Surya Grahan 2018: 11 अगस्त को पड़ेगा साल का आखिरी सूर्य ग्रहण, जानिए खास बातें

solar eclipse
सूर्य ग्रहण 2019: सूर्य ग्रहण के बाद इन चीजों का करें दान, प्राप्त होंगे विशेष फल

लखनऊ। 11 अगस्त 2018 दिन शनिवार को साल का आखिरी और तीसरा सूर्य ग्रहण लगने वाला है। इससे पहले इसी साल 15 फरवरी और 13 जुलाई 2018 को सूर्यग्रहण पड़ चुके हैं। बता दें कि 11 अगस्त पड़ने वाला सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देखा लेकिन इसका प्रभाव ज्योतिषीय नक्षत्रों और राशियों पर अवश्य पड़ेगा। जानिए सूर्य ग्रहण से जुड़ी कुछ खास बातें।

Solar Eclipse 2018 2 :

भूल से भी न करें ये काम

  • इस दौरान पूजा-पाठ और मूर्ति पूजा नहीं करनी चाहिए।
  • सूर्य ग्रहण के दौरान तुलसी और शामी के पौधे को नहीं छूना चाहिए।
  • ग्रहण काल के दौरान खाना खाने और पकाने नहीं चाहिए।
  • ग्रहण के दौरान सोना नहीं चाहिए।

सूर्य ग्रहण से पहले करें ये काम

  • सूर्य ग्रहण से पहले दूध-दही जैसी चीजों में तुलसी के पत्ते डाल लें।
  • ग्रहण से पहले ही भोजन कर ले। वही पके हुए भोजन को बचाए नहीं उसे खाकर खत्मं कर दे।
  • अगर आराम करना है तो ग्रहण से पहले ही कर लें।

सूर्य ग्रहण के बाद करें ये काम

  • ग्रहण खत्मं होने बाद सबसे पहले स्नाोन करें।
  • इसके बाद तुलसी और शमी के पौधों में गंगाजल का छिड़काव करें।
  • गरीबों और जरूरतमंदों को दानपुण्य करें।
लखनऊ। 11 अगस्त 2018 दिन शनिवार को साल का आखिरी और तीसरा सूर्य ग्रहण लगने वाला है। इससे पहले इसी साल 15 फरवरी और 13 जुलाई 2018 को सूर्यग्रहण पड़ चुके हैं। बता दें कि 11 अगस्त पड़ने वाला सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देखा लेकिन इसका प्रभाव ज्योतिषीय नक्षत्रों और राशियों पर अवश्य पड़ेगा। जानिए सूर्य ग्रहण से जुड़ी कुछ खास बातें। भूल से भी न करें ये काम
  • इस दौरान पूजा-पाठ और मूर्ति पूजा नहीं करनी चाहिए।
  • सूर्य ग्रहण के दौरान तुलसी और शामी के पौधे को नहीं छूना चाहिए।
  • ग्रहण काल के दौरान खाना खाने और पकाने नहीं चाहिए।
  • ग्रहण के दौरान सोना नहीं चाहिए।
सूर्य ग्रहण से पहले करें ये काम
  • सूर्य ग्रहण से पहले दूध-दही जैसी चीजों में तुलसी के पत्ते डाल लें।
  • ग्रहण से पहले ही भोजन कर ले। वही पके हुए भोजन को बचाए नहीं उसे खाकर खत्मं कर दे।
  • अगर आराम करना है तो ग्रहण से पहले ही कर लें।
सूर्य ग्रहण के बाद करें ये काम
  • ग्रहण खत्मं होने बाद सबसे पहले स्नाोन करें।
  • इसके बाद तुलसी और शमी के पौधों में गंगाजल का छिड़काव करें।
  • गरीबों और जरूरतमंदों को दानपुण्य करें।