1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. सोनौली:भाजपा नेता किसानों को नए कृषि कानून के फायदे बताने पहुंचे गांव-गांव

सोनौली:भाजपा नेता किसानों को नए कृषि कानून के फायदे बताने पहुंचे गांव-गांव

By Editor-Vijay Chaurasiya 
Updated Date

सोनौली : आदर्श नगर पंचायत सोनौली के त्रिलोकपुर गाँव मे आज रविवार की शाम को भारतीय जनता पार्टी के जिला कार्यसमिति सदस्य युवा नेता संजीव जायसवाल के नेतृत्व में गांव के किसानों के साथ सहभोज कार्यक्रम कर किसानों से सीधे बातचीत करते हुए नए कृषि कानूनों से किसानों को होने वाले फायदे व सरकार के द्वारा किसान को मिलने वाली सुविधाओं पर विस्तार से चर्चा किया।

पढ़ें :- Chaudhary Charan Singh University Meerut के कुलपति प्रो. एनके तनेजा का बढ़ा कार्यकाल

संजीव जायसवाल ने कृषि बिल को लेकर उन्होंने स्पष्ट संदेश दिया कि कृषि कानून किसानों के हक में है। इसको लेकर  कांग्रेस और सपा राजनीति कर रही है। किसानों को गुमराह किया जा रहा है । विपक्षी पार्टियां झूठ बोल रही हैं। कृषि कानून से किसानों का जीवन स्तर बदलेगा और उन्हें अपनी उपज बेंचने के लिए खुला बाजार उपलब्ध होगा। 

प्रधानमंत्री जनकल्याण योजना के सोनौली नगर अध्यक्ष रवि वर्मा ने कृषि कानून को सरलता से समझाया। इस कानून को लेकर किसानों के बीच भ्रम फैलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कृषि सुधार कानूनों के तहत एमएसपी मूल्य मिलता रहा है और आगे भी मिलता रहेगा। सरकारी मंडी व्यवस्था भी पहले की तरह ही सुचारू रूप से चलती रहेगी। किसान अपनी फसल कहीं भी बेच सकता है। ज्यादा मुनाफा कमा सकता। किसान ही अपनी जमीन के मालिक रहेंगे। कानून के तहत जमीन की बिक्री, लीज़ व गिरवी रखना प्रतिबंधित रहेगा। उन्होंने बताया कि यह सरकार किसानों के हित के लिए प्रतिबद्ध है। 

भाजपा जिला मंत्री बच्चू लाल चौरसिया ने केंद्रीय कृषि कानून को लेकर अहम जानकारी दी। यह कानून किसानों के हित में है। कहा कि भारत का कृषि कानून किसानों को आजादी दिलाने वाला है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में किसानों के हित में लगातार कार्य कर रही है। नये कृषि कानून में किसानों के लिए मुख्य प्रावधान यह है कि राज्यों की अधिसूचित मंडियों के अलावे राज्य के भीतर एवं बाहर देश के किसी भी स्थान पर किसानों की अपनी उपज निर्बाध रूप से बेचने का अवसर प्रदान करेगा।

पढ़ें :- फूलन देवी पर भाजपा प्रवक्ता के इस बयान से बढ़ी सियासी हलचल, अखिलेश बोले-निषाद समाज का किया घोर अपमान

किसानों को अपने उत्पाद पर कोई उपकर नहीं देना होगा। उन्हें माल ढुलाई का खर्च भी वहन नहीं करना होगा। किसानों को ई ट्रेडिग मंच उपलब्ध कराने का प्रावधान है। किसान खरीददार से सीधे जुड़ सकेंगे जिससे बिचौलिए को मिलने वाले लाभ सीधे किसानों को मिल पायेगा। इस विधेयक से किसानों की पहुंच अत्याधुनिक कृषि प्रौद्योगिकी, कृषि उपकरण एवं उन्नत खाद बीज तक होगी।

किसी भी तरह की विवाद का निपटारा 30दिनों के अंदर स्थानीय स्तर पर की गई है। विधेयक में किसानों को 3 दिन में भुगतान की गारंटी दी गई है। किसानों के हितों का संरक्षण इस विधेयक में समाहित किया गया है किसान अपनी फसल का सौदा सिर्फ अपने ही नहीं बल्कि दूसरे राज्यों के लाइसेंसी व्यापारियों के साथ भी कर सकता है। इससे बाजार में प्रतिस्पर्धा होगी जिससे किसानों को विशेष लाभ हो पायेगा।

इस मौके पर मुख्य रूप से भाजपा नेता प्रेम नाथ सिंह, प्रेम जायसवाल, रवि वर्मा,आईटी सेल धर्मेंद्र जायसवाल,राजू गुप्ता, राजू जायसवाल, अंजनी जायसवाल, राजू भारती  सहित कई दर्जन किसान भाजपा नेता मौजूद रहे।

 

पढ़ें :- छोटी-छोटी खुशियों से दूर जरूरतमंद चेहरों पर मुस्कान लाने का अनोखा प्रयास

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...