श्रीलंका में भड़की हिंसा, एक की मौत, लगा कर्फ्यू

c

कोलंबो। श्रीलंका सरकार ने सोमवार को देशभर में छह घंटे का कफ्र्यू लगा दिया क्योंकि द्वीप देश में बड़ी तेजी से सांप्रदायिक हिंसा फैल रही है। यह हिंसा ईस्टर के मौके पर हुए हम बम धमाकों के बाद फैल रही है जिसमें कई लोग मारे गए थे। पुलिस प्रवक्ता ने कहा रात के नौ बजे से सुबह के चार बजे तक देशभर में कफ्र्यू लगा दिया गया है। इसी बीच हिंसा में 45 साल के शख्स की मौत होने की खबर आई है।

Sri Lankan Authorities Enforced Countrywide Curfew As Communal Violence Continued To Spread :

एक पुलिस अधिकारी ने कहा भीड़ ने उसपर तेज हथियार से हमला किया था। मृतक बढ़ई की दुकान चलाता था। सांप्रदायिक हिंसा के कारण हुई यह पहली मौत है। इससे पहले दिन में पुलिस ने चार शहरों कुलियापिटिया, हेट्टीपोला, बिंगिरिया और दुम्मालासुरिया से कफ्र्यू हटाने के कुछ घंटों बाद ही दोबारा लगा दिया था।

इन क्षेत्रों में सांप्रदायिक हिंसा हुई थी। बाद में इसे पूरे उत्तर पश्चिमी प्रांत तक बढ़ा दिया गया क्योंकि हिंसा लगातार फैल रही थी। प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने हिंसा के बाद लोगों से शांत रहने की अपील की है। खासतौर से कुरुनेगला जिले में जहां मुस्लिमों को निशाना बनाया जा रहा है। उन्होंने लोगों से अपील की है कि वह झूठी सूचनाओं पर यकीन न करे। विक्रमसिंघे ने कहा मैं सभी नागरिकों से अपील करता हूं कि वह शांत रहें और झूठी सूचनाओं पर यकीन न करें।

सुरक्षाबल आतंकियों को पकडऩे और देश में सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए अथक प्रयास कर रहे हैं। लेकिन हर बार यहां होने वाली नागरिक अशांति के कारण उनका काम बढ़ रहा है और इससे जांच पर असर पड़ रहा है। श्रीलंका सरकार ने सोमवार को सोशल मीडिया नेटवर्क और मैसेजिंग ऐप, जिसमें फेसबुक और व्हाट्सएप भी शामिल हैं पर अस्थायी रूप से प्रतिबंध लगा दिया।

ईस्टर बम धमाकों के बाद यहां मस्जिदों और मुस्लिमों द्वारा चलाई जा रही दुकान आदि पर हमले हुए हैं।  देश में हिंसा ना फैले इस बात का ध्यान रखते हुए सोशल मीडिया पर प्रतिबंध लगाया गया है। यह प्रतिबंध ऐसे समय पर लगाया गया है जब श्रीलंका पुलिस ने देश के पश्चिमी तटीय शहर चिलॉ में कफ्र्यू लगा दिया है क्योंकि वहां एक भीड़ ने मस्जिद पर और मुस्लिमों की दुकान पर हमला किया।

यह विवाद मुस्लिम दुकान के मालिक के एक फेसबुक पोस्ट के बाद हुआ। अधिकारियों का कहना है कि उन्होंने विवाद का कारण बने फेसबुक पोस्ट करने वाले शख्स को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी की पहचान 38 वर्षीय अब्दुल हमीद मोहम्मद हसमर के तौर पर हुई है। इस पोस्ट में आरोपी व्यक्ति ने लिखा था एक दिन तुम रोओगे। लोगों का कहना है कि इसी पोस्ट के कारण हिंसा हुई है।

कोलंबो। श्रीलंका सरकार ने सोमवार को देशभर में छह घंटे का कफ्र्यू लगा दिया क्योंकि द्वीप देश में बड़ी तेजी से सांप्रदायिक हिंसा फैल रही है। यह हिंसा ईस्टर के मौके पर हुए हम बम धमाकों के बाद फैल रही है जिसमें कई लोग मारे गए थे। पुलिस प्रवक्ता ने कहा रात के नौ बजे से सुबह के चार बजे तक देशभर में कफ्र्यू लगा दिया गया है। इसी बीच हिंसा में 45 साल के शख्स की मौत होने की खबर आई है। एक पुलिस अधिकारी ने कहा भीड़ ने उसपर तेज हथियार से हमला किया था। मृतक बढ़ई की दुकान चलाता था। सांप्रदायिक हिंसा के कारण हुई यह पहली मौत है। इससे पहले दिन में पुलिस ने चार शहरों कुलियापिटिया, हेट्टीपोला, बिंगिरिया और दुम्मालासुरिया से कफ्र्यू हटाने के कुछ घंटों बाद ही दोबारा लगा दिया था। इन क्षेत्रों में सांप्रदायिक हिंसा हुई थी। बाद में इसे पूरे उत्तर पश्चिमी प्रांत तक बढ़ा दिया गया क्योंकि हिंसा लगातार फैल रही थी। प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने हिंसा के बाद लोगों से शांत रहने की अपील की है। खासतौर से कुरुनेगला जिले में जहां मुस्लिमों को निशाना बनाया जा रहा है। उन्होंने लोगों से अपील की है कि वह झूठी सूचनाओं पर यकीन न करे। विक्रमसिंघे ने कहा मैं सभी नागरिकों से अपील करता हूं कि वह शांत रहें और झूठी सूचनाओं पर यकीन न करें। सुरक्षाबल आतंकियों को पकडऩे और देश में सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए अथक प्रयास कर रहे हैं। लेकिन हर बार यहां होने वाली नागरिक अशांति के कारण उनका काम बढ़ रहा है और इससे जांच पर असर पड़ रहा है। श्रीलंका सरकार ने सोमवार को सोशल मीडिया नेटवर्क और मैसेजिंग ऐप, जिसमें फेसबुक और व्हाट्सएप भी शामिल हैं पर अस्थायी रूप से प्रतिबंध लगा दिया। ईस्टर बम धमाकों के बाद यहां मस्जिदों और मुस्लिमों द्वारा चलाई जा रही दुकान आदि पर हमले हुए हैं।  देश में हिंसा ना फैले इस बात का ध्यान रखते हुए सोशल मीडिया पर प्रतिबंध लगाया गया है। यह प्रतिबंध ऐसे समय पर लगाया गया है जब श्रीलंका पुलिस ने देश के पश्चिमी तटीय शहर चिलॉ में कफ्र्यू लगा दिया है क्योंकि वहां एक भीड़ ने मस्जिद पर और मुस्लिमों की दुकान पर हमला किया। यह विवाद मुस्लिम दुकान के मालिक के एक फेसबुक पोस्ट के बाद हुआ। अधिकारियों का कहना है कि उन्होंने विवाद का कारण बने फेसबुक पोस्ट करने वाले शख्स को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी की पहचान 38 वर्षीय अब्दुल हमीद मोहम्मद हसमर के तौर पर हुई है। इस पोस्ट में आरोपी व्यक्ति ने लिखा था एक दिन तुम रोओगे। लोगों का कहना है कि इसी पोस्ट के कारण हिंसा हुई है।