बाराबंकी: किसानों से मिलने जा रहे अजय लल्लू को पुलिस ने रोका, लखनऊ वापस भेजा

    lallu

    लखनऊ। उत्तर प्रदेश के कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू अयोध्या भूमि अधिग्रहण से पीड़ित किसानों से मिलने जा रहे थे। तभी बाराबंकी पुलिस द्वारा हिरासत में लिए जाने पर अधिकारियों से असफल बातचीत के बाद लखनऊ वापस लौट आए हैं।

    Slpl Tournaments Events This Year Know The Schedule Of This T20 Tournament Sri Lanka Cricket :

    वहीं, लल्लू ने कहा कि यूपी सरकार कितनी भी कोशिश कर ले, लेकिन वो हमेशा सच का साथ देते रहेंगे। पुलिस ने पीसीसी सदस्य राजेंद्र सिंह, जिला अध्यक्ष अखिलेश यादव, पूर्व जिला अध्यक्ष रामदास वर्मा, सुनील पाठक, यूथ कांग्रेस के प्रदेश महासचिव शरद शुक्ला व यूथ कांग्रेस जिला अध्यक्ष सुनील तिवारी को नजरबंद कर दिया था। उक्त सभी लोगों के आवास पर भारी पुलिस बल तैनात थी।

    हालांकि, इतनी चौकसी के बावजूद कांग्रेस के अयोध्या जिलाध्यक्ष धर्मपुर गांव पहुंच गए और ग्रामीणों के साथ सभा करने लगे। धर्मपुर गांव में ग्रामीण जमीन अधिग्रहण में असमानता को लेकर नाराज हैं।

    श्रीराम एयरपोर्ट के विस्तारीकरण को लेकर धर्मपुर गांव की जमीन का अधिग्रहण होना है। इसे लेकर उन्हें जो मुआवजा दिया जा रहा है उसमें बेहद असमानता है। ग्रामीण जनौरा व नंदा पुर गांव के समान जमीन का मुआवजा चाहते हैं।

    दरअसल बात यह है​ कि लल्लू धरमपुर व रायबरेली फोरलेन के किनारे रह रहे पीड़ित किसानों से मुलाकात करने वाले थे। श्रीराम एयरपोर्ट के विस्तारीकरण व रायबरेली फोरलेन के किसानों को उचित मुआवजा नहीं मिल रहा है। इसी मुद्दे पर लल्लू किसानों से बातचीत करते।

    इसी क्रम में वो अयोध्या जा रहे थे, जब पुलिस ने उन्हें हाईवे पर चौपुला के पास रोक लिया। इस दौरान उनको हिरासत में लेकर डाक बंगले लाया गया, जहां उन्होंने अधिकारियों से बातचीत की, लेकिन उन्हें आगे जाने की अनुमति नहीं मिली। प्रदेश अध्यक्ष के रोके जाने की सूचना पर वहां काफी संख्या में कांग्रेसी कार्यकर्ता एकत्र हो गए।

    लखनऊ। उत्तर प्रदेश के कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू अयोध्या भूमि अधिग्रहण से पीड़ित किसानों से मिलने जा रहे थे। तभी बाराबंकी पुलिस द्वारा हिरासत में लिए जाने पर अधिकारियों से असफल बातचीत के बाद लखनऊ वापस लौट आए हैं। वहीं, लल्लू ने कहा कि यूपी सरकार कितनी भी कोशिश कर ले, लेकिन वो हमेशा सच का साथ देते रहेंगे। पुलिस ने पीसीसी सदस्य राजेंद्र सिंह, जिला अध्यक्ष अखिलेश यादव, पूर्व जिला अध्यक्ष रामदास वर्मा, सुनील पाठक, यूथ कांग्रेस के प्रदेश महासचिव शरद शुक्ला व यूथ कांग्रेस जिला अध्यक्ष सुनील तिवारी को नजरबंद कर दिया था। उक्त सभी लोगों के आवास पर भारी पुलिस बल तैनात थी। हालांकि, इतनी चौकसी के बावजूद कांग्रेस के अयोध्या जिलाध्यक्ष धर्मपुर गांव पहुंच गए और ग्रामीणों के साथ सभा करने लगे। धर्मपुर गांव में ग्रामीण जमीन अधिग्रहण में असमानता को लेकर नाराज हैं। श्रीराम एयरपोर्ट के विस्तारीकरण को लेकर धर्मपुर गांव की जमीन का अधिग्रहण होना है। इसे लेकर उन्हें जो मुआवजा दिया जा रहा है उसमें बेहद असमानता है। ग्रामीण जनौरा व नंदा पुर गांव के समान जमीन का मुआवजा चाहते हैं। दरअसल बात यह है​ कि लल्लू धरमपुर व रायबरेली फोरलेन के किनारे रह रहे पीड़ित किसानों से मुलाकात करने वाले थे। श्रीराम एयरपोर्ट के विस्तारीकरण व रायबरेली फोरलेन के किसानों को उचित मुआवजा नहीं मिल रहा है। इसी मुद्दे पर लल्लू किसानों से बातचीत करते। इसी क्रम में वो अयोध्या जा रहे थे, जब पुलिस ने उन्हें हाईवे पर चौपुला के पास रोक लिया। इस दौरान उनको हिरासत में लेकर डाक बंगले लाया गया, जहां उन्होंने अधिकारियों से बातचीत की, लेकिन उन्हें आगे जाने की अनुमति नहीं मिली। प्रदेश अध्यक्ष के रोके जाने की सूचना पर वहां काफी संख्या में कांग्रेसी कार्यकर्ता एकत्र हो गए।