1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. भारत-नेपाल के सोनौली बार्डर पर अब तक नही लगा थर्मल स्कैनर

भारत-नेपाल के सोनौली बार्डर पर अब तक नही लगा थर्मल स्कैनर

By Editor-Vijay Chaurasiya 
Updated Date

सोनौली l कोरोना वायरस को लेकर जहां भारत सरकार अलर्ट रहते हुए पल पल पर नज़र बनाई हुई है वही यूपी के महराजगंज जिले के सबसे संवेदनशील सीमा सोनौली पर जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग लापरवाही बरत रही है।

सोनौली और ठूठीबारी बार्डर से प्रतिदिन हजारों पर्यटक और नेपाल के नागरिक भारत मे प्रवेश करते है लेकिन इन सबकी जांच और स्क्रिनिग में समस्या आ रही है वजह है थर्मल स्कैनर न होना। शासन ने थर्मल स्कैनर भेजा तो था लेकिन वो लगने से पहले ही खराब निकला जिसके बाद सीमा पर स्वास्थ्य विभाग शार्ट गन टेम्परेचर से लोगों की जांच करने पर मजबूर है वही स्थानीय लोगों को डर बना हुआ है ।

महराजगंज जनपद के भारत नेपाल सीमा पर स्थित सोनौली नो मेंस लैंड का जहा से हर रोज नेपाल भूटान और अन्य देशों को हजारों यात्री भारत मे प्रवेश करते है। सरकार ने इन सभी यात्रिओ की प्रॉपर जांच/स्क्रिनिग के बाद ही प्रवेश देने के लिए कहा है लेकिन यहां ऐसा नही है। यहाँ अभी तक कोरोना वायरस/अन्य वायरस की जांच के लिए लगने वाला थर्मल स्कैनर ही अभी तक नही आया है। बार्डर पर मौजूद डॉक्टरों की टीम शार्ट गन टेंपरेचर मशीन से ही लोगो की जांच कर रही है जिससे सबकी जांच में दिक्कत आ रही है। वही दो दिन पहले सीमा पर निरीक्षण करने आये जिलाधिकारी डॉ उज्ज्वल कुमार ने खुद मीडिया से थर्मल स्केनर लगाने की बात कही थी लेकिन अभी तक कोरोना वायरस को लेकर यहां की सुरक्षा भगवान भरोसे ही है ।

विश्व भर में कोरोनो को लेकर हाहाकार मचा है लेकिन बार्डर पर इस तरह की लापरवाही से हर आम और डरा सहमा है। मुख्यमंत्री के लखनऊ में सोनौली और ठूठीबारी बार्डर पर थर्मल स्कैनर लगाने के बयान के बाद  यहाँ के जागरूक लोग बार्डर और थर्मल स्कैनर न लगने पर भयभीत और चिंता जाहिर कर रहे है।

हर मायने में जमीनी स्तर पर भारत नेपाल सीमा का सोनौली बार्डर बेहद सेंसटिव रहता है। हर देश के पर्यटक नेपाल ले रास्ते भारत मे प्रवेश करते है। ऐसे में कोरोना वायरस को लेकर थोड़ी सी लापरवाही कभी भी बड़ा रूप ले सकती है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...