1. हिन्दी समाचार
  2. काशी के नाविक परिवारों के मसीहा बने सोनू सूद, कहा-कोई भूखा नहीं सोएगा

काशी के नाविक परिवारों के मसीहा बने सोनू सूद, कहा-कोई भूखा नहीं सोएगा

Sonu Sood Became The Messiah Of The Seafaring Families Of Kashi Said No One Will Sleep Hungry

By सोने लाल 
Updated Date

वाराणसी। लॉकडाउन में सैकड़ों लोगों मसीहा बने सोनू सूद ने इस बार काशी के नाविक परिवारों की मदद के लिए अपना हाथ आगे बढ़ाया है। वाराणसी के नाविक मार्च महीने में देश में लगे अचानक लॉकडाउन की वजह से काफी परेशान हैं। अनलॉक होने के बावजूद पर्यटकों की कमी से कमाई का मौका नहीं मिला। वाराणसी या आसपास के जिलों से आने वाले लोग ही नाविकों का सहारा थे। और दूसरी ओर गंगा में बाढ़ की वजह से जिला प्रशासन ने एक बार फिर सितंबर तक के लिए नौका संचालन पर रोक लगा दिया है। इसके बाद से ही नाविकों की दैनिक आजीविका बुरी तरह से प्रभावित हो गई है।

पढ़ें :- 1 अक्टूबर से लागू होंगे नए नियम, गाड़ी चलाते समय मोबाइल पर बात करना पड़ेगा भारी, अ‍ब लगेगा इतना जुर्माना

अब किसी को भी भूखा पेट सोना नहीं पड़ेगा

ऐसे में काशी में नाविकों की समस्या को देखते हुए सामाजि कार्यकर्ता दिव्यांशु उपाध्याय ने सोनू सूद को काशी के इन नाविकों के बारे में सोशल मीडिया पर जानकारी दी थी। दिव्यांशु ने लिखा था कि वाराणसी के 84 घाटों में 350 कश्ती चलाने वाले परिवार आज दाने-दाने के मोहताज हो गए हैं। इन इन 350 नाविक परिवारों की आप आख़री उम्मीद हो। गंगा में बाढ़ आने के कारण और मुश्किलें इनकी बढ़ गई है! काशी में 15 से 20 दिन तक इनके बच्चों को भूखे पेट न सोना पडे।

पढ़ें :- लगातार तीसरे दिन सस्‍ता हुआ डीजल, जानिए आज का पेट्रोल व डीजल का भाव

मदद के लिए तैयार हुए सोनू सूद

दिव्‍यांशु के पोस्‍ट का संज्ञान लेते हुए अभिनेता सोनू सूद ने घंटे भर में जवाब दिया कि अब नाविकों के परिवार की जिम्‍मेदारी उनकी है। उन्‍होंने पोस्‍ट को शेयर करते हुए लिखा कि वाराणसी के घाटों के यह 350 परिवारों का कोई भी सदस्य आज के बाद भूखा नहीं सोएगा। आज मदद पहुँच जाएगी। यही नहीं, सोनू सूद इससे पहले भी वाराणसी के कई लोगों को मुंबई से सुरक्षित घर पहुंचा चुके हैं। सिर्फ यही नहीं बल्कि विदेश में फंसे पूर्वांचल के कई छात्रों को भी कोरोना संक्रमण काल में विमान से उनके घर सु‍रक्षित पहुंचा चुके हैं। सोनू ने एक ही दिन में मदद पहुंचाने का आश्‍वासन देकर काशी में नाविकों को मानो संजीवनी दी है।

काशी के लोगों के लिए मसीहा बने सोनू सूद

मदद मांगने वालों के मसीहा सोनू सूद ने पहली बार काशी के लोगों की सुध नहीं ली है। इससे पहले भी वह काशी के जरूरतमंदों की मदद कर चुके हैं। दस दिन पहले ही उन्होंने काशी के जरूरतमंदों के लिए तीन सौ पैकेट राशन भिजवाया था। यह राशन कुम्हारों के साथ ही सड़क किनारे रहने वाले बंजारा और अन्य जरूरतमंदों में वितरित किया गया था। इसका वितरण भी दिव्याशु की टीम ने किया। राशन पाकर खुशी से फूले नहीं समाए लोगों की तस्वीरों को दिव्याशु ने ट्वीट किया था। उस ट्वीट को भी मंगलवार को सोनू सूद ने रिट्वीट किया है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...