अयोध्या में सियासी संग्राम, उद्घाटन से पहले तोड़ा गया शिलापट्ट

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के अयोध्या में सियासी बवंडर शुरू हो गया है। यहां श्री राम चिकित्सालय परिसर में नए वार्ड के उद्घाटन से पहले ही भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) व समाजवादी पार्टी(सपा) के कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए। बताया जा रहा है, नवनिर्मित अस्पताल के भवन की दीवार पर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और अयोध्या से पूर्व विधायक तेज नारायण पांडे पवन के नाम का शिलापट लगा होने को लेकर बवाल खड़ा हो गया। भाजपा कार्यकर्ताओं का आरोप है कि इस शिलापट्ट को 24 घंटे पहले लगा दिया गया। भाजपा कार्यकर्ताओं ने शिलापट्ट को तोड़ दिया। मौके पर भारी मात्रा में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।
भाजपा कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया कि पूर्व में नवनिर्मित भवन की दीवार पर किसी भी प्रकार का कोई शिलापट्ट नहीं था लेकिन साजिश के तहत कुछ अराजक तत्वों ने नवनिर्मित अस्पताल की दीवार पर पूर्व की सरकार का शिलापट्ट लगा दिया है, जबकि आगामी 18 अक्टूबर को प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा इस नवनिर्मित भवन का उद्घाटन होना है।

भाजपा जिला अध्यक्ष अवधेश पांडेय बादल सहित बीजेपी के अन्य कार्यकर्ता और नेता अस्पताल परिसर पहुंच गए। भाजपा जिलाध्यक्ष ने आरोप लगाया कि 24 घंटे पहले ही यह शिलापट्ट लगाया गया है जिसके बाद मामले की सूचना पुलिस को दी गई और कुछ ही देर में शिलापट्ट को तोड़ कर हटा दिया गया।

{ यह भी पढ़ें:- अब शहीद पुलिसकर्मियों के परिवारों को मिलेगी 40 लाख की आर्थिक सहायता }

वही मामले की खबर सपा नेताओं को मिलते ही हंगामा शुरू हो गया। अस्पताल परिसर में सपा और भाजपा के नेताओं की मौजूदगी को देखते हुए माहौल गर्मा गया और भारी मात्रा में पुलिस बल की तैनाती कर दी गई। फिलहाल पुलिस ने दोनों पक्षों की शिकायत पर घटना की जांच शुरू कर दी है। इस प्रकरण को लेकर अयोध्या में सियासी माहौल बेहद गर्म है।

{ यह भी पढ़ें:- CM योगी के गृह जनपद में गिरफ्तार हुई भाजपा महिला नेत्री, 50 हजार की रिश्वत लेने का आरोप }