मुलायम की पत्नी साधना ने दिये संकेत, फिर से पार्टी में हो सकती है कलह

लखनऊ। यूपी चुनाव के ठीक पहले सपा कुनबे में हुआ घमासान किसको नहीं याद होगा। पार्टी में कलह तो शुरू हुई थी मामूली विवाद से, लेकिन यह विवाद इतना बढ़ गया कि फैसले के लिए चुनाव आयोग का चौखट खटखटाना पड़ा था। राजनीतिक गलियारे में भी इस मसले पर खूब चर्चाए हुई। बाप, चाचा, भतीजा सब एक दूसरे के खिलाफ जंग में कूद पड़े थे। हालांकि इस पूरे मामले पर मुलायम की पत्नी और अखिलेश की सौतेली मां साधना यादव ने अंत तक चुप्पी साधे थी। लेकिन अब जब यूपी चुनाव अंतिम चरण में है ऐसे में साधना यादव ने सांकेतिक बयान दे कर अखिलेश यादव की मुश्किले बढ़ा दी है।



मीडिया से बातचीत के दौरान साधना के बयान से संकेत मिल रहे है कि पार्टी व परिवार में एक बार फिर कलह हो सकती है। बातचीत के दौरान साधना ने कहा कि अब वह मुख्य भूमिका में आना चाहती है और साथ ही अपने बेटे प्रतीक को भी सक्रिय राजनीति में लाना चाहती है। हालांकि साधना ने यह भी कहा कि अखिलेश को गुमराह कर लिया गया था जिस वजह से पिछले दिनों यह सब देखने को मिला था। अखिलेश को किसने गुमराह किया इस बात का खुलासा साधना ने नहीं किया।



सूत्रों की माने तो अखिलेश की दिली इच्छा है कि साधना और प्रतीक में से कोई भी राजनीतिक क्षेत्र में कदम न रखे। अखिलेश यादव तो प्रतीक की पत्नी अपर्णा यादव को भी टिकट देकर मैदान में उतारने के पक्ष में नहीं थे लेकिन पिता मुलायम और चाचा शिवपाल के दवाब में आकर उन्हे ऐसा करना पड़ा था। साधना के इस बयान के बाद अगर पार्टी में कोई उथल-पुथल होती है तो किसी को आश्चर्य नहीं होना चाहिए।