श्रीलंका हमला: 10 दिन पहले मिला था इनपुट, भारतीय उच्चायोग भी था निशाने पर

shrilanka
श्रीलंका हमला: 10 दिन पहले मिला था इनपुट, भारतीय उच्चायोग भी था निशाने पर

नई दिल्ली। श्रीलंका में रविवार को हुए आठ बम धमाकों से पड़ोसी देश दहल गया। धमाकों में हुई मौतों का आंकड़ा 207 पहुंच गया है, जबकि 500 से ज्यादा लोग घायल हो गये। मरने वालों में 35 विदेशी लोग भी शामिल हैं। पुलिस प्रमुख पुजुत जयसुंदरा ने 11 अप्रैल को चेतावनी देते हुए कहा था, ‘‘एक विदेशी खुफिया एजेंसी ने कहा है कि नेशनल थोहीथ जमात (एनटीजे) देश के प्रमुख चर्चों और कोलंबो के भारतीय उच्चायोग पर आत्मघाती हमले की साजिश रच रहा है।’’

Sri Lanka Explosions Police Chief Warned Of Suicide Attack Threat 10 Days Before Blasts :

भारतीय उच्चायोग भी था खतरे में 

पुलिस चीफ पुजुथ जयासुंदरा ने 11 अप्रैल को ही एक चेतावनी आला अफसरों को दी थी। उनके अनुसार एक विदेशी जांच एजेंसी के अनुसार नेशनल थोहीथ जमात (एनटीजे) आत्मघाती हमलावरों को देश के प्रमुख चर्चों में भेज धमाके करने की साजिश रच रहा है। इसके साथ ही एनटीजे के निशाने पर कोलंबो में स्थित भारतीय उच्चायोग भी है। एनटीजे एक मुस्लिम संगठन है। यह संगठन उस समय चर्चा में आया था जब इन्होंने बुद्ध की मूर्तियों को तोड़ा था।

 देशभर में लगा कर्फ्यू

गौरतलब है कि श्रीलंका में रविवार को आठ धमाके हुए, इनमें 207 लोगों की मौत हो गई। तीन चर्चों में स्‍थानीय समायानुसार सुबह करीब 8.45 बजे धमाके हुए। ईस्टर के चलते इस दौरान चर्चों में काफी भीड़ थी। इसके साथ ही होटल शंगरीला, सिनामोन ग्रांड और किंग्सबरी को भी निशाना बनाया गया। धमाकों के बाद श्रीलंका के रक्षा मंत्रालय ने देश भर में कर्फ्यू की घोषणा की है जो रविवार शाम 6 बजे से सोमवार सुबह 6 बजे तक रहेगा।

नई दिल्ली। श्रीलंका में रविवार को हुए आठ बम धमाकों से पड़ोसी देश दहल गया। धमाकों में हुई मौतों का आंकड़ा 207 पहुंच गया है, जबकि 500 से ज्यादा लोग घायल हो गये। मरने वालों में 35 विदेशी लोग भी शामिल हैं। पुलिस प्रमुख पुजुत जयसुंदरा ने 11 अप्रैल को चेतावनी देते हुए कहा था, ‘‘एक विदेशी खुफिया एजेंसी ने कहा है कि नेशनल थोहीथ जमात (एनटीजे) देश के प्रमुख चर्चों और कोलंबो के भारतीय उच्चायोग पर आत्मघाती हमले की साजिश रच रहा है।’’ भारतीय उच्चायोग भी था खतरे में  पुलिस चीफ पुजुथ जयासुंदरा ने 11 अप्रैल को ही एक चेतावनी आला अफसरों को दी थी। उनके अनुसार एक विदेशी जांच एजेंसी के अनुसार नेशनल थोहीथ जमात (एनटीजे) आत्मघाती हमलावरों को देश के प्रमुख चर्चों में भेज धमाके करने की साजिश रच रहा है। इसके साथ ही एनटीजे के निशाने पर कोलंबो में स्थित भारतीय उच्चायोग भी है। एनटीजे एक मुस्लिम संगठन है। यह संगठन उस समय चर्चा में आया था जब इन्होंने बुद्ध की मूर्तियों को तोड़ा था।  देशभर में लगा कर्फ्यू गौरतलब है कि श्रीलंका में रविवार को आठ धमाके हुए, इनमें 207 लोगों की मौत हो गई। तीन चर्चों में स्‍थानीय समायानुसार सुबह करीब 8.45 बजे धमाके हुए। ईस्टर के चलते इस दौरान चर्चों में काफी भीड़ थी। इसके साथ ही होटल शंगरीला, सिनामोन ग्रांड और किंग्सबरी को भी निशाना बनाया गया। धमाकों के बाद श्रीलंका के रक्षा मंत्रालय ने देश भर में कर्फ्यू की घोषणा की है जो रविवार शाम 6 बजे से सोमवार सुबह 6 बजे तक रहेगा।