सपा-बसपा गठबंधन से OUT हुई कांग्रेस, जल्द होगा औपचारिक ऐलान

sapa-bsp-loksabha
सपा-बसपा गठबंधन से OUT हुई कांग्रेस, जल्द होगा औपचारिक ऐलान

लखनऊ। देश के पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के बाद तीन राज्यों में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद माना जा रहा था कि महागठबंधन के लिए उसकी दावेदारी मजबूत होगी, लेकिन क्षेत्रीय पार्टियों ने कांग्रेस को तगड़ा झटका दिया है। सूत्रों की मानें तो समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने गठबंधन में कांग्रेस को दरकिनार कर दिया है। दोनों दलों ने सीटों के बंटवारे का फ़ॉर्मूला भी तय कर लिया है। इस बात का औपचारिक ऐलान बसपा सुप्रीमो मायावती के बर्थडे यानी 15 जनवरी को किया जा सकता है।

Sp And Bsp Alliance In Up For Mission 2019 Congress Out :

सूत्रों के मुताबिक, यूपी में ये दोनों दल राष्ट्रीय लोकदल को गठबंधन में शामिल करते हुए भाजपा के खिलाफ लोकसभा चुनाव में बिगुल बजाएंगे। देश में सर्वाधिक 80 लोकसभा सीटों वाले उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी बराबर सीटों पर चुनाव लड़ेगी। वहीं, आरएलडी को साथ लेकर वो उन 3 से 4 सीटों पर चुनाव लड़ने के लिए चुनावी मैदान में उतारेगी।

बताते चलें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को गठबंधन का पीएम चेहरा मानने से अखिलेश यादव ने इनकार कर दिया है। अखिलेश ने कहा कि महागठबंधन को लेकर सिर्फ बात चल रही है। शरद पवार, ममता बनर्जी और चंद्रबाबू नायडू जैसे तमाम लोग इसकी कोशिश कर चुके हैं। जरूरी नहीं की सब दल के लोग एक नाम पर सहमत हो जाएं। महागठबंधन ने अभी कोई मूर्त रूप नहीं लिया है। इसलिए राहुल को पीएम कैंडिडेट बताने का प्रस्ताव कोई मायने नहीं रखता।

गौरतलब है कि पिछले लोकसभा चुनाव में बसपा प्रदेश के अंदर खाता भी नहीं खोल पाई थी। इसके अलावा सपा 5 और कांग्रेस 2 सीटों पर सिमट कर रह गई थी। दूसरी ओर एनडीए ने 73 सीटों पर जीत दर्ज करके विपक्ष में खलबली पैदा कर दी थी।

लखनऊ। देश के पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के बाद तीन राज्यों में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद माना जा रहा था कि महागठबंधन के लिए उसकी दावेदारी मजबूत होगी, लेकिन क्षेत्रीय पार्टियों ने कांग्रेस को तगड़ा झटका दिया है। सूत्रों की मानें तो समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने गठबंधन में कांग्रेस को दरकिनार कर दिया है। दोनों दलों ने सीटों के बंटवारे का फ़ॉर्मूला भी तय कर लिया है। इस बात का औपचारिक ऐलान बसपा सुप्रीमो मायावती के बर्थडे यानी 15 जनवरी को किया जा सकता है। सूत्रों के मुताबिक, यूपी में ये दोनों दल राष्ट्रीय लोकदल को गठबंधन में शामिल करते हुए भाजपा के खिलाफ लोकसभा चुनाव में बिगुल बजाएंगे। देश में सर्वाधिक 80 लोकसभा सीटों वाले उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी बराबर सीटों पर चुनाव लड़ेगी। वहीं, आरएलडी को साथ लेकर वो उन 3 से 4 सीटों पर चुनाव लड़ने के लिए चुनावी मैदान में उतारेगी। बताते चलें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को गठबंधन का पीएम चेहरा मानने से अखिलेश यादव ने इनकार कर दिया है। अखिलेश ने कहा कि महागठबंधन को लेकर सिर्फ बात चल रही है। शरद पवार, ममता बनर्जी और चंद्रबाबू नायडू जैसे तमाम लोग इसकी कोशिश कर चुके हैं। जरूरी नहीं की सब दल के लोग एक नाम पर सहमत हो जाएं। महागठबंधन ने अभी कोई मूर्त रूप नहीं लिया है। इसलिए राहुल को पीएम कैंडिडेट बताने का प्रस्ताव कोई मायने नहीं रखता। गौरतलब है कि पिछले लोकसभा चुनाव में बसपा प्रदेश के अंदर खाता भी नहीं खोल पाई थी। इसके अलावा सपा 5 और कांग्रेस 2 सीटों पर सिमट कर रह गई थी। दूसरी ओर एनडीए ने 73 सीटों पर जीत दर्ज करके विपक्ष में खलबली पैदा कर दी थी।