1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. श्रीलंका: फिदायीन हमलों के बाद कानून हुए सक्त, बुर्का-नकाब समेत चेहरा ढकने वाली सभी चीजें बैन

श्रीलंका: फिदायीन हमलों के बाद कानून हुए सक्त, बुर्का-नकाब समेत चेहरा ढकने वाली सभी चीजें बैन

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

नई दिल्ली। पड़ोसी देश श्रीलंका में किसी भी तरह से चेहरा ढंकने पर प्रतिबंध लगाया गया है। इसको लेकर रविवार को राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने आदेश जारी किया। 21 अप्रैल को श्रीलंका में हुए धमाकों में 253 लोगों की मौत हो गई थी। सिरिसेना ने कहा कि उन्होंने आपातकालीन शक्तियों का इस्तेमाल करते हुए चेहरा ढंकने को प्रतिबंधित करने का आदेश दिया है।

दरअसल, यह ऑर्डर सोमवार से प्रभावी हो गया। राष्ट्रपति कार्यालय के बयान के मुताबिक- प्रतिबंध का ताल्लुक देश की सुरक्षा से है। व्यक्ति का चेहरा ढंका होने से उसकी पहचान में मुश्किल होती है। लिहाजा अब कोई भी चेहरा ढंककर नहीं चल सकेगा। हाल ही में स्थानीय मुस्लिम धर्मगुरुओं ने भी महिलाओं से अपील की थी कि वे चेहरे को न ढंकें। इस्लामिक चरमपंथियों द्वारा धमाके किए जाने के बाद देश का मुस्लिम समुदाय खौफ में है।

वहीं, प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने कहा, श्रीलंकाई सेना ने ईस्टर के दिन हुए फिदायीन धमाकों से जुड़े इस्लामिक चरमपंथियों पर कड़ी कार्रवाई की। सेना ने कई चरमपंथियों को मार गिराया या फिर गिरफ्तार कर लिया है। देश वापस सामान्य स्थिति के लिए तैयार है। प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार के पास इस्लामिक चरमपंथियों और देश में गैरकानूनी तरीके से रह रहे विदेशी धर्मगुरुओं के साथ सख्ती से निपटने के लिए कड़ा कानून है।

बता दें, बट्टीकलोआ में ही एक और ठिकाने पर छापेमारी के दौरान पुलिस को इस्लामिक स्टेट के झंडे, मिलिट्री की वर्दी, सुसाइड जैकेट, 150 जिलेटिन की छड़ें, हजारों स्टील पैलेट और ड्रोन कैमरे मिले। शुक्रवार शाम को ही सुरक्षा परिषद की बैठक में अधिकारियों ने फैसला लिया था कि आतंकियों को पकड़ने के लिए सर्च ऑपरेशन तब तक जारी रहेगा, जब तक खतरा पूरी तरह हट नहीं जाए।

यही नहीं सीरियल ब्लास्ट के बाद से ही करीब 10 हजार सैनिक आतंकी ठिकानों पर छापेमारी में जुटे हैं। अब तक करीब 100 लोगों को हिरासत में लिया जा चुका है। इसमें पाकिस्तानी नागरिकों का एक समूह भी शामिल है। राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने शुक्रवार को कहा था कि इस्लामिक स्टेट से जुड़े 140 संदिग्धों की खोज की जा रही है। गौरतलब है कि श्रीलंका में बौद्ध बहुसंख्यक हैं। यहां पर मुस्लिम कुल आबादी का 10% यानी 2 करोड़ 10 लाख हैं। ज्यादातर श्रीलंकाई मुस्लिम उदारवादी हैं। कम ही मुस्लिम महिलाएं नकाब पहनती हैं।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...