1. हिन्दी समाचार
  2. गठबंधन में शामिल किए बगैर कांग्रेस के लिए छोड़ी गई दो सीटें

गठबंधन में शामिल किए बगैर कांग्रेस के लिए छोड़ी गई दो सीटें

Sp Bsp Allaince In Up For 2019 Loksabha Chunao

By आशीष यादव 
Updated Date

लखनऊ। समाजवादी पार्टी और बसपा के गठबंधन का ऐलान होने के बाद शनिवार को एक साझा प्रेस कांन्फ्रेंस ​की गई। इसमें सीटों के बंटवारे के बारे में बोलते हुए बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि 38—38 सीटों पर बसपा और सपा के प्रत्याशी चुनाव लडेंगे, जबकि दो सीटें इस गठबंधन में शामिल होने वाली अन्य पार्टियों के लिए रखी गई है। वहीं उन्होने कहा कि रायबरेली और अमेठी की सीटों को बिना गठबंधन के ​ही कांग्रेस के छोड़ दी गई है।

पढ़ें :- नौतनवां:एक साथ उठी पति-पत्नी की अर्थिया,रो उठा पूरा नगर

वहीं पत्रकारों द्वारा पूछा गया कि दोनों पार्टियों के अध्यक्ष किस सीट से लड़ेंगे, इस पर दोनों ही नेताओं ने ही एक स्वर में बोली इस पर अभी निर्णय नहीं लिया गया है। हालाकि नेताओं ने कहा कि इस सम्बंध में भी जल्द निर्णय लेकर तय कर लिया जाएगा कि कौन सी सीटें किस पार्टी के खाते में जाएगी।

प्रेस कांन्फ्रेस के दौरान सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि प्रदेश की जनता भाजपा की नीतियों से परेशान है। आम जनता को बीजेपी के प्रकोप से बचाने के लिए सपा ने बहुजन समाज पार्टी के साथ गठबंधन किया है। वहीं बीएसपी चीफ मायावती ने कांगेस और बीजेपी दोनों पार्टियों पर निशाना साधा। उन्होने कहा कि कांग्रेस ने घोषित इमरजेंसी लगाई थी, जबकि बीजेपी ने तो अघोषित इमरजेंसी लगा दी है।

लंबा चलेगा गठबंधन: मायावती

गठबंधन की उम्र पर पत्रकारों द्वारा पूछे गए सवाल पर बसपा प्रमुख मायातवी ने कहा कि ये गठबंधन बहुत लंबा चलेगा। उन्होने कहा कि लोकसभा चुनावों में बीजेपी को मात देने के लिए दोनों पार्टियां साथ में आई है, जो कि आगामी विधानसभा चुनाव में भी चलता रहेगा।

उत्तर प्रदेश से ही होगा अगला प्रधानमंत्री : अखिलेश

प्रधानमंत्री पद के लिए मायावती का नाम आगे करने को लेकर पूछे गए सवाल पर अखिलेश यादव मुस्कुराते हुए कहा कि प्रधानमंत्री कौन बनेगा, इस बारे में अ​भी कोई निर्णय नहीं हुआ है, हालाकि उन्होने कहा कि जनता निश्चिंत रहे, अगला प्रधानमंत्री उत्तर प्रदेश से ही बनेगा।

पढ़ें :- किसान आंदोलनः 10वें दौर की बातचीत बेनतीजा, 22 जनवरी को होगी अगली बैठक

मायावती का अपमान मेरा अपमान है: अखिलेश

मायावती पर बीजेपी नेताओं द्वारा किए जाने वाले बयानों को लेकर लेकर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि अगर मायावती का अपमान होता है तो सीधा सा मतलब है कि मेरा अपमान किया गया है। इस​का विरोध हम पूरी ताकत के साथ करेंगे।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...