अमेठी पहुुंचकर स्मृति ईरानी ने बीजेपी नेता की अर्थी को दिया कांधा, गांव में पुलिस बल तैनात

smriti
अमेठी पहुुंचकर स्मृति ईरानी ने बीजेपी नेता की अर्थी को दिया कांधा, गांव में पुलिस बल तैनात

अमेठी। अमेठी में बीजेपी नेता व पूर्व प्रधान सुरेंद्र सिंह की बीती देर रात गोली मारकर हत्या कर दी गयी। उनके शव का पोस्टमार्टम केजीएमयू लखनऊ में किया गया। जिसके बाद उनका शव अंतिम दर्शन के लिए बरौलिया गांव लाया गया है। इस बीच वहां पहुंची केन्द्रिय मंत्री स्मृति ईरानी ने परिजनों से मुलाकात की और बीजेपी नेता की आर्थी को कांधा दिया।

Smriti Irani Reach Amethi :

वहीं गांव में तनाव की स्थिति देख वहां पर भारी संख्या में पुलिस बल को तैनात कर दिया गया है। इसके साथ ही कई संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है। ग्रामीणों ने बताया कि देर रात दो बाइक सवार बदमाश आए और उन्हें घर से बाहर बुलाया। वह जैसी ही घर के बाहर आये बाइक सवार बदमाशें ने उन पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। गोली लगने से वह खून से लथपथ होकर वहीं गिर गये।

गोलियों की आवाज सुनकर जगे परिजनों ने देखा कि सुरेंद्र सिंह खून से लथपथ पड़े हैं। घायल अवस्था में ग्रामीण उन्हें पीएचसी ले गए। जहां डॉक्टरों ने उन्हें गंभीर बताते हुए लखनऊ रेफर कर दिया। लखनऊ ले जाते वक्त रास्ते में ही सुरेंद्र ने दम तोड़ दिया। हत्या का कारण चुनावी रंजिश बताया जा रहा है।

इलाके में सुरेंद्र का काफी प्रभाव था जिसका लाभ स्मृति ईरानी को मिला। करीबी बताते हैं कि लोकसभा चुनाव में स्मृति की जीत के बाद उनका कद काफी बढ़ गया था जिसे कुछ लोग पसंद नहीं करते थे। वह स्मृति ईरानी के काफी करीबी थे।

अमेठी। अमेठी में बीजेपी नेता व पूर्व प्रधान सुरेंद्र सिंह की बीती देर रात गोली मारकर हत्या कर दी गयी। उनके शव का पोस्टमार्टम केजीएमयू लखनऊ में किया गया। जिसके बाद उनका शव अंतिम दर्शन के लिए बरौलिया गांव लाया गया है। इस बीच वहां पहुंची केन्द्रिय मंत्री स्मृति ईरानी ने परिजनों से मुलाकात की और बीजेपी नेता की आर्थी को कांधा दिया। वहीं गांव में तनाव की स्थिति देख वहां पर भारी संख्या में पुलिस बल को तैनात कर दिया गया है। इसके साथ ही कई संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है। ग्रामीणों ने बताया कि देर रात दो बाइक सवार बदमाश आए और उन्हें घर से बाहर बुलाया। वह जैसी ही घर के बाहर आये बाइक सवार बदमाशें ने उन पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। गोली लगने से वह खून से लथपथ होकर वहीं गिर गये। गोलियों की आवाज सुनकर जगे परिजनों ने देखा कि सुरेंद्र सिंह खून से लथपथ पड़े हैं। घायल अवस्था में ग्रामीण उन्हें पीएचसी ले गए। जहां डॉक्टरों ने उन्हें गंभीर बताते हुए लखनऊ रेफर कर दिया। लखनऊ ले जाते वक्त रास्ते में ही सुरेंद्र ने दम तोड़ दिया। हत्या का कारण चुनावी रंजिश बताया जा रहा है। इलाके में सुरेंद्र का काफी प्रभाव था जिसका लाभ स्मृति ईरानी को मिला। करीबी बताते हैं कि लोकसभा चुनाव में स्मृति की जीत के बाद उनका कद काफी बढ़ गया था जिसे कुछ लोग पसंद नहीं करते थे। वह स्मृति ईरानी के काफी करीबी थे।