1. हिन्दी समाचार
  2. आतंक की राह पर निकला था आरिफ़, जब अपनों ने मारी गोली तब समझा कौन हैं दुश्मन

आतंक की राह पर निकला था आरिफ़, जब अपनों ने मारी गोली तब समझा कौन हैं दुश्मन

By आस्था सिंह 
Updated Date

Story Of A Injured Jihadi Who Shot By His Terrorist Friend

श्रीनगर। बीते कुछ समय पहले जब आतंकियों के दुष्प्रचार से गुमराह होकर जिहादी बनने निकाला था आरिफ़ जब उसके दिमाग में सिर्फ यही बात थी कि कश्मीरियों और इस्लाम की दुश्मन सिर्फ भारतीय फौज है। वहीं जिहादियों की राह में चलते समय जब उसके हाथ असाल्ट राइफल आई तो उसने एक वीडियो भी जारी किया जिसमें वह कह रहा था कि वह हिंदुस्तानी फौज को खदेड़ देगा, क्योंकि वह कश्मीर की दुश्मन है।

पढ़ें :- 20 जून 2021 राशिफल: इन राशि के जातक के रोजगार के बनेगे अवसर, जाने अपनी राशि का हाल

वहीं चंद दिनों मे ही उसे यह पता चल गया कि कौन है असली दुश्मन….यह बात अस्पताल के बिस्तर पर लेटा आरिफ अपने पास खड़े एक सुरक्षाकर्मी से कहता है और उससे मांफ़ी मांगते हुए कहता है कि मुझे तो तुम्हारी तरह वर्दी पहनकर देश की रक्षा के लिए बंदूक उठानी चाहिए थी। दक्षिण कश्मीर में बिजबिहाड़ा के फतेहपोरा निवासी आरिफ हुसैन बट आगे कहते हैं कि उसे और उसके एक अन्य साथी आदिल अहमद को बीती रात हिजबुल मुजाहिदीन और लश्कर के आतंकियों ने एक बैठक के लिए बुलाया था। वहां अंधेरे में वह लोग मिलने पहुंचे थे।

आरिफ ने आगे बताया कि ‘वह (हिजबुल मुजाहिदीन और लश्कर आतंकियों ने) हमारे साथ मिलकर भारतीय फौज पर कोई बड़ा हमला करना चाहते हैं, लेकिन मैं गलत था। हम बाग में पहुंचे तो हमें घेर लिया गया। हम पर जिहाद का दुश्मन और पाक के खिलाफ जाने का आरोप लगाया गया। हमें बहुत पीटा गया और हमारे हथियार भी छीन लिए गए। मेरे साथी आदिल को मेरे सामने ही गोलियों से भून डाला। उन लोगों ने मुझे नहीं मारा। मुझे हिज्ब या लश्कर का हिस्सा बनने को कहा गया। जब मैं भागने लगा तो मेरी टांग पर गोली मारी और कहा कि मैं नया हूं, इसलिए मुझे छोड़ रहे हैं।’

जिसके बाद मैं बाग में पड़ा दर्द से कराहता रहा उस वक्त यह भी डर था कि फौज मुझे नहीं छोड़ेगी। पुलिस मुझे देखते ही गोली मार देगी। लेकिन ऐसे कुछ भी नहीं हुआ बल्कि जब फौजी और कुछ आम नागरिक वहां पहुंचे तो किसी ने मुझे नहीं पीटा। फौज ने बस यही कहा कि अगर हथियार है, तो नीचे रख दो। मैंने कहा कि मुझे गोली लगी है, इसपर फौजी अफसर ने कहा कि बच गए हो, अब अच्छी जिंदगी जीना। हम यूं ही तुम्हे मरने नहीं देंगे अस्पताल ले जाएंगे। तुम्हारे घर वाले भी तुम्हे देखेंगे तो खुश होंगे।

पढ़ें :- त्वचा की देखभाल के लिए हयालूरोनिक एसिड के लाभ

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X