नागरिकता संशोधन बिल पर सपा सांसद बोले- जिन्ना के सपने को पूरा कर रही केन्द्र सरकार

सांसद जावेद अली खान
नागरिकता बिल पर सपा सांसद बोले- जिन्ना के सपने को पूरा कर रही केन्द्र सरकार

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 राज्यसभा में पेश हो चुका है। बिल पर चर्चा के दौरान समाजवादी पार्टी के सांसद जावेद अली खान ने कहा कि इस विधेयक और एनआरसी से केन्द्र सरकार पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना के सपने को पूरा करने की कोशिश कर रही है। सपा सांसद ने कहा कि 1949 में सरदार पटेल ने कहा था कि हम भारत में वास्तव में धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्र की नींव रख रहे हैं। इससे पहले गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में पेश कर दिया है। सदन में बिल पर चर्चा शुरू हो गई है। अमित शाह ने कहा कि गलत सूचना फैलाई गई कि यह बिल भारत के मुसलमानों के खिलाफ है।

Sp Mp On Citizenship Bill Said Central Government Is Fulfilling Jinnahs Dream :

तेलंगाना राष्ट्र समिति के सांसद डॉ. केशव राव ने राज्यसभा में कहा कि यह विधेयक भारत के विचार को चुनौती देता है और न्याय के प्रत्येक आदर्श को नकारता है। इस बिल को वापस लिया जाना चाहिए। राज्यसभा में जेडीयू के आरसीपी सिंह ने कहा कि हम इस बिल का समर्थन करते हैं। यह बिल बहुत स्पष्ट है, यह हमारे तीन पड़ोसी देशों से उत्पीड़ित अल्पसंख्यकों को नागरिकता देता है, लेकिन यहां हमारे भारतीय मुस्लिम भाइयों पर बहस चल रही है।

राज्यसभा के उपाध्यक्ष हरिवंश ने कहा कि व्यापार सलाहकार समिति ने नागरिकता संशोधन विधेयक पर चर्चा के लिए छह घंटे आवंटित करने का निर्णय लिया है। चर्चा में 48 वक्ता भाग ले रहे हैं। इससे पहले
तृणमूल कांग्रेस के सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने कहा कि मैंने पढ़ा कि पीएम ने कहा कि यह सुनहरे अक्षरों में लिखा जाएगा। मैं आपको बताता हूं कि यह कहां लिखा जाएगा। यह राष्ट्र पिता की कब्र पर लिखा जाएगा, लेकिन किस राष्ट्र के पिता की कब्र पर? कराची में जिन्ना की कब्र पर।

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 राज्यसभा में पेश हो चुका है। बिल पर चर्चा के दौरान समाजवादी पार्टी के सांसद जावेद अली खान ने कहा कि इस विधेयक और एनआरसी से केन्द्र सरकार पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना के सपने को पूरा करने की कोशिश कर रही है। सपा सांसद ने कहा कि 1949 में सरदार पटेल ने कहा था कि हम भारत में वास्तव में धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्र की नींव रख रहे हैं। इससे पहले गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में पेश कर दिया है। सदन में बिल पर चर्चा शुरू हो गई है। अमित शाह ने कहा कि गलत सूचना फैलाई गई कि यह बिल भारत के मुसलमानों के खिलाफ है। तेलंगाना राष्ट्र समिति के सांसद डॉ. केशव राव ने राज्यसभा में कहा कि यह विधेयक भारत के विचार को चुनौती देता है और न्याय के प्रत्येक आदर्श को नकारता है। इस बिल को वापस लिया जाना चाहिए। राज्यसभा में जेडीयू के आरसीपी सिंह ने कहा कि हम इस बिल का समर्थन करते हैं। यह बिल बहुत स्पष्ट है, यह हमारे तीन पड़ोसी देशों से उत्पीड़ित अल्पसंख्यकों को नागरिकता देता है, लेकिन यहां हमारे भारतीय मुस्लिम भाइयों पर बहस चल रही है। राज्यसभा के उपाध्यक्ष हरिवंश ने कहा कि व्यापार सलाहकार समिति ने नागरिकता संशोधन विधेयक पर चर्चा के लिए छह घंटे आवंटित करने का निर्णय लिया है। चर्चा में 48 वक्ता भाग ले रहे हैं। इससे पहले तृणमूल कांग्रेस के सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने कहा कि मैंने पढ़ा कि पीएम ने कहा कि यह सुनहरे अक्षरों में लिखा जाएगा। मैं आपको बताता हूं कि यह कहां लिखा जाएगा। यह राष्ट्र पिता की कब्र पर लिखा जाएगा, लेकिन किस राष्ट्र के पिता की कब्र पर? कराची में जिन्ना की कब्र पर।