समाजवादी पार्टी के एकमात्र लोकप्रिय नेता बने अखिलेश

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी और मुलायम सिंह के परिवार में जारी कलह को लोग भले ही पार्टी के लिए नुकसान बता रहे हों लेकिन अगर सर्वे की मानें तो इस कलह से अखिलेश यादव पहले से और मजबूत होकर उभरे हैं। सी-वोटर के दो सर्वे के नतीजे बताते हैं कि विवाद के पहले और अब में अखिलेश की इमेज लोगों की निगाह में काफी सुधरी है और यहां तक कि मुलायम सिंह यादव के मुकाबले अखिलेश को पसंद करने वालों की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ है।



खास बात यह है कि इन सर्वेक्षणों के दौरान सपा के आधार वोट बैंक- यादव और मुसलमान, का भी खास तौर से ध्यान रखा गया। इसमें जब पूछा गया कि आपकी नजर में अखिलेश और शिवपाल- दोनों में से कौन ज्यादा लोकप्रिय हैं तो इस बार 83 फीसद लोगों ने अखिलेश का नाम लिया। पिछली बार 77 फीसद लोगों ने ऐसा कहा था। शिवपाल का नाम पिछली बार 6.9 जबकि इस बार 6.1 फीसद लोगों ने लिया। इसी तरह, पिता मुलायम की तुलना में भी अखिलेश अधिक लोकप्रिय नजर आते हैं। दोनों की लोकप्रियता की तुलना वाले सवाल में भी अखिलेश को इस बार 76 जबकि पिछले महीने 67 प्रतिशत लोगों ने पसंद किया। मुलायम के प्रति पिछली दफा 19 जबकि इस दफा 15 प्रतिशत लोगों ने पसंदगी जताई।




राज्य के 75.7 फीसदी लोग अखिलेश के पक्ष में हैं, जबकि 14.9 फीसदी मुलायम को इस पद पर देखना चाहते हैं। पिछले महीने 66.7 फीसदी लोग अखिलेश को अगला सीएम चाहते थे और 19.1 फीसदी मुलायम सिंह के पक्ष में थे। सी वोटर ने यह सर्वे राज्य के 403 विधानसभा क्षेत्रों में अक्तूबर महीने में 12221 लोगों से बातचीत के आधार पर किया है। हालांकि इस बीच सबकी नजर 3 नवंबर से शुरू होने वाली अखिलेश की रथयात्रा पर है। खबरों के मुताबिक दोनो खेमों की खींचतान के बीच अखिलेश की रथयात्रा के कार्यक्रम में थोड़ा बदलाव किया गया है और अब ये रथयात्रा एक दिन की ही होगी। यानी इस बात की संभावना बढ़ गई है कि अखिलेश 5 तारीख को लखनऊ में पार्टी के रजत जयंती समारोह में शामिल होंगे।

क्या समाजवादी पार्टी में मुख्तार अंसारी जैसे लोगों को लिए जाने पर अखिलेश यादव को सहमत होना चाहिए। इस सवाल पर 63.2 फीसदी लोग मानते हैं कि ऐसे लोगों को पार्टी में नहीं लिया जाना चाहिए। वहीं 19.9 फीसदी लोग मानते हैं कि उन्हें पार्टी में लिया जा सकता है। 16.8 फीसदी लोग इस मामले में अनिर्णय की स्थिति में हैं। सी वोटर ने यह सर्वे राज्य के 403 विधानसभा क्षेत्रों में अक्तूबर महीने में 12221 लोगों से बातचीत के आधार पर किया है।