1. हिन्दी समाचार
  2. बिज़नेस
  3. ‘स्टील मैन ऑफ़ इंडिया’ डॉ. जमशेद जे ईरानी का निधन, टाटा स्टील में दिया था अहम योगदान

‘स्टील मैन ऑफ़ इंडिया’ डॉ. जमशेद जे ईरानी का निधन, टाटा स्टील में दिया था अहम योगदान

Jamshed J Irani: 'स्टील मैन ऑफ़ इंडिया' कहे जाने वाले जमशेद जे ईरानी (Jamshed J Irani) का 86 साल की उम्र में सोमवार देर रात जमशेदपुर में निधन हो गया। 31 अक्टूबर, 2022 को रात 10 बजे जमशेदपुर के टीएमएच (Tata Hospital) में उन्होंने आखिरी सांस ली। जेजे ईरानी 43 साल की विरासत को पीछे छोड़ते हुए जून 2011 में टाटा स्टील के बोर्ड से सेवानिवृत्त हुए, जिसने उन्हें और कंपनी को विभिन्न क्षेत्रों में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति दिलाई।

By प्रिया सिंह 
Updated Date

Jamshed J Irani: ‘स्टील मैन ऑफ़ इंडिया’ कहे जाने वाले जमशेद जे ईरानी (Jamshed J Irani) का 86 साल की उम्र में सोमवार देर रात जमशेदपुर में निधन हो गया। 31 अक्टूबर, 2022 को रात 10 बजे जमशेदपुर के टीएमएच (Tata Hospital) में उन्होंने आखिरी सांस ली। जेजे ईरानी 43 साल की विरासत को पीछे छोड़ते हुए जून 2011 में टाटा स्टील के बोर्ड से सेवानिवृत्त हुए, जिसने उन्हें और कंपनी को विभिन्न क्षेत्रों में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति दिलाई।

पढ़ें :- India vs New Zealand: न्यूजीलैंड के खिलाफ टी20 सीरीज से पहले धोनी ने दिया जीत का मंत्र! खिलाड़ियों से मुलाकात की Video आई सामने

जमशेद जे ईरानी (Jamshed J Irani)  2 जून 1936 को नागपुर में जिजी ईरानी और खोरशेद ईरानी के घर जन्मे थे। डॉ. ईरानी ने 1956 में साइंस कॉलेज, नागपुर से बीएससी और 1958 में नागपुर विश्वविद्यालय से भूविज्ञान में एमएससी पूरा किया था। इसके बाद वे जेएन टाटा स्कॉलर के रूप में यूके में शेफ़ील्ड विश्वविद्यालय गए, जहां उन्होंने 1960 में धातुकर्म में परास्नातक और 1963 में धातुकर्म में पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने 1963 में शेफील्ड में ब्रिटिश आयरन एंड स्टील रिसर्च एसोसिएशन (British Iron and Steel Research Association) के साथ अपने पेशेवर करियर की शुरुआत की।

वह 1968 में टाटा आयरन एंड स्टील कंपनी (Tata Steel) में शामिल होने के लिए भारत लौट आए। इस कंपनी में अनुसंधान और विकास के प्रभारी निदेशक के सहायक के रूप में शामिल हुए। वह 1978 में जनरल सुपरिंटेंडेंट, 1979 में जनरल मैनेजर और 1985 में टाटा स्टील के प्रेसिडेंट बने। वह 1988 में टाटा स्टील के संयुक्त प्रबंध निदेशक और 2001 में सेवानिवृत्त होने से पहले 1992 में प्रबंध निदेशक बने।

वह 1981 में टाटा स्टील (Tata Steel) के बोर्ड में शामिल हुए और 2001 से एक दशक तक गैर-कार्यकारी निदेशक भी रहे। टाटा स्टील और टाटा संस के अलावा, डॉ. ईरानी ने टाटा मोटर्स और टाटा टेलीसर्विसेज सहित टाटा समूह की कई कंपनियों के निदेशक के रूप में भी काम किया। उन्होंने 1992-93 के लिए भारतीय उद्योग परिसंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद भी संभाला।

उन्हें कई अवार्ड्स मिले थे जिसमें 1996 में रॉयल एकेडमी ऑफ इंजीनियरिंग के इंटरनेशनल फेलो के रूप में उनकी नियुक्ति और 1997 में क्वीन एलिजाबेथ द्वितीय द्वारा भारत-ब्रिटिश व्यापार और सहयोग में उनके योगदान के लिए मानद नाइटहुड शामिल है। उद्योग में उनके योगदान के लिए उन्हें 2007 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। डॉ ईरानी को धातु विज्ञान के क्षेत्र में उनकी सेवाओं के लिए 2008 में भारत सरकार द्वारा लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड भी दिया गया था।

पढ़ें :- Lucknow Alaya Apartment News: रेस्क्यू के दौरान अलाया अपार्टमेंट के मलबे से एक और महिला का शव मिला

टाटा स्टील (Tata Steel)  ने कहा कि – उन्हें एक दूरदर्शी नेता के रूप में याद किया जाएगा, जिन्होंने 1990 के दशक की शुरुआत में भारत के आर्थिक उदारीकरण के दौरान टाटा स्टील का नेतृत्व किया और भारत में इस्पात उद्योग के विकास और विकास में अत्यधिक योगदान दिया। ईरानी के परिवार में उनकी पत्नी डेज़ी ईरानी और उनके तीन बच्चे, जुबिन, नीलोफ़र और तनाज़ हैं।

चेयरमैन कोई भी हो कल्चर टाटा का ही रहेगा : जेजे ईरानी 

जेजे ईरानी (JJ Irani) ने कंपनी में हो रहे बदलाव पर कहा था कि चेयरमैन कोई भी हो कल्चर टाटा का ही रहेगा। सिद्धांत और प्रोग्राम टाटा का है। अभी टाटा स्टील के एमडी नरेंद्रन हैं, पहले ईरानी थे। कोई फर्क नहीं पड़ता। टाटा परिवार ने काम करने की जो संस्कृति है, उसी के मुताबिक सबको आगे बढ़ना होगा। वह कहा करते थे कि टाटा समूह के किसी भी फैसले में सबकी भागीदारी होती है।

डा. ईरानी ने कहा था कि किसी कंपनी की जिंदगी भी इंसान की तरह होती है। इंसान की तरह कंपनी का जन्म होता है, फिर वह बूढ़ी होती है और मर जाती है। टाटा स्टील के एमडी होने के बावजूद टाटा मोटर्स से भी उनका गहरा लगाव रहा। ईरानी ने कहा था कि टाटा मोटर्स को हिलाना किसी के लिए आसान नहीं होगा।

जगुआर और लैंडरोवर भी टाटा मोटर्स का हिस्सा है। एक जमाने में सरकार ने किसी और कंपनी को अनुमति नहीं थी। यही वजह है कि टाटा मोटर्स और लीलैंड ही भारी वाहन बनाते थे। अब सबके लिए मौका है। फिर भी हैवी व्हीकल इंडस्ट्री में टाटा मोटर्स आगे बढ़ता रहेगा। विदेशों में भी प्रोडक्शन बढ़ेगा।

पढ़ें :- सपा के विकासशील कार्यों का विरोध करते-करते भाजपा यूपी की जनता की ख़ुशियों की ही विरोधी हो गयी: अखिलेश यादव

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...