उत्तर प्रदेश: शाहजहांपुर में सोलर-स्ट्रीट लाइट खरीद में करोड़ों का घोटाला, रिकवरी के आदेश

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर से एक बड़ा घोटाला सामने आया है। यहां 78 गांवों में सवा करोड़ के स्ट्रीट और सोलर लाइट की खरीद में घालमेल कर अधिकारियों ने घोटाले को अंजाम दे डाला। दिलचस्प बात यह है कि इस घोटाले का खुलासा खुद मुख्य विकास अधिकारी(सीडीओ) ने किया है।फिलहाल सवा करोड़ की हुई लाइट खरीद में रिकवरी की कार्रवाई की जा रही है, साथ ही प्रधानों और सचिवों को नोटिस जारी की गई है।

मुख्य विकास अधिकारी संजीव कुमार सिंह के मुताबिक, उन्होंने बंडा और खुटार विकासखंड क्षेत्र की 78 ग्राम पंचायतों में पांच सदस्यीय समिति गठित कर जांच कराई है, जिसमें स्ट्रीट और सोलर लाइट लगाने में करीब सवा करोड़ रुपये से ज्यादा की सरकारी राशि के गबन का खुलासा हुआ है।

{ यह भी पढ़ें:- योगी सरकार में भी नहीं माने घोटालेबाज, 5000 नर्सों की भर्ती में सामने आई धांधली }

ऐसे हुआ बंदरबांट-

शहाजहांपुर के बंडा और खुटार के गांव की गलियों में लगने वाली एक स्ट्रीट लाइट की कीमत 5440 रुपए चुकाई गई, जबकि बाजार में इसकी कीमत महज एक हजार रुपए है। सोलर लाइट के लिए 22 हजार आठ सौ का भुगतान किया गया, जबकि बाजार में इसकी कीमत महज 10 हजार रुपए ही है। इन लाइटों की सप्लाई दोनों ब्लॉक के 78 गांवों में की गई थी।

{ यह भी पढ़ें:- यूपी: PWD में करोड़ों का घोटाला, कागजों पर दोबारा बना डाली सड़कें }

लाइटों की खरीद में प्रधानों और ग्राम सेकेट्री ने मिलकर सवा करोड़ का घोटाला कर दिया। इन सभी लाइटों की सप्लाई इलाके की एक ही फर्म के जरिए की गई। सीडीओ ने घोटालेबाजों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करते हुए सवा करोड़ रुपए की रिकवरी करने के आदेश जारी किए हैं। इसके साथ ही ग्राम प्रधानों और सचिवों को नोटिस जारी किए गए हैं।

इस खुलासे के बाद अब जनपद के बाकी बचे ब्लॉकों में भी जांच के आदेश दिए गए हैं। आशंका है कि ये घोटाला अभी बढ़कर कई करोड़ों में पहुंच सकता है।

{ यह भी पढ़ें:- पंचायती राज घोटाला: 12 अफसरों पर गिरी गाज, CM योगी ने दिये विजिलेंस जांच के आदेश }

Loading...