सोनौली की बेटी पुष्पा एक दिन के लिए बनी लातविया की उच्चायुक्त

pushpa
सोनौली की बेटी पुष्पा एक दिन के लिए बनी लातविया की उच्चायुक्त

सोनौली। सोनौली क्षेत्र के कैलाश नगर निवासी पुष्पा गौड़ पुत्री स्व.मोती लाल गौड़ को सोनौली महंथ सुरेश मणि त्रिपाठी सन्यास आश्रम के महंथ स्वामी अखिलेश्वरा नंद सरस्वती थाई 960 के मैनेजर राजेश शुक्ला ने घर जाकर स्मृति चिन्ह डायरी व पेन देकर सम्मानित किया और उज्जवल भविष्य की कामना किया। पुष्पा ने बताया कि हम भी समाज व देश की सेवा करना चाहते है।

Sonulis Daughter Pushpa Became High Commissioner Of Latvia For A Day :

आपको बता दे कि महराजगंज जिले की दो बेटियों ने अपनी मेहनत और लगन से लक्ष्मीपुर व नौतनवा ब्लाक की रहने वाली अंजलि राव व पुष्पा गौड़ से पूरी तरह बावस्ता है। विरासत में मिली गरीबी के बीच दसवीं की छात्रा अंजलि जब12वीं उत्तीर्ण कर चुकी पुष्पा गौड़ को बालिकाओं के उत्थान के लिए किए गए प्रयास की बदौलत ऐसा सम्मान मिला जिसे जान पूरा जिला गौरवान्वित महसूस कर रहा है।

अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस के मौके पर अंजलि को दिल्ली में एक दिन के लिए इक्वाडेर मुल्क व पुष्पा को लातविया देश के उच्चायुक्त बनने का मौका मिला। अंजलि व पुष्पा ने प्रतीकात्मक रूप से एक दिन के लिए भारत में एक्वाडेर उच्चायुक्त के कामकाज को देखा और समझा। इस दौरान एनपीओ के अधिकारी भी मौजूद रहे। अंजलि व पुष्पा का कहना है कि इस सम्मान को वह उम्र भर नहीं भूलेगी।

अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस पर स्वयं सरकारी सेवी संस्था से जुड़ सोनौली क्षेत्र के ग्रामसभा कैलाश नगर की रहने वाली पुष्पा गौड़ ने समाजिक कार्य में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेनी शुरू की। पिता मोतीलाल के निधन के चलते 12वीं तक शिक्षा लेने के बाद पुष्पा बाल विवाह के क्षेत्र में लोगों को जागरूक करने का अभियान शुरू की। इसके चलते पुष्पा को एनजीओ के पहल पर दिल्ली में प्रतीकात्मक रूप से लातविया देश का एक दिन का उच्चायुक्त बनने का मौका मिला।

पुष्पा का कहना है कि कोई काम मुश्किल नहीं होता। सही मार्गदर्शन व खुद के प्रयास से मुश्किल राह भी आसान हो जाती है। एनजीओ के परियोजना निदेशक विभाष चटर्जी ने बताया कि जनपद से दोनों प्रतिभाशाली बच्चियों को कार्यक्रम समन्वयक रामकरन यादव की देखरेख में दिल्ली भेजा गया था। अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस के दिन अंजलि व पुष्पा ने राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बालिकाओं के मुद्दों को उठाई। प्रयास सराहनीय रहा।

संवाददाता-विजय चौरसिया

सोनौली। सोनौली क्षेत्र के कैलाश नगर निवासी पुष्पा गौड़ पुत्री स्व.मोती लाल गौड़ को सोनौली महंथ सुरेश मणि त्रिपाठी सन्यास आश्रम के महंथ स्वामी अखिलेश्वरा नंद सरस्वती थाई 960 के मैनेजर राजेश शुक्ला ने घर जाकर स्मृति चिन्ह डायरी व पेन देकर सम्मानित किया और उज्जवल भविष्य की कामना किया। पुष्पा ने बताया कि हम भी समाज व देश की सेवा करना चाहते है। आपको बता दे कि महराजगंज जिले की दो बेटियों ने अपनी मेहनत और लगन से लक्ष्मीपुर व नौतनवा ब्लाक की रहने वाली अंजलि राव व पुष्पा गौड़ से पूरी तरह बावस्ता है। विरासत में मिली गरीबी के बीच दसवीं की छात्रा अंजलि जब12वीं उत्तीर्ण कर चुकी पुष्पा गौड़ को बालिकाओं के उत्थान के लिए किए गए प्रयास की बदौलत ऐसा सम्मान मिला जिसे जान पूरा जिला गौरवान्वित महसूस कर रहा है। अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस के मौके पर अंजलि को दिल्ली में एक दिन के लिए इक्वाडेर मुल्क व पुष्पा को लातविया देश के उच्चायुक्त बनने का मौका मिला। अंजलि व पुष्पा ने प्रतीकात्मक रूप से एक दिन के लिए भारत में एक्वाडेर उच्चायुक्त के कामकाज को देखा और समझा। इस दौरान एनपीओ के अधिकारी भी मौजूद रहे। अंजलि व पुष्पा का कहना है कि इस सम्मान को वह उम्र भर नहीं भूलेगी। अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस पर स्वयं सरकारी सेवी संस्था से जुड़ सोनौली क्षेत्र के ग्रामसभा कैलाश नगर की रहने वाली पुष्पा गौड़ ने समाजिक कार्य में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेनी शुरू की। पिता मोतीलाल के निधन के चलते 12वीं तक शिक्षा लेने के बाद पुष्पा बाल विवाह के क्षेत्र में लोगों को जागरूक करने का अभियान शुरू की। इसके चलते पुष्पा को एनजीओ के पहल पर दिल्ली में प्रतीकात्मक रूप से लातविया देश का एक दिन का उच्चायुक्त बनने का मौका मिला। पुष्पा का कहना है कि कोई काम मुश्किल नहीं होता। सही मार्गदर्शन व खुद के प्रयास से मुश्किल राह भी आसान हो जाती है। एनजीओ के परियोजना निदेशक विभाष चटर्जी ने बताया कि जनपद से दोनों प्रतिभाशाली बच्चियों को कार्यक्रम समन्वयक रामकरन यादव की देखरेख में दिल्ली भेजा गया था। अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस के दिन अंजलि व पुष्पा ने राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बालिकाओं के मुद्दों को उठाई। प्रयास सराहनीय रहा। संवाददाता-विजय चौरसिया