AMU में CM योगी के खिलाफ नारेबाजी, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल, अज्ञात छात्रों पर केस

amu
AMU में CM योगी के खिलाफ नारेबाजी, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल, अज्ञात छात्रों पर केस

अलीगढ़। उत्तर प्रदेश की अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में सीएम योगी आदित्यनाथ के खिलाफ जमकर नारेबाजी हुई। इसका एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। वीडियो वायरल होते ही पुलिस ने आनन—फानन में 50 से 60 अज्ञात छात्रों पर केस दर्जकर लिया। दरअसल, एएमयू के छात्र जेएनयू में हुई हिंसा को लेकर गुरुवार मानव श्रृंखला बनाकर नारेबाजी कर रहे थे।

Slogans Against Cm Yogi In Amu Video Viral On Social Media Case On Unknown Students :

इस दौरान सीएम योगी के खिलाफ भी जमकर नारेबाजी हुई थी। बताया जा रहा है कि, मास कॉम डिपार्टमेंट से सैयद गेट तक छात्रों ने मानव श्रृंखला बनाई थी। मामले में सीओ सिविल लाइन अनिल समानिया का कहना है कि 40 से 50 छात्रों के खिलाफ सरकार के खिलाफ नारेबाजी करने का मुकदमा दर्ज किया गया है। जल्द ही आरोपी छात्रों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

वहीं, विरोध-प्रदर्शन के बीच प्रशासन के सामने सबसे बड़ी चुनौती अलीगढ़ मुस्लिम विश्‍वविद्यालय को खुलवाकर शैक्षणिक कार्यों को बहाल करना है। वहीं, प्रदर्शनकारी छात्र इस जिद पर अड़े हुए हैं कि जब तक केंद्र सरकार नागरिकता संशोधन कानून में बदलाव नहीं करेगी, तब तक न केवल उसका विरोध-प्रदर्शन जारी रहेगा, बल्कि विश्वविद्यालय में कक्षाओं को भी नहीं चलने दिया जाएगा।

यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के लिए पहुंचने वाले छात्र-छात्राओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए जिला प्रशासन ने कैंपस में भारी तादाद में पुलिसबल की तैनाती की है। इसके अलावा, यूनिवर्सिटी कैंपस में रैपिड एक्‍शन फोर्स और पीएसी की भी तैनाती की गई है।

अलीगढ़। उत्तर प्रदेश की अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में सीएम योगी आदित्यनाथ के खिलाफ जमकर नारेबाजी हुई। इसका एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। वीडियो वायरल होते ही पुलिस ने आनन—फानन में 50 से 60 अज्ञात छात्रों पर केस दर्जकर लिया। दरअसल, एएमयू के छात्र जेएनयू में हुई हिंसा को लेकर गुरुवार मानव श्रृंखला बनाकर नारेबाजी कर रहे थे। इस दौरान सीएम योगी के खिलाफ भी जमकर नारेबाजी हुई थी। बताया जा रहा है कि, मास कॉम डिपार्टमेंट से सैयद गेट तक छात्रों ने मानव श्रृंखला बनाई थी। मामले में सीओ सिविल लाइन अनिल समानिया का कहना है कि 40 से 50 छात्रों के खिलाफ सरकार के खिलाफ नारेबाजी करने का मुकदमा दर्ज किया गया है। जल्द ही आरोपी छात्रों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। वहीं, विरोध-प्रदर्शन के बीच प्रशासन के सामने सबसे बड़ी चुनौती अलीगढ़ मुस्लिम विश्‍वविद्यालय को खुलवाकर शैक्षणिक कार्यों को बहाल करना है। वहीं, प्रदर्शनकारी छात्र इस जिद पर अड़े हुए हैं कि जब तक केंद्र सरकार नागरिकता संशोधन कानून में बदलाव नहीं करेगी, तब तक न केवल उसका विरोध-प्रदर्शन जारी रहेगा, बल्कि विश्वविद्यालय में कक्षाओं को भी नहीं चलने दिया जाएगा। यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के लिए पहुंचने वाले छात्र-छात्राओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए जिला प्रशासन ने कैंपस में भारी तादाद में पुलिसबल की तैनाती की है। इसके अलावा, यूनिवर्सिटी कैंपस में रैपिड एक्‍शन फोर्स और पीएसी की भी तैनाती की गई है।