1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Sohil Akhtar Ansari jeevan parichay : बीजेपी ने 26 साल से इस अभेद सीट को मोदी लहर में गंवाई, सोहिल अख्तर अंसारी के हाथ लगी जीत

Sohil Akhtar Ansari jeevan parichay : बीजेपी ने 26 साल से इस अभेद सीट को मोदी लहर में गंवाई, सोहिल अख्तर अंसारी के हाथ लगी जीत

Sohil Akhtar Ansari jeevan parichay : यूपी (UP) के कानपुर नगर जिले (Kanpur Nagar District) में निर्वाचन क्षेत्र - 216, कानपुर कैन्टोनमेंट विधानसभा सीट से (Constituency - 216, Kanpur Cantonment Assembly seat) कांग्रेस उम्मीदवार के रूप सोहिल अख्तर अंसारी (Sohil Akhtar Ansari ) 17वीं विधानसभा के पहली बार विधायक चुने गए हैं। बता दें कि सोहिल अख्तर अंसारी (Sohil Akhtar Ansari ) 2012 के विधानसभा चुनाव में बसपा (BSP) के टिकट पर 2012 के विधानसभा चुनाव लड़े, लेकिन उनको असफलता हाथ लगी थी।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Sohil Akhtar Ansari jeevan parichay : यूपी (UP) के कानपुर नगर जिले (Kanpur Nagar District) में निर्वाचन क्षेत्र – 216, कानपुर कैन्टोनमेंट विधानसभा सीट से (Constituency – 216, Kanpur Cantonment Assembly seat) कांग्रेस उम्मीदवार के रूप सोहिल अख्तर अंसारी (Sohil Akhtar Ansari ) 17वीं विधानसभा के पहली बार विधायक चुने गए हैं। बता दें कि सोहिल अख्तर अंसारी (Sohil Akhtar Ansari ) 2012 के विधानसभा चुनाव में बसपा (BSP) के टिकट पर 2012 के विधानसभा चुनाव लड़े, लेकिन उनको असफलता हाथ लगी थी। इन्होंने अपने निकटम प्रतिद्वंदी भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party) के प्रत्याशी रघुनन्दन सिंह भदौरिया (Raghunandan Singh Bhadauria) को 9364 वोटों से हराकर पहली बार विधायक निर्वाचित हुए हैं।

पढ़ें :- Rama Shankar Singh Patel jeevan parichay : रमाशंकर दिग्गज कांग्रेसी को हराकर बने विधायक, योगी ने दिया मंत्री पद

ये है पूरा सफरनामा

नाम- सोहिल अख्तर अंसारी
निर्वाचन क्षेत्र – 216, कानपुर कैन्टोनमेंट विधानसभा
जिला – कानपुर नगर
दल – भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
पिता का नाम- स्व. हाजी मो. समी
जन्‍म तिथि- 20 अक्टूबर,1964
जन्‍म स्थान- कानपुर
धर्म- इस्लाम
जाति- पिछड़ी जाति
शिक्षा- इण्टरमीडिएट
विवाह तिथि- सन 2003
पत्‍नी का नाम- तबस्सुम सोहिल
सन्तान- तीन पुत्रियां
व्‍यवसाय- व्यापार
मुख्यावास: ई- 7 खपरा मोहाल कैन्ट, जनपद- कानपुर नगर।

राजनीतिक योगदान
मार्च, 2017 सत्रहवीं विधान सभा के सदस्य प्रथम बार निर्वाचित

पढ़ें :- Ratnakar Mishra jeevan parichay : मां विंध्यवासिनी मंदिर के पुरोहित रत्नाकर मिश्रा बने विधायक, 20 साल बाद खिलाया कमल
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...