सोनौली बार्डर:कस्टम एजेंटो का हड़ताल समाप्त एजेन्ट अपने पुराने परिचय पत्र पर ही नेपाल भंसार में करेगें प्रवेश– सुधीर त्रिपाठी

SAVE_20200602_163113-scaled

सोनौली ।भारत नेपाल सीमा सोनौली बॉर्डर पर नेपाल प्रशासन द्वारा करीब एक माह से भारतीय ट्रांसपोर्टर एवं एजेंट का नेपाली सीमा भन्सार में प्रवेश पर रोक लगाने के बाद उग्र हो गए थे और एक समय सीमा तक उच्चाधिकारियों को ज्ञापन देने के बाद मंगलवार की सुबह से आयात और निर्यात के सभी कार्य को ठप कर दिया। मौके पर पहुचे भारतीय एवं नेपाली प्रशासनिक अधिकारियों ने संघ के मांग को स्वीकार करते हुए पुरानी व्यवस्था को लागू कर दिया जिस पर सभी मान गए और हड़ताल समाप्त कर काम पर लौट गए।

Sonauli Border Custom Agents Strike Strike Agent Will Enter Nepal Bhansar On Its Old Identity Card Sudhir Tripathi :

मंगलवार की सुबह से सोनौली ट्रांसपोर्ट एवं एजेंट एसोसिएशन और भारतीय कस्टम एजेंटों द्वारा किए गए हड़ताल को नेपाली प्रशासन सहित कस्टम विभाग ने गंभीरता से लिया है। दोपहर बाद भारतीय कस्टम एजेंटों के पांच सदस्यीय एक प्रतिनिधि मंडल को नेपाल कस्टम (भंसार) कार्यालय में आमंत्रित कर उनसे वार्ता किया। जिसमे सुधीर त्रिपाठी अध्यक्ष नगर पंचायत सोनौली प्रतिनिधि के नेतृत्व में पांच सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल नेपाल भैरहवा कस्टम चीफ कमल भटराई के आमंत्रण पर उनसे मिला और अपने तीन सूत्री मांग पत्र को उन्हें सौंपा। जिसको डीएम रूपनदेही महादेव पंथ के निर्देश पर उन्होंने स्वीकार कर लिया।

इस दौरान सुधीर त्रिपाठी ने कहा कि भारतीय कस्टम एजेंटों को नेपाल भंसार में कोरोना के बहाने एक साजिश के तहत रोका जा रहा है। उन्होंने यह भी कहां की मालवाहक ट्रकों के चालको को कोरोना वाला कह कर प्रताड़ित किया जा रहा है। यहां तक कि ट्रक से उतरकर उन्हें पानी पीने भी नहीं दिया जा रहा है।

उपरोक्त समस्याओं को सुनने के बाद भैरहवां कस्टम चीफ ने कहा कि भारतीय कस्टम एजेंट या ट्रक चालकों के साथ किसी तरह का दुर्व्यवहार नहीं होगा। कस्टम एजेंट अपने पुराने परिचय पत्र पर ही नेपाल कस्टम ( भंसार) में प्रवेश कर अपना कार्य कर सकेंगे।

ट्रांसपोर्ट संघ के अध्यक्ष रतन गुप्ता ने बताया कि नेपाल प्रशासन ने हमारी मांगो को मान लिया है। हड़ताल समाप्त हो गयी है। इस मौके पर भैरहवां विधायक संतोष पाण्डेय, एजेंट संघ के उपाध्यक्ष सन्तोष जायसवाल, राज सिंह, संजय कुमार, अख्तर हुसैन, वकील अहमद, पुनीत अग्रहरि, सन्नी गुप्ता,धीरेंद्र जायसवाल सहित कई लोग मौजूद रहे।

सोनौली ।भारत नेपाल सीमा सोनौली बॉर्डर पर नेपाल प्रशासन द्वारा करीब एक माह से भारतीय ट्रांसपोर्टर एवं एजेंट का नेपाली सीमा भन्सार में प्रवेश पर रोक लगाने के बाद उग्र हो गए थे और एक समय सीमा तक उच्चाधिकारियों को ज्ञापन देने के बाद मंगलवार की सुबह से आयात और निर्यात के सभी कार्य को ठप कर दिया। मौके पर पहुचे भारतीय एवं नेपाली प्रशासनिक अधिकारियों ने संघ के मांग को स्वीकार करते हुए पुरानी व्यवस्था को लागू कर दिया जिस पर सभी मान गए और हड़ताल समाप्त कर काम पर लौट गए। मंगलवार की सुबह से सोनौली ट्रांसपोर्ट एवं एजेंट एसोसिएशन और भारतीय कस्टम एजेंटों द्वारा किए गए हड़ताल को नेपाली प्रशासन सहित कस्टम विभाग ने गंभीरता से लिया है। दोपहर बाद भारतीय कस्टम एजेंटों के पांच सदस्यीय एक प्रतिनिधि मंडल को नेपाल कस्टम (भंसार) कार्यालय में आमंत्रित कर उनसे वार्ता किया। जिसमे सुधीर त्रिपाठी अध्यक्ष नगर पंचायत सोनौली प्रतिनिधि के नेतृत्व में पांच सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल नेपाल भैरहवा कस्टम चीफ कमल भटराई के आमंत्रण पर उनसे मिला और अपने तीन सूत्री मांग पत्र को उन्हें सौंपा। जिसको डीएम रूपनदेही महादेव पंथ के निर्देश पर उन्होंने स्वीकार कर लिया। इस दौरान सुधीर त्रिपाठी ने कहा कि भारतीय कस्टम एजेंटों को नेपाल भंसार में कोरोना के बहाने एक साजिश के तहत रोका जा रहा है। उन्होंने यह भी कहां की मालवाहक ट्रकों के चालको को कोरोना वाला कह कर प्रताड़ित किया जा रहा है। यहां तक कि ट्रक से उतरकर उन्हें पानी पीने भी नहीं दिया जा रहा है। उपरोक्त समस्याओं को सुनने के बाद भैरहवां कस्टम चीफ ने कहा कि भारतीय कस्टम एजेंट या ट्रक चालकों के साथ किसी तरह का दुर्व्यवहार नहीं होगा। कस्टम एजेंट अपने पुराने परिचय पत्र पर ही नेपाल कस्टम ( भंसार) में प्रवेश कर अपना कार्य कर सकेंगे। ट्रांसपोर्ट संघ के अध्यक्ष रतन गुप्ता ने बताया कि नेपाल प्रशासन ने हमारी मांगो को मान लिया है। हड़ताल समाप्त हो गयी है। इस मौके पर भैरहवां विधायक संतोष पाण्डेय, एजेंट संघ के उपाध्यक्ष सन्तोष जायसवाल, राज सिंह, संजय कुमार, अख्तर हुसैन, वकील अहमद, पुनीत अग्रहरि, सन्नी गुप्ता,धीरेंद्र जायसवाल सहित कई लोग मौजूद रहे।