सोनभद्र हत्याकांड : उम्भा गांव पहुंची जांच कमेटी, खूनी संघर्ष में हुई थी 10 लोगों की हत्या

sonbhadra
सोनभद्र हत्याकांड : उम्भा गांव पहुंची जांच कमेटी, खूनी संघर्ष में हुई थी 10 लोगों की हत्या

सोनभद्र। सोनभद्र हत्याकांड के बाद घिरी योगी सरकार अब इस मामले में सक्रिय हो गयी है। सीएम योगी खुद सोनभद्र पहुंचकर पीड़ितों से मुलाकात कर दोषियों पर सख्त कार्रवाई की बात कही थी। वहीं अब मुख्यमंत्री द्वारा गठित जांच कमेटी बुधवार को सोनभद्र के उम्भा गांव पहुंची है, जहां वह पूरे घटना की जांच कर रही है। इस कमेटी की अगुवाई अपर मुख्य सचिव रेणुका कुमार कर रहे हैं।

Sonbhad Massacre Investigation Committee Reached Umbhha Village :

इस कमेटी में अपर मुख्य सचिव (राजस्व) रेणुका कुमार, प्रमुख सचिव (श्रम) सुरेश चंद्र, मंडलायुक्त मिर्ज़ापुर आनंद कुमार शामिल हैं। जो बुधवार सुबह सोनभद्र के उम्भा गांव पहुंचे। ये टीम इस पूरे विवाद के बारे में छानबीन करेगी। वहीं इस घटना के बाद अब तक 34 लोगों की गिरफ्तारी की जा चुकी है। इन गिरफ्तार लोगों में 16 नामजद अभियुक्तों की गिरफ्तारी की गई है, जबकि अज्ञात अभियुक्तों में से 18 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

गौरतलब है कि, जमीनी विवाद को लेकर बीते दिनों खूनी संघर्ष हुआ था। इस घटना में 10 लोगों की मौत हो गयी थी, जबकि दो दर्जन लोग गंभीर रूप से घायल थे। गांव वालों की मुताबिक, प्रधान यज्ञदत्त ने 100 बीघा जमीन कब्जानी चाही तो ग्रामीणों ने उनका विरोध किया था, जिसके बाद उनके तरफ से ताबड़तोड़ फायरिंग और लाठी—डंडों से पीट—पीटकर पीड़ितों को मौत के घाट उतार दिया गया था, जबकि दो दर्जन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे।

सोनभद्र घटना के बाद योगी सरकार पर विपक्ष ने काफी सवाल खड़े किए थे। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा भी सोनभद्र में पीड़ित परिवार से मिलने के लिए गई थीं, हालांकि उन्हें बीच में रोक लिया गया था। इस पर उन्होंने इसा विरोध किया था और धरने पर बैठ गईं थीं। इसके बाद प्रशासन उन्हें हिरासत में लेकर चुनार गेस्ट हाउस ले गया, जहां वह करीब 26 घण्टे बिताने के बाद पीड़ितों से मुलाकात कर वापस लौटीं थीं।

सोनभद्र। सोनभद्र हत्याकांड के बाद घिरी योगी सरकार अब इस मामले में सक्रिय हो गयी है। सीएम योगी खुद सोनभद्र पहुंचकर पीड़ितों से मुलाकात कर दोषियों पर सख्त कार्रवाई की बात कही थी। वहीं अब मुख्यमंत्री द्वारा गठित जांच कमेटी बुधवार को सोनभद्र के उम्भा गांव पहुंची है, जहां वह पूरे घटना की जांच कर रही है। इस कमेटी की अगुवाई अपर मुख्य सचिव रेणुका कुमार कर रहे हैं। इस कमेटी में अपर मुख्य सचिव (राजस्व) रेणुका कुमार, प्रमुख सचिव (श्रम) सुरेश चंद्र, मंडलायुक्त मिर्ज़ापुर आनंद कुमार शामिल हैं। जो बुधवार सुबह सोनभद्र के उम्भा गांव पहुंचे। ये टीम इस पूरे विवाद के बारे में छानबीन करेगी। वहीं इस घटना के बाद अब तक 34 लोगों की गिरफ्तारी की जा चुकी है। इन गिरफ्तार लोगों में 16 नामजद अभियुक्तों की गिरफ्तारी की गई है, जबकि अज्ञात अभियुक्तों में से 18 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। गौरतलब है कि, जमीनी विवाद को लेकर बीते दिनों खूनी संघर्ष हुआ था। इस घटना में 10 लोगों की मौत हो गयी थी, जबकि दो दर्जन लोग गंभीर रूप से घायल थे। गांव वालों की मुताबिक, प्रधान यज्ञदत्त ने 100 बीघा जमीन कब्जानी चाही तो ग्रामीणों ने उनका विरोध किया था, जिसके बाद उनके तरफ से ताबड़तोड़ फायरिंग और लाठी—डंडों से पीट—पीटकर पीड़ितों को मौत के घाट उतार दिया गया था, जबकि दो दर्जन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे। सोनभद्र घटना के बाद योगी सरकार पर विपक्ष ने काफी सवाल खड़े किए थे। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा भी सोनभद्र में पीड़ित परिवार से मिलने के लिए गई थीं, हालांकि उन्हें बीच में रोक लिया गया था। इस पर उन्होंने इसा विरोध किया था और धरने पर बैठ गईं थीं। इसके बाद प्रशासन उन्हें हिरासत में लेकर चुनार गेस्ट हाउस ले गया, जहां वह करीब 26 घण्टे बिताने के बाद पीड़ितों से मुलाकात कर वापस लौटीं थीं।