श्रीलंका ने कैंडी में हुए हमले के बाद 10 दिनों के लिए की आपातकाल की घोषणा,कड़ी सुरक्षा में टीम इंडिया

श्रीलंका ने कैंडी में हुए हमले के बाद 10 दिनों के लिए की आपातकाल की घोषणा,कड़ी सुरक्षा में टीम इंडिया
श्रीलंका ने कैंडी में हुए हमले के बाद 10 दिनों के लिए की आपातकाल की घोषणा,कड़ी सुरक्षा में टीम इंडिया

कोलंबो। श्रीलंका के कैंडी क्षेत्र में बौद्धों और अल्पसंख्यक मुस्लिमों के बीच हुई सांप्रदायिक हिंसा के बाद मंगलवार को देश में 10 दिनों के लिए आपातकाल की घोषित हो गयी है। सरकारी अधिकारियों के मुताबिक अभी तक हिंसा में दो लोगों की मौत हो चुकी है। दोनों समूह में हुई भिड़ंत में करीब 20 दुकानों को जला दिया गया। फिलहाल पूरे मामले में दर्जन भर से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

Sri Lanka Has Declared A State Of Emergency For 10 Days 2 :

ट्विटर के माध्यम से इस बात की जानकारी मिली कि राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना और कैबिनेट ने 10 दिनों के लिए आपातकाल लगाने का फैसला किया। द्वीप पर हालात सामान्य करने के लिए आपराधिक तत्वों से लोहा लेने के लिए सुरक्षा कर्मियों को अधिकार दिए गए हैं। चिंता का विषय यह है कि भारतीय क्रिकेट टीम बांग्लादेश के साथ एक त्रिपक्षीय श्रृंखला के लिए फिलहाल श्रीलंका में है। देश के खेल मंत्री दयासिरी जयशेखरा ने कहा कि इस वक्त किसी मैच को रद्द करने का कोई सवाल नहीं उठता है। वहीं बताया जा रहा है कि खिलाड़ियों की सुरक्षा बढ़ा दी गयी है।

मिली जानकारी के मुताबिक, सरकार ने सांप्रदायिक हिंसा पर विचार के लिए एक विशेष बैठक भी बुलाई है। इस हिंसा में मुस्लिम और सिंहली शामिल हैं। सिंहलियों में अधिकतर लोग बौद्ध समुदाय के हैं। इससे पहले दिन में, 28 वर्षीय मुस्लिम शख्स का शव कैंडी प्रांत के तेलदीनिया से बरामद किया गया जिससे इलाके में अशांति फैल गई। उसके मकान में कथित रूप से बौद्ध चरमपंथियों ने आग लगा दी थी। उसने अपने अभिभावकों को तो घर से बाहर निकाल दिया लेकिन खुद घर के अंदर फंसा रह गया।

यह भवन एक व्यवसायिक प्रतिष्ठान भी था जिसमें करीब 20 दुकानें थी जिनमें आग लगा दी गई। इसके अलावा कट्टरपंथियों ने एक मस्जिद में भी आग लगा दी। तेलदीनिया में बौद्ध समुदाय के एक शख्स की मौत के परिणामस्वरूप अधिकारियों ने सोमवार को कर्फ्यू लगाया और कैंडी में हिंसा के लिए 20 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया था। चार मुस्लिम युवकों के साथ झड़प में उसकी हत्या कर दी गई थी। श्रीलंका की कुल आबादी में सत्तर फीसदी बौद्ध हैं। मुसलमानों की संख्या महज ग्यारह फीसदी है।

कोलंबो। श्रीलंका के कैंडी क्षेत्र में बौद्धों और अल्पसंख्यक मुस्लिमों के बीच हुई सांप्रदायिक हिंसा के बाद मंगलवार को देश में 10 दिनों के लिए आपातकाल की घोषित हो गयी है। सरकारी अधिकारियों के मुताबिक अभी तक हिंसा में दो लोगों की मौत हो चुकी है। दोनों समूह में हुई भिड़ंत में करीब 20 दुकानों को जला दिया गया। फिलहाल पूरे मामले में दर्जन भर से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया गया है।ट्विटर के माध्यम से इस बात की जानकारी मिली कि राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना और कैबिनेट ने 10 दिनों के लिए आपातकाल लगाने का फैसला किया। द्वीप पर हालात सामान्य करने के लिए आपराधिक तत्वों से लोहा लेने के लिए सुरक्षा कर्मियों को अधिकार दिए गए हैं। चिंता का विषय यह है कि भारतीय क्रिकेट टीम बांग्लादेश के साथ एक त्रिपक्षीय श्रृंखला के लिए फिलहाल श्रीलंका में है। देश के खेल मंत्री दयासिरी जयशेखरा ने कहा कि इस वक्त किसी मैच को रद्द करने का कोई सवाल नहीं उठता है। वहीं बताया जा रहा है कि खिलाड़ियों की सुरक्षा बढ़ा दी गयी है।मिली जानकारी के मुताबिक, सरकार ने सांप्रदायिक हिंसा पर विचार के लिए एक विशेष बैठक भी बुलाई है। इस हिंसा में मुस्लिम और सिंहली शामिल हैं। सिंहलियों में अधिकतर लोग बौद्ध समुदाय के हैं। इससे पहले दिन में, 28 वर्षीय मुस्लिम शख्स का शव कैंडी प्रांत के तेलदीनिया से बरामद किया गया जिससे इलाके में अशांति फैल गई। उसके मकान में कथित रूप से बौद्ध चरमपंथियों ने आग लगा दी थी। उसने अपने अभिभावकों को तो घर से बाहर निकाल दिया लेकिन खुद घर के अंदर फंसा रह गया।यह भवन एक व्यवसायिक प्रतिष्ठान भी था जिसमें करीब 20 दुकानें थी जिनमें आग लगा दी गई। इसके अलावा कट्टरपंथियों ने एक मस्जिद में भी आग लगा दी। तेलदीनिया में बौद्ध समुदाय के एक शख्स की मौत के परिणामस्वरूप अधिकारियों ने सोमवार को कर्फ्यू लगाया और कैंडी में हिंसा के लिए 20 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया था। चार मुस्लिम युवकों के साथ झड़प में उसकी हत्या कर दी गई थी। श्रीलंका की कुल आबादी में सत्तर फीसदी बौद्ध हैं। मुसलमानों की संख्या महज ग्यारह फीसदी है।