महबूबा मुफ्ती के काफिले पर पत्थरों से हमला, ड्राइवर घायल

mahbooba
महबूबा मुफ्ती के काफिले पर पत्थरों से हमला, ड्राइवर घायल

नई दिल्ली। पीडीपी नेता नेता महबूबा मुफ्ती को जम्‍मू और कश्‍मीर में सोमवार को पत्‍थरबाजी का सामना करना पड़ा। यह हमला उस समय किया गया जब वो खिरम दरगाह में मत्था टेककर लौट रहीं थीं। मिली जानकारी के अनुसार काफिले पर हमला के दौरान उन्हें किसी तरह की चोट नहीं आई. वह सुरक्षित निकल गईं। हालांकि उनके काफिले की एक गाड़ी को नुकसान हुआ है।

Stone Pelting On Mehbooba Muftis Caravan In Khiram Anantnag Jammu Kashmir :

बता दें साल 2014 के चुनाव में अनंतनाग सीट पर महबूबा मुफ्ती ने जीत दर्ज की थी। उन्हें कुल 2,00,429 वोट मिले जो कुल वोटों का 53.41 प्रतिशत था। महबूबा मुफ्ती जब अपने पिता मुफ्ती मोहम्मद सईद के निधन के बाद सीएम बनीं तो उन्होंने सांसद के पद से इस्तीफा दे दिया। इसके बाद से कानून एवं व्यवस्था की स्थिति के चलते इस सीट पर उप-चुनाव नहीं हुए। लोकसभा चुनाव 2019 में इस सीट पर तीन चरणों में चुनाव होंगे।

अनंतनाग लोकसभा क्षेत्र में 16 विधानसभा क्षेत्र हैं, जो सभी दक्षिण कश्मीर में आते हैं। ये सभी विधानसभा क्षेत्र पिछले पांच सालों से हिंसा की चपेट में हैं। दूसरी तरफ राज्य में होने वाले चुनाव भी अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिए गए हैं। फिलहाल जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रपति शासन लागू है।

जुलाई 2016 में हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकवादी बुरहान वानी की मौत के बाद राज्य में हिंसा भड़की थी, इसके बाद अलगाववादियों के जेल जाने का विरोध, एनआईए के छापे, जमात-ए-इस्लामी पर कार्रवाई, पुलवामा हमला और अनुच्छेद 370 और 35-ए को लेकर विरोध प्रदर्शन जारी है। संभवत: चुनाव आयोग के लिए यहां चुनाव कराना सबसे मुश्किल काम होगा।  

नई दिल्ली। पीडीपी नेता नेता महबूबा मुफ्ती को जम्‍मू और कश्‍मीर में सोमवार को पत्‍थरबाजी का सामना करना पड़ा। यह हमला उस समय किया गया जब वो खिरम दरगाह में मत्था टेककर लौट रहीं थीं। मिली जानकारी के अनुसार काफिले पर हमला के दौरान उन्हें किसी तरह की चोट नहीं आई. वह सुरक्षित निकल गईं। हालांकि उनके काफिले की एक गाड़ी को नुकसान हुआ है।

बता दें साल 2014 के चुनाव में अनंतनाग सीट पर महबूबा मुफ्ती ने जीत दर्ज की थी। उन्हें कुल 2,00,429 वोट मिले जो कुल वोटों का 53.41 प्रतिशत था। महबूबा मुफ्ती जब अपने पिता मुफ्ती मोहम्मद सईद के निधन के बाद सीएम बनीं तो उन्होंने सांसद के पद से इस्तीफा दे दिया। इसके बाद से कानून एवं व्यवस्था की स्थिति के चलते इस सीट पर उप-चुनाव नहीं हुए। लोकसभा चुनाव 2019 में इस सीट पर तीन चरणों में चुनाव होंगे।

अनंतनाग लोकसभा क्षेत्र में 16 विधानसभा क्षेत्र हैं, जो सभी दक्षिण कश्मीर में आते हैं। ये सभी विधानसभा क्षेत्र पिछले पांच सालों से हिंसा की चपेट में हैं। दूसरी तरफ राज्य में होने वाले चुनाव भी अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिए गए हैं। फिलहाल जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रपति शासन लागू है।

जुलाई 2016 में हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकवादी बुरहान वानी की मौत के बाद राज्य में हिंसा भड़की थी, इसके बाद अलगाववादियों के जेल जाने का विरोध, एनआईए के छापे, जमात-ए-इस्लामी पर कार्रवाई, पुलवामा हमला और अनुच्छेद 370 और 35-ए को लेकर विरोध प्रदर्शन जारी है। संभवत: चुनाव आयोग के लिए यहां चुनाव कराना सबसे मुश्किल काम होगा।