लाल चौक पर तिरंगा फहराने गए लोगों की पिटाई, ध्वज का किया अपमान

लाल चौक पर तिरंगा फहराने गए लोगों की पिटाई, ध्वज का किया अपमान
लाल चौक पर तिरंगा फहराने गए लोगों की पिटाई, ध्वज का किया अपमान

नई दिल्ली। स्वतंत्रता दिवस से पहले जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में हैरतअंगेज मामला सामने आया है लालचौक पर तिरंगा फहराने आए तीन युवकों से स्‍थानीय लोगों ने तिरंगा फहराने का विरोध किया। इस दौरान दोनों पक्षों में कहासुनी और हल्‍की झड़प हो गई जिसके बाद स्थानीय लोगों ने तिरंगा फहराने आए लड़को के साथ मारपीट किया। यह तीनों युवक नई दिल्ली के रहने वाले बताए जाते हैं। इनमें से एक का नाम जितेंद्र और एक अन्य का नाम कृष्ण बताया जाता है। फिलहाल, यह तीनों कोठीबाग पुलिस स्टेशन में बंद हैं। कोई भी अधिकारी इस संदर्भ में खुलकर बोलने को तैयार नहीं है।

Srinagar Lal Chowk When He Was Trying To Unfurl Indian Flag At Clock Tower :

श्रीनगर के बीचोबीच स्थित लाल चौक व्‍यवासायिक हब माना जाता है। तिरंगा फहराने की कोशिश से इलाके में अफरातफरी मच गई। पुलिस ने जिन लोगों को अरेस्‍ट किया है, वे स्‍थानीय नहीं हैं। ये लोग क्‍लॉक टावर पर तिरंगा फहराने की कोशिश कर रहे थे। बताया जा रहा है कि जब लोग लाल चौक पर क्‍लॉक टावर पर तिरंगा फहरा रहे थे, तब स्‍थानीय लोग इसका विरोध करने लगे। देखते ही देखते काफी लोग वहां इकट्ठा हो गए और प्रदर्शन करने लगे। पुलिस ने तिरंगा फहरा रहे लोगों को हिरासत में ले लिया। इस घटना को देखते हुए पूरे इलाके में सुरक्षा व्‍यवस्‍था को और कड़ा कर दिया गया है। बता दें कि पहले के वर्षों में भी गणतंत्र दिवस और स्‍वतंत्रता दिवस पर लोग लाल चौक पर तिरंगा फहराने की कोशिश कर चुके हैं।

पिछले साल जम्‍मू कश्‍मीर के पूर्व मुख्‍यमंत्री फारुक अब्‍दुल्‍ला ने चुनौती दी थी कि केंद्र सरकार लाल चौक पर तिरंगा फहरा कर दिखाए। इसके बाद शिवसेना की जम्‍मू कश्‍मीर शाखा ने अपनी एक टीम श्रीनगर भेजी थी, ताकि लाल चौक पर तिरंगा फहराया जा सके। अब्‍दुल्‍ला ने कहा था, ‘वे पाक अधिकृत कश्‍मीर में तिरंगा फहराने की बात करते हैं लेकिन मैं उनसे कहता हूं कि वे श्रीनगर जाएं और लाल चौक पर तिरंगा फहराएं। वे यह भी नहीं कर सकते हैं और पाक अधिकृत कश्‍मीर की बात करते हैं।’

नई दिल्ली। स्वतंत्रता दिवस से पहले जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में हैरतअंगेज मामला सामने आया है लालचौक पर तिरंगा फहराने आए तीन युवकों से स्‍थानीय लोगों ने तिरंगा फहराने का विरोध किया। इस दौरान दोनों पक्षों में कहासुनी और हल्‍की झड़प हो गई जिसके बाद स्थानीय लोगों ने तिरंगा फहराने आए लड़को के साथ मारपीट किया। यह तीनों युवक नई दिल्ली के रहने वाले बताए जाते हैं। इनमें से एक का नाम जितेंद्र और एक अन्य का नाम कृष्ण बताया जाता है। फिलहाल, यह तीनों कोठीबाग पुलिस स्टेशन में बंद हैं। कोई भी अधिकारी इस संदर्भ में खुलकर बोलने को तैयार नहीं है।श्रीनगर के बीचोबीच स्थित लाल चौक व्‍यवासायिक हब माना जाता है। तिरंगा फहराने की कोशिश से इलाके में अफरातफरी मच गई। पुलिस ने जिन लोगों को अरेस्‍ट किया है, वे स्‍थानीय नहीं हैं। ये लोग क्‍लॉक टावर पर तिरंगा फहराने की कोशिश कर रहे थे। बताया जा रहा है कि जब लोग लाल चौक पर क्‍लॉक टावर पर तिरंगा फहरा रहे थे, तब स्‍थानीय लोग इसका विरोध करने लगे। देखते ही देखते काफी लोग वहां इकट्ठा हो गए और प्रदर्शन करने लगे। पुलिस ने तिरंगा फहरा रहे लोगों को हिरासत में ले लिया। इस घटना को देखते हुए पूरे इलाके में सुरक्षा व्‍यवस्‍था को और कड़ा कर दिया गया है। बता दें कि पहले के वर्षों में भी गणतंत्र दिवस और स्‍वतंत्रता दिवस पर लोग लाल चौक पर तिरंगा फहराने की कोशिश कर चुके हैं।पिछले साल जम्‍मू कश्‍मीर के पूर्व मुख्‍यमंत्री फारुक अब्‍दुल्‍ला ने चुनौती दी थी कि केंद्र सरकार लाल चौक पर तिरंगा फहरा कर दिखाए। इसके बाद शिवसेना की जम्‍मू कश्‍मीर शाखा ने अपनी एक टीम श्रीनगर भेजी थी, ताकि लाल चौक पर तिरंगा फहराया जा सके। अब्‍दुल्‍ला ने कहा था, 'वे पाक अधिकृत कश्‍मीर में तिरंगा फहराने की बात करते हैं लेकिन मैं उनसे कहता हूं कि वे श्रीनगर जाएं और लाल चौक पर तिरंगा फहराएं। वे यह भी नहीं कर सकते हैं और पाक अधिकृत कश्‍मीर की बात करते हैं।'