडकर नगर सीट पर पिछली बार भाजपा उम्मीदवार हरीओम पांडेय 4,32,104 मत पाकर विजयी रहे थे, जबकि बसपा उम्मीदवार राकेश पांडेय दूसरे नम्बर पर थे। इस बार मुकुट बिहारी वर्मा को उम्मीदवार बनाया है। श्रावस्ती लोकसभा सीट पर भाजपा ने वर्तमान सांसद दद्दन मिश्रा पर ही दांव लगाया है। उनका संसद में उपस्थिति का रिकार्ड 92 फीसदी रही है। 2014 के लोकसभा चुनाव में दद्दन मिश्रा 345,964 मत पाये थे, जबकि अतीक अहमद के खाते में 260,051 वोट आए थे।

भदोही में रमकांत यादव ने बढ़ाई मुश्किलें
भदोही में पिछली बार लोकसभा चुनाव में बीजेपी के वीरेंद्र सिंह मस्त ने बीएसपी उम्मीदवार को डेढ़ लाख वोटों से हराया था। लेकिन इस बार भाजपा ने उन्हें उनकी सीट बदलकर भदोही से रमेश बिंद को उम्मीदवार बनाया है। बसपा ने इसबार जहां रंगनाथ मिश्र को टिकट दिया है। वहीं कांग्रेस ने बाहुबली रमाकांत यादव को टिकट देकर महागठबंधन के उम्मीदवार के लिए मुश्किल खड़ी कर दी है।

लखनऊ। लोकसभा चुनाव के छठे चरण में यूपी की 14 सीटों पर चुनाव होंगे। इन सीटों पर बीजेपी को अपना गढ़ तो गठबंधन और कांग्रेस को अपनी साख बचाने की चुनौती होगी। छठे चरण की ज्यादातर सीटों पर मौजूदा समय बीजेपी काबिज है। वहीं आजमगढ़ में सपा और फूलपुर के उप चुनाव में सपा को जीत मिली। इन दोनों सीटों को छोड़कर कुछ भी विपक्ष के पास खोने के लिए नहीं है, जबकि भाजपा के पास अपनी साख बचाने की चुनौती पहाड़ जैसी खड़ी है। इस कारण छठें चरण में 14 सीटों पर होने वाले चुनाव के लिए भाजपा ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। वहीं अपनी साख बचाने के लिए सपा-बसपा प्रमुखों के बोल बिगड़ते जा रहे हैं। दोनों दलों के नेताओं को अपने-अपने दलों के वोट खिसकते नजर आ रहे हैं। भदोही में सपा का वोट बैंक कांग्रेस की तरफ सिफ्ट होता देख मायावती वहां अपने उम्मीदवार को जीताने के लिए अखिलेश यादव को लेकर पहुंच गयी और स्पष्ट किया कि कांग्रेस उम्मीदवार अखिलेश यादव का खास बता रहे हैं। इस कारण अखिलेश यादव को लेकर आयी हूं। वहीं इस चरण में कई सीटों पर कांग्रेस वोट कटवा की भूमिका में ही है। इलाहाबाद में बीजेपी ने खेला बड़ा दांव छठें चरण के चुनाव पर नजर दौड़ायें तो इलाहाबाद लोकसभा सीट पर भाजपा उम्मीदवार राज्य सरकार में मंत्री डा. रीता बहुगुणा जोशी चुनाव लड़ रही हैं। पिछली बार वहां भाजपा के श्यामा चरण गुप्ता चुनाव जीते थे लेकिन इस बार वे सपा में शामिल हो गये। श्यामा चरण गुप्ता को 3,13,772 वोट मिले थे, जबकि दूसरे स्थान पर 2,51,763 मत पाकर सपा के कुंवर रेवती रमण सिंह रहे। मेनका के सामने सुल्तानपुर सीट बचाने की चुनौती केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी सुल्तापुर सीट पर भाजपा से चुनाव लड़ रही हैं। इस कारण यह सीट भी काफी चर्चा में है। इस सीट पर पिछली बार वरूण गांधी चुनाव जीते थे लेकिन इस बार भाजपा ने इस सीट पर उनकी मां को उम्मीदवार बनाया है। यहां पिछली बार वरूण गांधी का चुनाव प्रचार करने वाले चंद्रभद्र सिंह इस बार बसपा के टिकट पर उनकी मां के सामने चुनाव मैदान में हैं। वे दबंग नेता के रूप में जाने जाते हैं। पिछली बार वरूण गांधी 4,10,338 मत पाये थे, जबकि 2,31,446 मत पाकर बसपा के पवन पांडेय दूसरे स्थान पर रहे। अखिलेश यादव को निरहुआ में कड़ी टक्कर आजमगढ़ सीट पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव चुनाव लड़ रहे हैं। इनको टक्कर देने के लिए भाजपा ने भोजपुरी के सीने स्टार निरहुआ को मैदान में उतारा है। निरहुआ ने जो पर्चा दाखिला से पूर्व जो अभूतपूर्व रोड-शो किया था। उसके बाद से उसका क्षेत्र में समा बंध गया है। हार-जीत का पता तो 23 मई को ही चल पाएगा, लेकिन इतना जरूर है कि निरहुआ कड़ी टक्कर दे रहा है। पिछली बार 2014 में यहां से मुलायम सिंह यादव भाजपा के रमाकांत यादव को हराकर चुनाव जीते थे। फूलपुर में भाजापा और गठबंधन में मुकाबला फूलपुर लोकसभा सीट भी भाजपा के लिए काफी चुनौती पूर्ण है, क्योंकि 2014 में भाजपा के खाते में गयी इस सीट पर उप चुनाव में सपा ने कब्जा जमा लिया था। इस बार सपा से सीट को पुनः वापस लेने के लिए भाजपा एड़ी चोटी का जोर लगा रही है। इस सीट पर बीजेपी ने केशरी देवी पटेल को उम्मीदवार बनाया है। वहीं यादव बाहुल्य सीट पर महागठबंधन ने पंधारी यादव को मैदान में उतारा है। 2014 में केशव प्रसाद मौर्य इस सीट से तीन लाख से ज्यादा मतों से विजयी हुए थे। प्रतापगढ़ सीट पर त्रिकोणिय मुकाबला प्रतापगढ़ सीट पर कांग्रेस से विदेश मंत्री रहे राजा दिनेश सिंह संसद पहुंचते रहे हैं लेकिन 1998 में पहली बार बीजेपी ने राम विलास वेदांती उतारकर यहां कमल खिलाने में कामयाब रही। 2014 में गठबंधन के खाते में रही सीट पर अपना दल के उम्मीदवार ने इस सीट को कांग्रेस उम्मीदवार रत्ना रानी से छिन लिया। इस बार भाजपा के संगम लाल गुप्ता, महागठबंधन के अशोक त्रिपाठी और कांग्रेस उम्मीदवार रत्ना रानी सिंह के बीच त्रिकोणीय मुकाबला है। अम्बेडकर नगर और श्रावस्ती में प्रतिष्ठा दांव पर अम्बेडकर नगर सीट पर पिछली बार भाजपा उम्मीदवार हरीओम पांडेय 4,32,104 मत पाकर विजयी रहे थे, जबकि बसपा उम्मीदवार राकेश पांडेय दूसरे नम्बर पर थे। इस बार मुकुट बिहारी वर्मा को उम्मीदवार बनाया है। श्रावस्ती लोकसभा सीट पर भाजपा ने वर्तमान सांसद दद्दन मिश्रा पर ही दांव लगाया है। उनका संसद में उपस्थिति का रिकार्ड 92 फीसदी रही है। 2014 के लोकसभा चुनाव में दद्दन मिश्रा 345,964 मत पाये थे, जबकि अतीक अहमद के खाते में 260,051 वोट आए थे। भदोही में रमकांत यादव ने बढ़ाई मुश्किलें भदोही में पिछली बार लोकसभा चुनाव में बीजेपी के वीरेंद्र सिंह मस्त ने बीएसपी उम्मीदवार को डेढ़ लाख वोटों से हराया था। लेकिन इस बार भाजपा ने उन्हें उनकी सीट बदलकर भदोही से रमेश बिंद को उम्मीदवार बनाया है। बसपा ने इसबार जहां रंगनाथ मिश्र को टिकट दिया है। वहीं कांग्रेस ने बाहुबली रमाकांत यादव को टिकट देकर महागठबंधन के उम्मीदवार के लिए मुश्किल खड़ी कर दी है।