श्रीलंका के राष्ट्रपति ने कहा, भारतीय मछुआरों को जल्द करेंगे रिहा, PM मोदी ने की ये घोषणा

India ans shrilanka
श्रीलंका के राष्ट्रपति ने कहा, भारतीय मछुआरों को जल्द करेंगे रिहा, PM मोदी ने की ये घोषणा

नई दिल्ली। श्रीलंका के नव निर्वाचित राष्ट्रपति गौतबाया राजपक्षे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को हैदराबाद हाउस में द्विपक्षीय बैठक की। बैठक के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने संयुक्त बयान में कहा कि श्रीलंका की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए 2865 करोड़ रुपए (400 मिलियन डॉलर) के कर्ज की सुविधा (लाइन ऑफ क्रेडिट) दी जाएगी। श्रीलंका को 716 करोड़ रुपए (100 मिलियन डॉलर) का कर्ज सोलर परियोजना के लिए दिया जाएगा।

Sri Lankan President Said Indian Fishermen Will Be Released Soon Pm Modi Announced This :

पीएम मोदी ने कहा कि भारतीय आवास परियोजना के तहत श्रीलंका में पहले ही 46 हजार घरों का निर्माण किया जा चुका है। तमिल मूल के लोगों के लिए 14 हजार घरों का निर्माण चल रहा है। श्रीलंका के साथ संबंध मजबूत करने के लिए हमने अपने विचार साझा किए। राष्ट्रपति राजपक्षे का राजनीतिक दृष्टिकोण विभिन्न समुदाय के बीच सौहार्द बनाए रखने का है। मुझे उम्मीद है कि श्रीलंका की सरकार तमिलों की समानता, न्याय और सम्मान की दिशा में काम करेगी।

पीएम मोदी ने कहा कि गौतबाया राजपक्षे को श्रीलंका की जनता की ओर से बहुमत मिला। यह दर्शाता है कि वह एक मजबूत श्रीलंका देखना चाहते हैं। यह न सिर्फ भारत के हित में है बल्कि पूरे हिंद महासागर क्षेत्र के लिए बेहद अहम है। मोदी ने कहा कि भारत और श्रीलंका ने एक मजबूत संबंध साझा किया है। ‘नेवरहुड फर्स्ट पॉलिसी’ के तहत श्रीलंका को हम अपने संबंधों में प्राथमिकता पर रखते हैं। भारत हमेशा आतंकवाद के खिलाफ लड़ता रहा है। हम श्रीलंका को आतंकवाद से मुकाबला करने के लिए 358 करोड़ रु. (50 मिलियन डॉलर) की मदद देंगे।

श्रीलंका के राष्ट्रपति राजपक्षे ने अपने बयान में कहा कि भारत ने श्रीलंका द्वारा नौकाओं को रखे जाने का मुद्दा उठाया। हम अपने हिरासत में रखे गए मछुआरों और उनकी नौकाओं को जल्द छोड़ने को लेकर काम करेंगे। श्रीलंका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति गौतबाया राजपक्षे तीन दिवसीय भारत दौरे पर हैं। शुक्रवार को राष्ट्रपति भवन में उनका औपचारिक स्वागत हुआ। गौतबाया ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। इससे पहले गौतबाया ने विदेश मंत्री एस जयशंकर से मुलाकात की। राष्ट्रपति बनने के बाद गौतबाया की यह पहली विदेश यात्रा है।

दिल्ली में एमडीएमके ने किया प्रदर्शन

श्रीलंका के राष्ट्रपति गौतबाया राजपक्षे की यात्रा के विरोध में मारूमलार्ची द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (एमडीएमके) के नेता वाइको ने गुरुवार को दिल्ली में समर्थकों के साथ प्रदर्शन किया। इसके बाद पुलिस प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लेकर पार्लियामेंट स्ट्रीट पुलिस स्टेशन ले गई।

नई दिल्ली। श्रीलंका के नव निर्वाचित राष्ट्रपति गौतबाया राजपक्षे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को हैदराबाद हाउस में द्विपक्षीय बैठक की। बैठक के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने संयुक्त बयान में कहा कि श्रीलंका की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए 2865 करोड़ रुपए (400 मिलियन डॉलर) के कर्ज की सुविधा (लाइन ऑफ क्रेडिट) दी जाएगी। श्रीलंका को 716 करोड़ रुपए (100 मिलियन डॉलर) का कर्ज सोलर परियोजना के लिए दिया जाएगा। पीएम मोदी ने कहा कि भारतीय आवास परियोजना के तहत श्रीलंका में पहले ही 46 हजार घरों का निर्माण किया जा चुका है। तमिल मूल के लोगों के लिए 14 हजार घरों का निर्माण चल रहा है। श्रीलंका के साथ संबंध मजबूत करने के लिए हमने अपने विचार साझा किए। राष्ट्रपति राजपक्षे का राजनीतिक दृष्टिकोण विभिन्न समुदाय के बीच सौहार्द बनाए रखने का है। मुझे उम्मीद है कि श्रीलंका की सरकार तमिलों की समानता, न्याय और सम्मान की दिशा में काम करेगी। पीएम मोदी ने कहा कि गौतबाया राजपक्षे को श्रीलंका की जनता की ओर से बहुमत मिला। यह दर्शाता है कि वह एक मजबूत श्रीलंका देखना चाहते हैं। यह न सिर्फ भारत के हित में है बल्कि पूरे हिंद महासागर क्षेत्र के लिए बेहद अहम है। मोदी ने कहा कि भारत और श्रीलंका ने एक मजबूत संबंध साझा किया है। ‘नेवरहुड फर्स्ट पॉलिसी’ के तहत श्रीलंका को हम अपने संबंधों में प्राथमिकता पर रखते हैं। भारत हमेशा आतंकवाद के खिलाफ लड़ता रहा है। हम श्रीलंका को आतंकवाद से मुकाबला करने के लिए 358 करोड़ रु. (50 मिलियन डॉलर) की मदद देंगे। श्रीलंका के राष्ट्रपति राजपक्षे ने अपने बयान में कहा कि भारत ने श्रीलंका द्वारा नौकाओं को रखे जाने का मुद्दा उठाया। हम अपने हिरासत में रखे गए मछुआरों और उनकी नौकाओं को जल्द छोड़ने को लेकर काम करेंगे। श्रीलंका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति गौतबाया राजपक्षे तीन दिवसीय भारत दौरे पर हैं। शुक्रवार को राष्ट्रपति भवन में उनका औपचारिक स्वागत हुआ। गौतबाया ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। इससे पहले गौतबाया ने विदेश मंत्री एस जयशंकर से मुलाकात की। राष्ट्रपति बनने के बाद गौतबाया की यह पहली विदेश यात्रा है।

दिल्ली में एमडीएमके ने किया प्रदर्शन

श्रीलंका के राष्ट्रपति गौतबाया राजपक्षे की यात्रा के विरोध में मारूमलार्ची द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (एमडीएमके) के नेता वाइको ने गुरुवार को दिल्ली में समर्थकों के साथ प्रदर्शन किया। इसके बाद पुलिस प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लेकर पार्लियामेंट स्ट्रीट पुलिस स्टेशन ले गई।